Tuesday, September 21, 2021
Homeराजनीति'TMC के लोगों ने दिन के उजाले में लूट लिए कॉन्ग्रेसियों के घर': ममता...

‘TMC के लोगों ने दिन के उजाले में लूट लिए कॉन्ग्रेसियों के घर’: ममता को अधीर रंजन का पत्र, कहा- प्रशासन की मौजूदगी में सब हुआ

“आपको ये जानकर हैरानी होगी कि ये लूट और हिंसा स्थानीय प्रशासन की मौजूदगी में हुआ। इलाके में अनिश्चितता की स्थिति है। मैं उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई की माँग करता हूँ।"

पश्चिम बंगाल में हिंसा को लेकर अब कॉन्ग्रेस ने भी सत्ताधारी तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) को घेरा है। लोकसभा में कॉन्ग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने इस संबंध में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने टीएमसी कार्यकर्ताओं पर हिंसा के आरोप लगाए हैं। अधीर रंजन ने ‘सत्तारूढ़ पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा की गई हिंसा और अत्याचार’ के शिकार कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए न्याय सुनिश्चित करने की माँग की है।

पत्र के अनुसार, गुरुवार (सितंबर 2, 2021) को टीएमसी कार्यकर्ताओं ने मुर्शिदाबाद में कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता के घरों में ‘दिन के उजाले’ में लूटपाट और तोड़फोड़ की। चौधरी ने ममता को लिखे पत्र में कहा है, “मैं आज दिन के उजाले में सत्तारूढ़ पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा की गई हिंसा और अत्याचारों की ओर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहता हूँ। कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं के घरों में तोड़फोड़ और लूटपाट की गई।”

पत्र में कहा गया है, “आपको ये जानकर हैरानी होगी कि ये लूट और हिंसा स्थानीय प्रशासन की मौजूदगी में हुआ। इलाके में अनिश्चितता की स्थिति है। मैं उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई की माँग करता हूँ। आपसे मामले में हस्तक्षेप की अपील है ताकि पीड़ितों को न्याय मिल सके।” इस पत्र की प्रति उन्होंने राज्य के मुख्य सचिव और गृह सचिव के अलावा मुर्शिदाबाद के जिलाधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक को भी भेजा है।

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में चुनावी नतीजे आने के कुछ घंटे बाद ही राज्य के कई इलाकों में राजनीतिक हिंसा भड़की थी। इस हिंसा में खासकर बीजेपी समर्थक निशाने पर थे। पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हुई हिंसा के मामले में कोलकाता हाई कोर्ट के आदेश के बाद केंद्रीय जाँच ब्यूरो (CBI) ने मंगलवार (1 सितंबर, 2021) को 10 नए केस दर्ज किए थे।

ज़ी न्यूज़ की रिपोर्ट के मुताबिक सीबीआई प्रवक्ता आरसी जोशी ने नए मामलों के संबंध में जानकारी साझा करते हुए कहा था, “सीबीआई ने डब्ल्यूपीए (पी) के मामले में पारित माननीय कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेशों के अनुपालन में दस और मामले दर्ज किए हैं। केस नंबर 142, 143, 144, 145, 146, 147, 148, 149 और 167 की जाँच अपने हाथ में ले ली जो पश्चिम बंगाल के विभिन्न पुलिस स्टेशनों में दर्ज थे।” पश्चिम बंगाल के नदिया जिले में भाजपा कार्यकर्ता धर्म मंडल और दो अन्य की हत्या के आरोप में 28 अगस्त 2021 को बीजू और आसीमा घोष को गिरफ्तार करने के बाद सीबीआई ने यह कदम उठाया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज योगेश है, कल हरीश था: अलवर में 2 साल पहले भी हुई थी दलित की मॉब लिंचिंग, अंधे पिता ने कर ली थी...

आज जब राजस्थान के अलवर में योगेश जाटव नाम के दलित युवक की मॉब लिंचिंग की खबर सुर्ख़ियों में है, मुस्लिम भीड़ द्वारा 2 साल पहले हरीश जाटव की हत्या को भी याद कीजिए।

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालत में मौत: पंखे से लटकता मिला शव, बरामद हुआ सुसाइड नोट

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में मौत हो गई है। महंत का शव बाघमबरी मठ में सोमवार को फाँसी के फंदे से लटकता मिला।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,474FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe