कॉन्ग्रेस-जेडीएस के बीच दरार बढ़ी, देवगौड़ा के पोते ने कहा, कभी भी हो सकते हैं चुनाव

कुमारस्वामी के बेटे निखिल का कहना है कि कॉन्ग्रेस और जेडीएस के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती जा रही है इसलिए राज्य में कभी भी चुनाव सकते हैं, इसलिए पहले से ही तैयार रहें।

कर्नाटक में सत्तारूढ़ कॉन्ग्रेस और जेडीएस के बीच अविश्वास की खाई लगातार बढ़ती जा रही है। ख़बर के अनुसार, मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के बेटे निखिल का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ है जिसमें वह पार्टी कार्यकर्ताओं को विधानसभा चुनाव के लिए तैयार रहने को कहते नज़र आ रहे हैं। उनका कहना है कि कॉन्ग्रेस और जेडीएस के बीच रिश्तों में खटास बढ़ती जा रही है इसलिए राज्य में कभी भी चुनाव सकते हैं, हो सकता है कि चुनाव अगले साल या दो या तीन साल बाद भी हो जाएँ, इसलिए पहले से ही तैयार रहें।

इस वीडियो के अनुसार, निखिल ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि चुनाव के लिए हमें अभी से तैयारी शुरू कर देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि फ़िलहाल यह नहीं कहा जा सकता कि तैयारियाँ बाद में कर लेंगे, इसके लिए ख़ुद को अगले महीने से तैयार करना होगा। वर्तमान स्थिति को देखते हुए यह लग रहा है कि पता नहीं कब चुनाव हो जाएँ। इसलिए जेडीएस नेताओं को हर परिस्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहना चाहिए।

इससे पहले भी कॉन्ग्रेस और जेडीएस गठबंधन के बीच दरार की ख़बरें सामने आ चुकी हैं। इसकी वजह यह भी है कि लोकसभा चुनाव में दोनों पार्टियों का वोट एक-दूसरे को ट्रांसफर नहीं हुआ, जिसकी उम्मीद की जा रही थी। जेडीएस सुरेश गौड़ा ने कॉन्ग्रेस पर आरोप लगाया था कि मांड्या क्षेत्र में बीजेपी को कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने ही वोट दिया है। सुरेश गौड़ा ने यहाँ तक कॉन्ग्रेस पर निशाना साधते हुए पूछा था कि उनके कार्यकर्ता आख़िर किसे प्रधानमंत्री बनाना चाहते हैं, नरेंद्र मोदी को या राहुल गाँधी को?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

वहीं, बीजेपी नेता येदियुरप्पा ने भी दावा किया था कि में राज्य की वर्तमान कॉन्ग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार से कॉन्ग्रेसी खेमा नाख़ुश नज़र आ रहा है। अपने बयान में उन्होंने कहा था कि कॉन्ग्रेस के लगभग 20 विधायक ऐसे हैं जो परेशान होकर कभी भी कोई फ़ैसला ले सकते हैं, बस थोड़ा इंतज़ार कीजिए।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

बड़ी ख़बर

महाराष्ट्र ओपिनियन पोल
देवेंद्र फडणवीस को 39% लोगों ने मुख्यमंत्री के लिए पहली पसंद माना है जबकि 6% लोग उद्धव ठाकरे के पक्ष में थे। बता दें कि उद्धव की शिवसेना भी राजग का हिस्सा है।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

92,030फैंसलाइक करें
15,511फॉलोवर्सफॉलो करें
98,500सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: