Sunday, August 1, 2021
Homeराजनीतिमोदी के 'चुनाव लड़ने की हिम्मत ही नहीं' पर पवार ने माना - हाँ,...

मोदी के ‘चुनाव लड़ने की हिम्मत ही नहीं’ पर पवार ने माना – हाँ, गलती हो गई

"उनमें तो सतारा से लोकसभा चुनाव लड़ने की भी हिम्मत नहीं थी। शरद राव (पवार) शरद राव (पवार) हैं। उन्हें हवा का रुख पता है। इसीलिए उन्होंने साफ़ मना कर दिया।"

राकांपा प्रमुख और पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार ने माना कि उनसे सतारा के लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवार चुनने में ‘गलती’ हो गई। अपने पुराने गढ़ सतारा में दिया गया उनका यह बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस बयान के बाद आया है, जिसमें उन्होंने पवार के लिए कहा था कि उनमें लोकसभा चुनाव के मैदान में उतरने की हिम्मत ही नहीं थी।

कुछ महीने पहले हुए लोकसभा चुनाव में राकांपा ने सतारा से उदयराज भोंसले को उतारा था, जो शिवाजी महाराज के वंशज हैं। सीट जीतने वाले भोंसले ने महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के पहले झटक कर भाजपा से हाथ मिला लिया था। भाजपा ने उन्हें फिर से उपचुनाव में उतारा है। इसके अलावा विधानसभा में भी सतारा का प्रतिनिधित्व करने वाले शिवाजी के ही एक दूसरे वंशज शिवेंद्रराजे भोंसले भी भाजपा में शामिल हो गए हैं।

पवार की राष्ट्रवादी कॉन्ग्रेस पार्टी ने उदयराज के विरुद्ध इस बार श्रीनिवास पाटिल को टिकट दिया है। 78 साल के पाटिल भारतीय प्रशासकीय सेवा (IAS) में सेवारत रहने के अलावा 2013 से 2018 तक उत्तर-पूर्वी राज्य सिक्किम में भी गवर्नर के तौर पर सेवाएँ दे चुके हैं

पार्टी के गढ़ सतारा में उदयराज भोंसले को लोकसभा उम्मीदवार बनाने के निर्णय की भूल को स्वीकार करते हुए पवार ने शुक्रवार को कहा, “जब कोई गलती करता है, तो उसे मान लेना चाहिए। मैंने लोकसभा चुनाव का उम्मीदवार चुनने में गलती कर दी। लेकिन मुझे खुशी है कि उस गलती का सुधार करने के लिए सतारा का हर बूढ़ा-जवान 21 अक्टूबर का इंतज़ार कर रहा है।”

भारी बारिश में भीगते हुए भी अपना भाषण जारी रखते हुए पवार ने इकट्ठा श्रोताओं से कहा, “वरुण राजा ने 21 अक्टूबर के चुनाव के लिए राकांपा को आशीर्वाद दिया है। और वरुण राजा के आशीर्वाद से सतारा जिला महाराष्ट्र में चमत्कार करेगा। उस चमत्कार की शुरुआत 21 अक्टूबर से होगी।”

80-वर्षीय पवार पर हमला बोलते हुए मोदी ने सतारा की एक रैली में कहा था, “उनमें तो सतारा से लोकसभा चुनाव लड़ने की भी हिम्मत नहीं थी।” मोदी ने विपक्ष पर जम्मू-कश्मीर और वहाँ से हटाए गए अनुच्छेद 370 से मिले विशेष दर्जे को लेकर बँटवारे की राजनीति करने का इल्ज़ाम लगाया था

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के अनुसार मोदी ने यह भी कहा था, “शरद राव (पवार) शरद राव (पवार) हैं। उन्हें हवा का रुख पता है। इसीलिए उन्होंने साफ़ मना कर दिया।” सोमवार (21 अक्टूबर, 2019) को महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव होने हैं, जिनके नतीजे 24 अक्टूबर को आ जाएँगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मानसिक-शारीरिक शोषण से धर्म परिवर्तन और निकाह गैर-कानूनी: हिन्दू युवती के अपहरण-निकाह मामले में इलाहाबाद HC

आरोपित जावेद अंसारी ने उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' के खिलाफ बने कानून के तहत हो रही कार्रवाई को रोकने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट का रुख किया था।

गोविंद देव मंदिर: हिंदू घृणा के कारण औरंगजेब ने जिसे आधा ढाह दिया… और उसके ऊपर इस्लामिक गुंबद बना नमाज पढ़ी

भगवान गोविंद देव अर्थात श्रीकृष्ण का यह मंदिर वृंदावन के सबसे पुराने मंदिरों में से एक। मंदिर के विशालकाय दीपक की चमक इसकी शत्रु साबित हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,352FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe