Friday, July 19, 2024
Homeराजनीतित्रिपुरा, मेघालय और नागालैंड में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान, 2 मार्च को...

त्रिपुरा, मेघालय और नागालैंड में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान, 2 मार्च को आएँगे नतीजे: तीनों राज्यों में BJP गठबंधन सत्ता में

दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने बताया कि त्रिपुरा चुनाव के लिए अधिसूचना 21 जनवरी को जारी होगी।

चुनाव आयोग ने बुधवार (18 जनवरी 2022) को त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय में चुनाव की तारीखों का ऐलान किया। त्रिपुरा में 16 फरवरी को, जबकि मेघालय और नागालैंड में 27 फरवरी को वोट डाले जाएँगे। 2 मार्च 2023 को तीनों राज्यों के नतीजे घोषित किए जाएँगे। पूर्वोतर के तीनों राज्यों में दो चरणों में चुनाव होगा। आज से यहाँ आचार संहिता भी लागू हो गई है।

दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने बताया कि त्रिपुरा चुनाव के लिए अधिसूचना 21 जनवरी को जारी होगी। नामांकन की अंतिम तिथि 30 जनवरी है। नामांकन करने वाले उम्मीदवार 2 फरवरी तक अपना नाम वापस ले सकते हैं। वहीं, मेघालय और नागालैंड में 31 जनवरी को अधिसूचना जारी होगी। दोनों राज्यों में नामांकन की आखिरी तारीख 7 फरवरी है। मेघालय और नागालैंड में नाम वापसी की आखिरी तारीख 10 फरवरी है।

मालूम हो कि नागालैंड में विधानसभा का कार्यकाल 12 मार्च, मेघालय में 15 मार्च और त्रिपुरा में 22 मार्च को खत्म हो रहा है।

मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया, “तीनों राज्यों में महिला वोटरों की संख्या बढ़ी है। सुरक्षित चुनाव कराना हमारा लक्ष्य है। लोकतंत्र में हिंसा का स्थान नहीं है। हर चुनाव की अपनी चुनौतियाँ है। तीनों राज्यों में 2.28 लाख नए वोटर जुड़े हैं।” इसके साथ ही उन्होंने लोगों से अपील की कि वह अपने मत के अधिकार का प्रयोग जरूर करें। मुख्य चुनाव आयुक्त के मुताबिक, नगालैंड में 2315, मेघालय में 3482 और त्रिपुरा में 3328 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं।

सीईसी ने राजीव कुमार ने आगे कहा, “हमने अब नियम बनाया है कि मतदान बूथों पर जो शौचालय, रैंप और पानी की सुविधा दी जाए, वो स्थायी हो न की अस्थायी। ये उन स्कूलों के लिए चुनाव आयोग की ओर से तोहफा होगा, जिनमें ये सुविधाएँ नहीं हैं।” बता दें कि त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय – प्रत्येक में 60 विधानसभा सीटें हैं। ऐसे में सरकार बनाने के लिए बहुमत के लिए 31 का आँकड़ा चाहिए होगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -