Monday, November 29, 2021
Homeराजनीति8 मामलों में नहीं मिली बेल, एसआईटी ने 2 घंटे की पूछताछ, आजम बोले-...

8 मामलों में नहीं मिली बेल, एसआईटी ने 2 घंटे की पूछताछ, आजम बोले- अब बहुत हुआ

इसी गुरुवार को रामपुर की जिला अदालत ने आजम खान, उनकी पत्नी तन्जीन फातिमा और बेटे अब्दुल्लाह आजम पर फर्जी जन्म प्रमाण-पत्र बनवाने के मामले में जमानती वारंट जारी किया है। जिसकी सुनवाई 29 अक्टूबर को होनी है।

उत्तर प्रदेश के रामपुर से सपा सांसद एवं कई आपराधिक मामलों के आरोपित आजम खान कल यानी शनिवार (अक्टूबर 5, 2019) को स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम के सामने पूछताछ के लिए पेश हुए। 2 घंटे से ज्यादा उनसे पूछताछ की गई।

पूछताछ के बाद आजम खान ने बताया, “इन मामलों के संबंध में मुझसे 2 बार पहले भी पूछताछ हो चुकी है। हाल ही में मुझे 4 बार जाँच के लिए बुलाया गया। इसका मतलब है कि अब तक कुल 6 बार मेरी जाँच की जा चुकी है । अब बस बहुत हुआ।”

उन्होंने कहा, “मैंने अब तक कम से कम 3 बार उनके सवालों के जवाब लिखित में दिए हैं और साथ ही मैंने उपयुक्त दस्तावेज भी दिखाए हैं।”

बता दें कि शनिवार को रामपुर की कोर्ट से भी आजम खान को बड़ा झटका मिला। कोर्ट ने आजम खां की आठ मामलों में अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया। दलीलें सुनने के बाद आजम खान की याचिका को खारिज कर दिया गया। इसमें सभी मामले शहर कोतवाली से संबंधित हैं।

इससे पहले आजम खान 2 अक्टूबर को अपने परिवार के साथ जौहर यूनिवर्सिटी से जुड़े मामले के संबंध में बयान दर्ज करवाने के लिए एसआईटी के सामने पेश हुए थे। इस दौरान जाँच टीम ने सपा सांसद से 150 सवाल पूछे थे। जिसके बाद उन्होंने बयान दिया था कि उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है।

वे निगम भर्ती घोटाले मामले में एसआईटी जाँच के बाद भी मीडिया से पूछते हुए नजर आए थे कि क्या ऐसा हो सकता है कि चार बार मंत्री और 9 बार विधायक रह चुका इंसान बकरी चुराता फिरे। उन्होंने आरोप लगाया था कि उनके ऊपर दर्जनों मुकदमे पिछला लोकसभा चुनाव जीतने के बाद से ही लादे जा रहे हैं, जबकि योगी सरकार तो ढाई साल से है।

गौरतलब है कि इसी गुरुवार (अक्टूबर 3, 2019) को रामपुर की जिला अदालत ने आजम खान, उनकी पत्नी तन्जीन फातिमा और बेटे अब्दुल्लाह आजम पर फर्जी जन्म प्रमाण-पत्र बनवाने के मामले में जमानती वारंट जारी किया है। जिसकी सुनवाई अब 29 अक्टूबर को होगी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,346FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe