Monday, July 26, 2021
HomeराजनीतिSiddhu ने अपनी घरवाली का किया बचाव: मेरी पत्नी कभी झूठ नहीं बोलती

Siddhu ने अपनी घरवाली का किया बचाव: मेरी पत्नी कभी झूठ नहीं बोलती

सिद्धू की पत्नी ने अमृतसर की लोकसभा सीट के लिए दावा किया था लेकिन पार्टी ने इस सीट पर पूर्व रेल मंत्री पवन कुमार बंसल को उम्मीदवार बनाया। नवजोत ने मीडिया से हुई बातचीत खुद को टिकट न मिलने की वजह को भी बताया।

अमृतसर संसदीय सीट से टिकट न मिलने पर कॉन्ग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी (नवजोत कौर) ने मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के ख़िलाफ़ खुलकर नाराज़गी जताई है। इसके बाद सिद्धू ने भी अपनी पत्नी का बचाव करते हुए कहा कि उनकी पत्नी कभी झूठ नहीं बोलेगी।

गौरतलब है सिद्धू की पत्नी ने कल (मई 16, 2019) स्पष्ट कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू से पंजाब में इसलिए प्रचार नहीं कराया जा रहा है क्योंकि कैप्टन अमरिंदर सिंह ऐसा नहीं चाहते हैं। बता दें मीडिया में खबर यह आई थी कि सिद्धू के गले में समस्या है, जिसका इलाज चल रहा है, इसलिए वह प्रचार से दूर हैं। जबकि नवजोत कौर ने अपने बयान में कहा था कि कॉन्ग्रेस पार्टी को सिद्धू की जरूरत ही नहीं है, इसीलिए उनसे पंजाब में प्रचार नहीं कराया जा रहा है।

हालाँकि पंजाब के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू से जब उनकी पत्नी के आरोपों के बारे में गुरुवार (मई 16, 2019) को सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, “मेरी पत्नी नैतिक रूप से इतनी मजबूत हैं कि वह कभी झूठ नहीं बोलेंगी। यही मेरा जवाब है।”

सिद्धू की पत्नी ने अमृतसर की लोकसभा सीट के लिए दावा किया था लेकिन पार्टी ने इस सीट पर पूर्व रेल मंत्री पवन कुमार बंसल को उम्मीदवार बनाया। चंडीगढ़ से बंसल 4 बार सांसद रह चुके हैं। नवजोत ने मीडिया से हुई बातचीत खुद को टिकट न मिलने की वजह को भी बताया।

उन्होंने कहा, “कैप्टन साहब और आशा कुमारी सोचती हैं कि मैडम सिद्धू संसदीय सीट का टिकट पाने की हकदार नहीं हैं। मुझे अमृतसर से टिकट बीते साल अमृतसर में हुए दशहरा रेल हादसे के कारण नहीं दिया गया, क्योंकि उन्हें लगता है मैं जीत नहीं पाऊँगी।” एएनआई के हालिया ट्वीट के मुताबिक उन्होंने कहा है कि अमृतसर उनकी होम सीट है। ये उनके साथ नाइंसाफ़ी है कि उन्हें भटिंडा जाने के लिए कहा जाए। उनका कहना है कि वो वहाँ पर किसी को भी नहीं जानती हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिल्पकार के नाम से प्रसिद्ध दुनिया का ‘इकलौता’ मंदिर, पानी में तैरने वाले पत्थरों से निर्माण: तेलंगाना का रामप्पा मंदिर

UNESCO के विरासत स्थलों में शामिल है तेलंगाना के वारंगल स्थित काकतीय रुद्रेश्वर या रामप्पा मंदिर। 12वीं शताब्दी में निर्मित मंदिर कुछ विशेष कारणों से है अद्वितीय।

कारगिल के 22 साल: ‘फर्ज पूरा होने से पहले मौत आई तो प्रण लेता हूँ मैं मौत को मार डालूँगा’

भारतीय सैनिकों के ऊपर 60-70 मशीनगन लगातार फायरिंग कर रही थी। गोले बरस रहे थे। फिर भी कैप्टन मनोज पांडे टुकड़ी के साथ आगे बढ़ रहे थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,222FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe