Wednesday, July 17, 2024
Homeराजनीतिअमेठी के 'राजा' राज्यसभा सांसद ने छोड़ी कॉन्ग्रेस, भाजपा में हो सकते हैं शामिल

अमेठी के ‘राजा’ राज्यसभा सांसद ने छोड़ी कॉन्ग्रेस, भाजपा में हो सकते हैं शामिल

अमेठी के राजपरिवार के सदस्य संजय सिंह ने इस लोक सभा चुनाव में सुल्तानपुर सीट से दावा ठोंका था। लेकिन मोदी लहर में वह अपनी ज़मानत भी नहीं बचा पाए थे।

अमेठी के भूतपूर्व राजपरिवार के सदस्य और कॉन्ग्रेस के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह कॉन्ग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल हो सकते हैं। उन्होंने आज (मंगलवार, 30 जुलाई) को पार्टी और राज्यसभा सदस्यता से इस्तीफ़ा दे दिया है। उन्होंने दावा किया कि वह कल भाजपा में शामिल होंगे

जमानत नहीं बचा पाए थे मोदी लहर में

अमेठी के राजपरिवार के सदस्य संजय सिंह ने इस लोक सभा चुनाव में सुल्तानपुर सीट से दावा ठोंका था। लेकिन मोदी लहर में वह अपनी ज़मानत भी नहीं बचा पाए थे। उनका परिवार पारम्परिक रूप से कॉन्ग्रेस समर्थक माना जाता है, हालाँकि उनकी पहली पत्नी गरिमा सिंह भाजपा से अमेठी की विधायक हैं।

भाजपा में बनेगी ‘असहज स्थिति’?

संजय सिंह की विधायक पत्नी गरिमा सिंह और उनके बच्चों का अमेठी राजघराने की लड़ाई में भाजपा ने संजय सिंह और उनकी दूसरी पत्नी अमीता सिंह के खिलाफ समर्थन किया था। पिछले विधानसभा चुनावों में कॉन्ग्रेस प्रत्याशी जहाँ अमीता सिंह थीं, वहीं भाजपा ने अमेठी की जनता में संजय सिंह की पहली पत्नी गरिमा के प्रति स्थानीय जनता की सहानुभूति और गरिमा को राजमहल से बेदखल करने से उपजे आक्रोश पर दाँव लगाते हुए गरिमा को टिकट दिया था। राजपरिवार के पारम्परिक भूपति भवन पर 2014 में गरिमा के दावे का भी स्थानीय लोगों ने इकट्ठे होकर समर्थन किया था, जिसमें पुलिस को फायरिंग करनी पड़ गई थी। 2017 में पूर्व प्रधानमंत्री और राजा मांडा वीपी सिंह की रिश्तेदार गरिमा की जीत को भाजपा ने पारिवारिक ड्रामे में संजय सिंह के खिलाफ जनता का जनादेश बताया था। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि अब राजपरिवार के विवाद पर भाजपा का क्या स्टैंड होगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -