अब सांसदों पर निगरानी रखना होगा आसान, सुमित्रा महाजन ने इस वेबसाइट का किया लोकार्पण

पार्लियामेंट्री बिजनेस डॉट कॉम वेबसाइट के जरिये जनता और सांसदों के बीच संवाद को आसान बनाया जाएगा।

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सांसदों पर निगरानी रखने के लिए एक ऑनलाइन वेबसाइट का लोकार्पण किया है। इस वेबसाइट के जरिये जनता सीधे अपने जनप्रतिनिधियों से जुड़ सकेगी। इस वेबसाइट का नाम पार्लियामेंट्री बिजनेस डॉट कॉम दिया गया है। इस वेबसाइट की जिम्मेदारी प्रबंध संपादक के रूप में नीरज गुप्ता को दी गई है। नीरज गुप्ता ने लोकार्पण के दौरान बताया कि इस वेबसाइट के लांच होने के बाद जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधियों की जवाबदेही तय होगी।

संवाद आसान बनाने की पहल

इस वेबसाइट के जरिये जनता और सांसदों के बीच संवाद को आसान बनाया जाएगा। इस वेबसाइट पर लॉगिन के बाद आप अपने क्षेत्र के सांसद को किसी भी समस्या से अवगत करा सकते हैं। इस तरह अपनी बात को जनप्रतिनिधियों के सामने रखने के लिए आपको कहीं भी जाने की जरूरत नहीं है।  

सदन की कार्यवाही का हर पल अपडेट

आपको बता दें कि सदन से जुड़ी जानकारी के लिए सत्र खत्म होने का इंतजार नहीं करना होगा। इस वेबसाइट के जरिये देश भर के सांसद जुड़े होंगे। इन सांसदों के काम-काज से लेकर सदन के हर पल की जानकारी वेबसाइट पर अपडेट होगी। यदि आप अपने क्षेत्र के सांसद के कामकाज के बारे में जानना चाहते हैं, तो आप उनके नाम या लोकसभा क्षेत्र पर क्लिक करने के बाद उनसे जुड़ी जनकारी को देख सकेंगे। किसी भी सांसदों के द्वारा पूछे गए सवाल और उनके जवाब को भी आप पढ़ सकते हैं।

सांसद के परफॉर्मेंस को जांचने का माध्यम

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इस वेबसाइट के जरिये देश भर के सांसदों के कामकाज का भी आकलन किया जाएगा। बेस्ट सांसद का चुनाव इस आधार पर होगा कि किसी सांसद ने अपने मद से कितने रूपए जनकल्याण या विकास कार्यों के लिए खर्च किया है,या किस सांसद ने अपने क्षेत्रीय समस्या को सही तरह से हल करने का प्रयास किया है। इस तरह साल में एक बार सांसदों के कामकाज सांसद में उपस्थिति आदि के आधार पर एक रैंकिंग लिस्ट जारी की जाएगी।  

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

बड़ी ख़बर

महाराष्ट्र ओपिनियन पोल
देवेंद्र फडणवीस को 39% लोगों ने मुख्यमंत्री के लिए पहली पसंद माना है जबकि 6% लोग उद्धव ठाकरे के पक्ष में थे। बता दें कि उद्धव की शिवसेना भी राजग का हिस्सा है।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

92,068फैंसलाइक करें
15,526फॉलोवर्सफॉलो करें
98,500सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: