Friday, April 19, 2024
Homeराजनीति'अब्बाजान कब से असंसदीय हो गया? सपा को मुस्लिम वोट तो चाहिए लेकिन अब्बाजान...

‘अब्बाजान कब से असंसदीय हो गया? सपा को मुस्लिम वोट तो चाहिए लेकिन अब्बाजान से परहेज क्यों?’: CM योगी

सीएम आदित्यनाथ ने तंज कसते हुए यह भी कहा कि उन्होंने किसी का नाम भी नहीं लिया लेकिन वो कौन से चेहरे हैं जो कहते थे कि वैक्सीन नहीं लेंगे, वैक्सीन भाजपा की है, मोदी की है लेकिन जब इनके 'अब्बाजान' ने वैक्सीन लगवाई तब से सब लगवा रहे हैं।

समाजवादी पार्टी (सपा) द्वारा ‘अब्बाजान’ शब्द पर आपत्ति जताए जाने के बाद मंगलवार (17 अगस्त 2021) को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधान परिषद में सत्र की कार्यवाही के दौरान कहा कि अब्बाजान शब्द कब से असंसदीय हो गया?

सत्र की कार्यवाही के दौरान सीएम आदित्यनाथ ने विपक्ष को निशाने पर लिया और सपा से सवाल किया कि ‘अब्बाजान’ कब से असंसदीय हो गया? साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि सपा को मुस्लिम वोट तो चाहिए लेकिन अब्बाजान से परहेज है। सीएम आदित्यनाथ ने यह बात तब कही जब सपा के सदस्य हंगामा करते हुए सदन के वेल तक जा पहुँचे।

सीएम आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि उन्होंने किसी का नाम भी नहीं लिया लेकिन वो कौन से चेहरे हैं जो कहते थे कि वैक्सीन नहीं लेंगे, वैक्सीन भाजपा की है, मोदी की है लेकिन जब इनके अब्बाजान ने वैक्सीन लगवाई तब सब लगवा रहे हैं। उन्होंने कोरोना वायरस महामारी से निपटने में प्रदेश के प्रयासों के बारे में बात करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश और प्रदेश ने किस तरीके से कोरोना से लड़ाई की है, वह किसी से छुपा हुआ नहीं है। सीएम आदित्यनाथ ने कहा कि Covid-19 के संक्रमण की जाँच का पहला सैम्पल पुणे भेजने वाला राज्य आज 4 लाख टेस्ट रोजाना कर रहा है।

ज्ञात हो कि सीएम आदित्यनाथ ने तंज कसते हुए कहा था, “उनके अब्बाजान (मुलायम सिंह यादव) कहते थे कि वहाँ (अयोध्या में) परिंदे को भी पर नहीं मारने देंगे, लेकिन अब वहाँ राम मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है। अगले तीन साल में वहाँ एक बड़ा भव्य मंदिर होगा।” उन्होंने यह भी कहा था कि 1990 में भी कहा गया था कि जहाँ रामलला विराजमान हैं, वहीं मंदिर बनेगा, तब इन लोगों ने गोली चलवा दी थी, लेकिन अब मंदिर का काम शुरू हो चुका है और जल्द इसे पूरा किया जाएगा।

सीएम आदित्यनाथ द्वारा अब्बाजान शब्द का उपयोग किए जाने पर अखिलेश यादव गुस्सा हो गए थे और उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्री उनके पिता के बारे में ऐसी भाषा का इस्तेमाल कैसे कर सकते हैं? मुख्यमंत्री को अपनी भाषा पर संतुलन रखना चाहिए और अगर सीएम आदित्यनाथ उनके पिता के बारे में कहेंगे तो अपने पिता के बारे में भी सुनने के लिए तैयार रहें।

अखिलेश यादव द्वारा अब्बा शब्द पर आपत्ति जताने के बाद यूपी के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने सपा अध्यक्ष पर सवाल खड़े किए थे। सिद्धार्थनाथ सिंह ने अखिलेश यादव से पूछा था कि जब मुलायम सिंह यादव उन्हें ‘टीपू’ बुलाते हैं तो उन्हें अपने पिता के लिए ‘अब्बा’ शब्द के इस्तेमाल पर आपत्ति क्यों है?

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लोकसभा चुनाव 2024: पहले चरण में 60+ प्रतिशत मतदान, हिंसा के बीच सबसे अधिक 77.57% बंगाल में वोटिंग, 1625 प्रत्याशियों की किस्मत EVM में...

पहले चरण के मतदान में राज्यों के हिसाब से 102 सीटों पर शाम 7 बजे तक कुल 60.03% मतदान हुआ। इसमें उत्तर प्रदेश में 57.61 प्रतिशत, उत्तराखंड में 53.64 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

कौन थी वो राष्ट्रभक्त तिकड़ी, जो अंग्रेज कलक्टर ‘पंडित जैक्सन’ का वध कर फाँसी पर झूल गई: नासिक का वो केस, जिसने सावरकर भाइयों...

अनंत लक्ष्मण कन्हेरे, कृष्णाजी गोपाल कर्वे और विनायक नारायण देशपांडे को आज ही की तारीख यानी 19 अप्रैल 1910 को फाँसी पर लटका दिया गया था। इन तीनों ही क्रांतिकारियों की उम्र उस समय 18 से 20 वर्ष के बीच थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe