Tuesday, September 21, 2021
Homeराजनीतिपवार ने फिर दिया झटका तो शिवसेना के बदले तेवर: कहा- हम तो गठबंधन...

पवार ने फिर दिया झटका तो शिवसेना के बदले तेवर: कहा- हम तो गठबंधन धर्म का पालन कर रहे…

शिवसेना ने एक कार्टून में दिखाया था कि बाघ अपने पंजे में कमल का फूल थामे हुआ है। भाजपा ने इसके जवाब में एक कार्टून जारी किया था, जिसमें उद्धव क़द में अपने से काफ़ी विशाल फडणवीस को कह रहे हैं कि उन्हें बड़ा भाई पुकारा जाए।

महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक गतिरोध के बीच अब शिवसेना के तेवर नरम पड़ते दिख रहे हैं। शिवसेना मुखपत्र सामना के एग्जीक्यूटिव एडिटर संजय राउत ने कहा कि उनकी पार्टी गठबंधन धर्म का पालन कर रही है और आखिरी तक करेगी। महाराष्ट्र के वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने आशंका जताई थी कि अगर शिवसेना के यही तेवर रहे तो फिर राज्य राष्ट्रपति शासन की तरफ जा सकता है। वहीं शिवसेना ने सामना के माध्यम से उनके इस बयान पर कटाक्ष किया था और भाजपा की ख़ासी आलोचना की थी। शिवसेना ने आरोप लगाया कि भाजपा जाँच एजेंसियों द्वारा जोर-जबरदस्ती करने की कोशिश कर रही है, जो फेल हो गई।

वहीं अब शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि अभी तक दोनों दलों के बीच औपचारिक बातचीत शुरू भी नहीं हुई है। संजय राउत ने कहा कि उनकी पार्टी ने गठबंधन में रह कर ही चुनाव लड़ा था और आखिरी समय तक वो गठबंधन धर्म का पालन करेंगे। उन्होंने कॉन्ग्रेस नेता हुसैन दलवई के उस क़दम का भी स्वागत किया, जिसमें उन्होंने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गाँधी को पत्र लिख कर शिवसेना को समर्थन देने की माँग की है। राउत ने महाराष्ट्र की मौजूदा राजनीतिक परिस्थिति के बारे में बोलते हुए कहा कि हर कोई एक-दूसरे से बात कर रहा है लेकिन भाजपा और शिवसेना बातचीत नहीं कर रही।

राउत ने उन आरोपों से भी इनकार किया, जिनमें कहा जा रहा था कि शिवसेना ने गठबंधन सरकार को लेकर चल रही बातचीत पर रोक लगा दी है। उन्होंने कहा कि जब बातचीत शुरू ही नहीं हुई तो इसे रोकने का तो सवाल ही नहीं उठता है। गुरुवार (अक्टूबर 31, 2019) को राउत ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार से बातचीत की थी। अब पवार ने एक बार फिर शिवसेना को झटका देते हुए कहा है कि वो विपक्ष में बैठेंगे। नासिक में एनसीपी के संस्थापक-अध्यक्ष ने कहा कि चूँकि उन्हें विपक्ष में बैठने का जनादेश प्राप्त हुआ है, इसीलिए उनकी पार्टी सरकार गठन की प्रक्रिया का हिस्सा नहीं बनेगी।

शरद पवार ने मुख्यमंत्री पद के लिए शिवसेना और भाजपा में चल रहे गतिरोध को बचकाना करार दिया। राजग गठबंधन में शामिल रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया ने भाजपा का समर्थन किया है। पार्टी अध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि सीएम भाजपा का ही होना चाहिए। अठावले ने राज्यपाल से मुलाक़ात कर सबसे बड़ी पार्टी यानी भाजपा को सरकार बनाने के लिए निमंत्रण देने की माँग की है। इससे पहले शिवसेना ने कहा था कि भाजपा नेता समझते हैं कि राष्ट्रपति उनकी मुट्ठी में हैं और राष्ट्रपति का स्टाम्प भाजपा कार्यालय में रखा हुआ है।

दोनों दलों के बीच कार्टून वॉर भी छिड़ गया है। भाजपा ने शिवसेना के कार्टून का जवाब देते हुए एक और कार्टून जारी किया। भाजपा ने कहा कि अगर शिवसेना बाघ है तो फडणवीस सर्कस में बाघों को नियंत्रण में रखने वाले रिंगमास्टर हैं। इससे पहले शिवसेना ने एक कार्टून में दिखाया था कि बाघ अपने पंजे में कमल का फूल थामे हुआ है। भाजपा ने इसके जवाब में एक कार्टून जारी किया था, जिसमें उद्धव क़द में अपने से काफ़ी विशाल फडणवीस को कह रहे हैं कि उन्हें बड़ा भाई पुकारा जाए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

आज पाकिस्तान के लिए बैटिंग, कभी क्रिकेट कैंप में मौलवी से नमाज: वसीम जाफर पर ‘हनुमान की जय’ हटाने का भी आरोप

पाकिस्तान के साथ सहानुभूति रखने के कारण नेटिजन्स के निशाने पर आए वसीम जाफर पर मुस्लिम क्रिकेटरों को तरजीह देने के भी आरोप लग चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,586FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe