Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीतिजमीन घोटालों के आरोपित रॉबर्ट वाड्रा अस्पताल में भर्ती: पीठ-पैर में है दर्द, रात...

जमीन घोटालों के आरोपित रॉबर्ट वाड्रा अस्पताल में भर्ती: पीठ-पैर में है दर्द, रात भर साथ रहीं प्रियंका

वाड्रा के बारे में हॉस्पिटल प्रशासन ने अभी अधिक जानकारी नहीं दी है। अस्पताल में स्थानीय कॉन्ग्रेस नेताओं के अलावा दिल्ली से भी कई कॉन्ग्रेस नेता पहुँच कर उनका हालचाल ले रहे हैं।

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा को पीठ और पैर में दर्द की शिकायत के बाद नोएडा के मेट्रो अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी पत्नी और कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी भी रात भर उनके साथ रहीं। दर्द की शिकायत के बाद वह सेक्टर 11 में स्थित मेट्रो हॉस्पिटल पहुँचे, जहाँ उन्हें डॉक्टरों की सलाह के बाद भर्ती कर लिया गया। वाड्रा के वहाँ भर्ती होने की सूचना के बाद प्रियंका गाँधी भी शाम को क़रीब 7.30 बजे अस्पताल पहुँचीं और डॉक्टरों से उनके स्वास्थ्य की जानकारी लीं।

हालाँकि, प्रियंका गाँधी थोड़ी देर के बाद ही हॉस्पिटल से निकल गईं लेकिन रात के क़रीब 10.30 बजे उन्होंने फिर से हॉस्पिटल का रुख किया। इसके बाद से वह रात भर अपने पति के साथ ही रहीं। रात में क़रीब 9 घंटे तक प्रियंका गाँधी मेट्रो अस्पताल में ही थीं। रॉबर्ट वाड्रा और प्रियंका गाँधी की मौजूदगी के कारण पूरे हॉस्पिटल को एसपीजी ने अपने सुरक्षा घेरे में ले लिया है। हॉस्पिटल के वरिष्ठ ऑर्थोपेडिक सर्जन वाड्रा की पीठ और पैर में दर्द का इलाज कर रहे हैं।

जिस दिन वाड्रा अस्पताल में भर्ती हुए, उसी दिन महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान हुआ। शाम को आए एग्जिट पोल में कॉन्ग्रेस और उसकी सहयोगी पार्टियों की बुरी हार होती दिख रही है। भाजपा दोनों ही राज्यों में फिर से प्रचंड बहुमत से सरकार बनाती दिख रही है। शाम को जब प्रियंका गाँधी अस्पताल में पहुँचीं, उसी समय विभिन्न न्यूज़ चैनलों पर एग्जिट पोल्स में कॉन्ग्रेस की बड़ी हार का अनुमान लगाया जा रहा था। नतीजे 24 अक्टूबर को आने वाले हैं।

रॉबर्ट वाड्रा पहले ही ही कई ज़मीन विवादों में सरकारी जाँच एजेंसियों के रडार पर हैं। उन्हें अदालत से विदेश जाने की अनुमति मिली थी, जिसके बाद उन्होंने स्पेन के पवित्र ईसाई स्थलों का दौरा किया था। वहाँ उन्होंने ब्लैक मडोना का दर्शन किया था। वाड्रा के बारे में हॉस्पिटल प्रशासन ने अभी अधिक जानकारी नहीं दी है। अस्पताल में स्थानीय कॉन्ग्रेस नेताओं के अलावा दिल्ली से भी कई कॉन्ग्रेस नेता पहुँच कर उनका हालचाल ले रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe