Sunday, May 29, 2022
Homeराजनीतिहरीश रावत के खिलाफ संध्या डालाकोटी ने उत्तराखंड के लालकुआँ सीट से ठोकी ताल,...

हरीश रावत के खिलाफ संध्या डालाकोटी ने उत्तराखंड के लालकुआँ सीट से ठोकी ताल, कहा- ‘लड़की हूँ लड़ सकती हूँ’ वाली पार्टी ने किया अपमान

लाककुआँ सीट से टिकट कटने पर नाराजगी के बीच संध्या डालाकोटी से हरीश रावत ने गुरुवार को मुलाकात की थी। हरीश रावत ने कहा कि वह संध्या को मना लेंगे।

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव (Uttarakhand Assembly Polls) के मद्देनजर जारी सियासी खींचतान के बीच कॉन्ग्रेस की अंदरूनी सिरफुटौवल सामने आ गई है। उत्तराखंड की लालकुआँ विधानसभा सीट से कॉन्ग्रेस (Congress) ने पहले संध्या डालाकोटी (Sandhya Dalakoti) को टिकट दिया था, लेकिन बाद में उनसे छीनकर कॉन्ग्रेस के कद्दावर नेता और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत (Harish Rawat) को दिया। हरीश रावत ने लालकुआँ सीट से अपना पर्चा दाखिल कर दिया है। अब संध्या ने मैदान में बने रहने की बात कही है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो के मुताबिक, संध्या डालाकोटी ने कहा कि वो आज शुक्रवार (28 जनवरी 2022) को अपना नामांकन दाखिल करने के लिए जा रही हैं। उन्होंने कहा, “लालकुआँ विधानसभा क्षेत्र की 66,000 महिलाओं और 70,000 युवाओं के दम पर मैं ये नामांकन दाखिल कर रही हूँ। बेटी दिवस के दिन कॉन्ग्रेस पार्टी ने मुझे यहाँ से टिकट दिया था, लेकिन दो दिन बाद 26 जनवरी की रात 7 बजे मेरा टिकट काट दिया गया।”

संध्या डालाकोटी ने जनता से वादा किया अगर वो इस विधानसभा से चुनाव जीतती हैं तो वो जनता के कल्याण के लिए कार्य करेंगी। हालाँकि, टिकट कटने पर नाराजगी के बीच संध्या से हरीश रावत ने गुरुवार (27 जनवरी 2022) को मुलाकात की थी। हरीश रावत उन्हें मनाने की कोशिश कर रहे हैं।

इससे पहले संध्या डालाकोटी ने लालकुआ के नाम खुला पत्र लिखते हुए कहा था कि उन्होंने कॉन्ग्रेस के एक निष्ठावान कार्यकर्ता के रूप में 12-12 बजे तक काम किया। कोरोना में लोगों को हजारों पैकेट बाँटे। एक आपदा पीड़ित को अपनी जमीन भी दी थी, लेकिन हरीश दुर्गापाल और हरीश रावत ने उनका अपमान किया। संध्या ने यह भी कहा कि ‘लड़की हूँ लड़ सकती हूँ’ का नारा देने वाली पार्टी ने मेरा अपमान किया। उन्होंने कॉन्ग्रेस से सवाल किया कि उनके सेवा भाव में आखिर क्या कमी रह गई थी, जिसके चलते उनके साथ ऐसा किया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शरिया लॉ में बदलाव कबूल नहीं’: UCC के विरोध में देवबंद के मौलवियों की बैठक, कहा – ‘सब सह कर हम 10 साल से...

देवबंद में आयोजित 'जमीयत उलेमा ए हिन्द' की बैठक में UCC का विरोध किया गया। मौलवियों ने सरकार पर डराने का आरोप लगाया। कहा - ये देश हमारा है।

‘कब्ज़ा कर के बनाई गई मस्जिद को गिरा दो’: मंदिरों को ध्वस्त कर बनाए गए मस्जिदों पर बोले थे गाँधी – मुस्लिम खुद सौंप...

गाँधी जी ने लिखा था, "अगर ‘अ’ (हिन्दू) का कब्जा अपनी जमीन पर है और कोई शख्स उसपर कोई इमारत बनाता है, चाहे वह मस्जिद ही हो, तो ‘अ’ को यह अख्तियार है कि वह उसे गिरा दे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
189,861FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe