Tuesday, June 28, 2022
Homeराजनीतिअमित शाह के बेटे को घेरने के फेर में चिदंबरम के सांसद बेटे ने...

अमित शाह के बेटे को घेरने के फेर में चिदंबरम के सांसद बेटे ने खुद की कराई जगहॅंसाई

एक यूजर ने लिखा कि खुद को टेनिस के शौकीन कहने वाले कार्ति ऑल इंडिया टेनिस एसोसिएशन के उपाध्यक्ष थे। मनमाना फैसले की आदत के कारण उन्हें एसोसिएशन से बाहर कर दिया गया था।

कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदंबरम इन दिनों आईएनएक्स मीडिया स्कैम में तिहाड़ में बंद हैं। उनके सांसद बेटे कार्ति चिदंबरम भी घोटाले में आरोपित हैं। अब कार्ति ने एक ऐसा कारनामा किया है जिससे वे खुद की जगहॅंसाई करवा बैठे।

असल में, कार्ति की मंशा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह को घेरने की थी। जय बीसीसीआई के सचिव बने। उन्हें निशाना बनाते हुए कार्ति ने ट्वीट किया, “क्या होता अगर मेरे पिता के गृह मंत्री रहते हुए मुझे बीसीसीआई का सचिव चुना जाता। उस समय राष्ट्रवादी और भक्त इस पर कैसी प्रतिक्रिया देते?” लेकिन यह पैंतरा उन पर ही भारी पड़ गया। लोगों ने सोशल मीडिया में उनकी पोल खोलते हुए बताया कि वे किन-किन खेलों की संस्था से जुड़े रहे हैं।

सोशल मीडिया यूजर्स ने कार्ति को याद दिलाया कि जब यूपीए की सरकार थी तब वह खुद कई खेल संस्थाओं में आसीन थे।

एक यूजर ने लिखा कि खुद को टेनिस के शौकीन कहने वाले कार्ति ऑल इंडिया टेनिस एसोसिएशन के उपाध्यक्ष थे। मनमाना फैसले की आदत के कारण उन्हें एसोसिएशन से बाहर कर दिया गया था।

बता दें कि इस समय कार्ति चिदंबरम ऑल इंडिया कराटे-डू फेडरेशन के मुख्य संरक्षक हैं और टेनपिन बॉलिंग फेडरेशन ऑफ़ इंडिया के प्रमुख भी।

कई लोगों ने कार्ति का मजाक उड़ाते हुए कहा कि वे बीसीसीआई के सचिव जैसे पद के लिए क्यों परेशान हो रहे हैं। उन्होंने तो इससे भी बड़े-बड़े काम किए हैं। मसलन, कम्पनियाँ बनाना, करोड़ों कमाना और पूरी दुनिया में संपत्ति खरीदना।

लोगों ने यहाँ तक कहा है कि कार्ति चिदंबरम कैसी बात कर रहे हैं? उनकी थाली में तो पहले से ही बहुत कुछ है। लेकिन फिर भी वो जनता का पैसा खाना चाहते हैं?

गौरतलब है कि जय शाह के बीसीसीआई सचिव बनने के बाद से उन्हें बदनाम करने के लिए सोशल मीडिया में कई तरह का प्रोपगेंडा चल रहा है। लेकिन शायद कॉन्ग्रेसियों को याद नहीं है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत जैसे उनके नेता भी खेल प्रशासन से जुड़े हुए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उद्धव ठाकरे के पास शिवसेना भी नहीं छोड़ेंगे एकनाथ शिंदे: बताया इरादा, कहा- 50 MLA साथ; अब मुंबई कूच करेंगे

किसी दूसरी पार्टी में विलय के लिए दो तिहाई सदस्यों के इस्तीफे की जरूरत होती है। शिवसेना तोड़ने के लिए नगर इकाइयों का समर्थन भी चाहिए होगा।

अपने फोन में क्या छिपाना चाह रहा है जुबैर? नहीं दे रहा सवालों के जवाब, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स भी नहीं सौंपे: यहाँ देखें FIR और...

मोहम्मद जुबैर ने अपने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के बारे में भी पुलिस को कोई जानकारी नहीं दी है। वो कह रहा है कि उसका फोन खो गया है। देखें FIR कॉपी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,941FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe