Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीति'तांडव' से हटाएँ भावनाओं को आहत करने वाले दृश्य: BSP सुप्रीमो मायावती

‘तांडव’ से हटाएँ भावनाओं को आहत करने वाले दृश्य: BSP सुप्रीमो मायावती

"वाह बुआ जी। वेब सीरिज नज़र आ गई और ना जाने कितनी बार इस्लाम धर्म पर गलत टिप्पणी कर हमारी भावनाओं को आहत किया गया वो आपको नज़र नहीं आया। बहुत ख़ूब।"

वेब सीरिज ‘तांडव’ में हिंदुओं की भावनाओं को आहत करने वाले दृश्यों तथा डायलॉग को लेकर मचे बवाल के बाद बहुजन समाज पार्टी (BSP) की प्रमुख मायावती ने इस पूरे मामले पर प्रतिक्रिया दी है। उनका कहना है कि सीरीज से विवादित दृश्यों को हटा देना ही सबसे उचित होगा।

बसपा प्रमुख मायावती ने लिखा, “तांडव वेब सीरिज में धार्मिक व जातीय आदि भावना को आहत करने वाले कुछ दृश्यों को लेकर विरोध दर्ज किए जा रहे हैं। जो भी आपत्तिजनक है उन्हें हटा दिया जाना उचित होगा ताकि देश में कहीं भी शांति, सौहार्द व आपसी भाईचारे का वातावरण खराब न हो।”

बता दें कि सोशल मीडिया पर मायावती की ओर से टिप्पणी आने के बाद सोशल मीडिया पर कई यूजर्स उनपर अलग अलग-आरोप लगा रहे हैं। माजिद खान ने मायावती का यह ट्वीट देखकर कहा, “वाह बुआ जी। वेब सीरिज नज़र आ गई और ना जाने कितनी बार इस्लाम धर्म पर गलत टिप्पणी कर हमारी भावनाओं को आहत किया गया वो आपको नज़र नहीं आया। बहुत ख़ूब।”

अंकित शर्मा लिखते हैं, “आप भी BJP का पल्लू पकड़ कर राजनीति रूपी गंगा में एक बार और डुबकी लगाना चाहती हैं। बिहार में नीतीश कुमार के पंख कतर दिए गए। अगला नम्बर आपका होगा। कब तक ED और CBI से डरकर सरकार की नीतियों का विरोध करने से खुद को बचाएँगी, आपका अपना समुदाय भी आपको वोट नहीं देगा, मुस्लिम की बात छोड़िए।”

आशिक उन्नावी लिखते हैं, “आंटी जी देश में पहले भी ऐसी कई सारे वेब सीरिज़ बनती थी और बहुत सारी फिल्मों में भी बहुत कुछ दिखाया गया है। (हालाँकि ये धर्म में नाजायज़ है मगर) अगर ऐसे ही चलता रहा तो वो दिन दूर नही जब कुछ भी दिखाने के लिए सरकार की मंजूरी और उसको राजी करना जरूरी हो।”

उल्लेखनीय है कि हिंदूफोबिक कंटेंट के चलते तांडव वेब सीरिज विवादों में है। सोशल मीडिया पर दर्शक सीधे आरोप लगा रहे हैं कि इसमें भगवान शिव और भगवान राम का अपमान किया गया। ऐसे में मायावती का इस विषय पर प्रतिक्रिया देना यूपी विधानसभा चुनावों से पहले एक स्टंट कहा जा रहा है। उनसे पहले कई बीजेपी नेताओं ने सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से अपील की थी कि ‘तांडव’ को बैन किया जाए। जिसके बाद अमेजन प्राइम वीडियो के अधिकारियों को नोटिस जारी किया गया

इसके अलावा यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सूचना सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि जन-भावनाओं के साथ खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने इस वेब सीरिज पर मनोरंजन की आड़ में नफरत फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि इसकी पूरी टीम के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर के जल्द गिरफ़्तारी की तैयारी की जा रही है। 

इस बाबत लखनऊ मध्य के हजरतगंज थाने में रविवार (जनवरी 17, 2021) को केस दर्ज किया गया था। ‘इंडिया ओरिजिनल कंटेंट अमेज़न’ की हेड अपर्णा पुरोहित के अलावा निर्देशक अली अब्बास, प्रोड्यूसर हिमांशु कृष्ण मेहरा और लेखक गौरव सोलंकी सहित अन्य को इस मामले में आरोपित बनाया गया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe