महाराष्ट्र में मोदी: विपक्ष को कहा- डूब मरो, सावरकर को याद कर बोले- अंतिम सॉंसें गिन रही कॉन्ग्रेस

"राजनीति के स्वार्थ में डूबे हुए लोग, परिवार के कल्याण में खोए हुए लोग कह रहे हैं कि महाराष्ट्र का कश्मीर से क्या लेना-देना? मैं हैरान हूँ कि छत्रपति शिवाजी की धरती पर आजकल राजनीतिक स्वार्थ के कारण ऐसी आवाजें उठाई जा रही हैं।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष के उन नेताओं को डूब मरने की सलाह दी जो पूछ रहे हैं कि महाराष्ट्र के चुनाव से
जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने का क्या वास्ता है। वे महाराष्ट्र के अकोला में बुधवार को चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे। राज्य में विधानसभा चुनाव के लिए 21 अक्टूबर को वोट डाले जाएँगे। भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में सावरकर को भारत रत्न देने का वादा किया है।

रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, “ये वीर सावरकर के ही संस्कार हैं कि राष्ट्रवाद को हमने राष्ट्र निर्माण के मूल में रखा है। वीर सावरकर को आए दिन गालियाँ देने वाले, उनका अपमान करने वाले वही लोग हैं जिन्होंने बाबा साहेब आंबेडकर का कदम-कदम पर अपमान किया। उनको दशकों तक भारत रत्न से वंचित रखा।”

अनुच्छेद 370 का मामला उठाते उन्होंने कहा, “राजनीति के स्वार्थ में डूबे हुए लोग, परिवार के कल्याण में खोए हुए लोग कहने की हिम्मत करते हैं कि महाराष्ट्र का कश्मीर से क्या लेना-देना? मैं हैरान हूँ कि छत्रपति शिवाजी की धरती पर आजकल राजनीतिक स्वार्थ के कारण ऐसी आवाजें उठाई जा रही हैं। इनकी बेशर्मी देखिए कि ये खुलेआम कह रहे हैं कि महाराष्ट्र के चुनाव से अनुच्छेद 370 का क्या लेना देना? महाराष्ट्र से जम्मू कश्मीर का क्या संबंध?”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महाराष्ट्र और जम्मू-कश्मीर के बीच संबंध उठाने वालों को डूब मरने की सलाह दी और जवाब दिया, “मैं ऐसे लोगों को कहना चाहता हूँ कि जम्मू-कश्मीर और वहाँ के लोग भी माँ भारती की ही संताने हैं।” उन्होंने कहा, ” राजनैतिक फायदा लेने के लिए इन लोगों की सोच ने मुझे भीतर तक दुखी किया। ये कैसे पूछ सकते हैं महाराष्ट्र का और जम्मू-कश्मीर का क्या संबंध हैं…डूब मरो, डूब मरो।”

प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान महाराष्ट्र की जनता से कहा, “जब आप सब आर्टिकल 370 के निष्प्रभावी होने पर खुश हैं, तब वे दर्द में हैं।” उन्होंने बताया कि ऐसे लोग भारत को विभाजित देखना चाहते हैं, सर्वश्रेष्ठ होते नहीं। वे बिखरा भारत देखना चाहते हैं, झगड़ता भारत देखना चाहते हैं। लेकिन उनकी हर कोशिश नाकाम हो रही है।

इसके बाद पीएम मोदी ने पुरतूर की बैठक में भाषण देते हुए कॉन्ग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा, “परिवारवाद के नीचे कॉन्ग्रेस का राष्ट्रवाद दब चुका है, परिवार भक्ति में ही कॉन्ग्रेस को राष्ट्र भक्ति नजर आती है। यही वजह है कि कॉन्ग्रेस आज लड़खड़ा रही है और अंतिम साँस ले रही है।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

अयोध्या राम मंदिर, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे
राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद उद्धव ने 24 नवंबर को अयोध्या जाने का ऐलान किया था। पिछले साल उन्होंने राम मंदिर के लिए 'चलो अयोध्या' आंदोलन की शुरुआत की थी। नारा दिया था- पहले मंदिर फिर सरकार।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,514फैंसलाइक करें
23,114फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: