Saturday, December 4, 2021
Homeराजनीतिमहिलाओं ने TMC के बूथ एजेंट बाबर खान को कूट दिया... कुछ दिन पहले...

महिलाओं ने TMC के बूथ एजेंट बाबर खान को कूट दिया… कुछ दिन पहले ‘दीदी’ ने इनसे सुरक्षाबलों पर हमला करने बोला था!

सुरक्षाबलों द्वारा रोकने के बावजूद महिलाएँ टीएमसी के बूथ एजेंट बाबर खान को मारती रहीं। किसी तरह वह उनसे बच कर पुलिस वैन में जाकर बैठा। जब उससे पूछा गया कि क्यो वो पोलिंग बूथ पर वापस जाना चाहता है, तो उसने अपनी निजी सुरक्षा का हवाला दिया।

पश्चिम बंगाल में चल रहे तीसरे चरण के मतदान के बीच साउथ 24 परगना के आरमबाग में महिलाओं के एक समूह ने तृणमूल कॉन्ग्रेस के बूथ एजेंट पर आज (अप्रैल 6, 2021) हमला बोला। इस घटना के कुछ दिन पहले ही बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने महिलाओं को सुरक्षाबल पर रसोई के औजारों (‘Haatha kunthi‘) से हमला करने की बात कही थी।

रिपोर्ट्स के अनुसार, पूरी घटना पोलिंग स्टेशन 230, सुभयपुर हरिजन प्राथमिक विद्यालय की है। यहाँ महिलाओं का एक समूह आया और टीएमसी एजेंट बाबर अली खान को खींचकर बाहर कर दिया। कथित तौर पर इन महिलाओं ने CSF की मौजूदगी में ही बाबर अली को ‘हाथा कुंठी’ से भी पीटा।

एबीपी आनंद की रिपोर्ट के अनुसार, सुरक्षाबलों द्वारा रोकने के बावजूद महिलाएँ टीएमसी के बूथ एजेंट को मारती रहीं। किसी तरह वह उनसे बच पाया और पुलिस अधिकारियों की वैन में जाकर बैठा। जब उससे पूछा गया कि क्यो वो पोलिंग बूथ पर वापस जाना चाहता है, तो उसने अपनी निजी सुरक्षा का हवाला दिया। इसके बाद वह घटनास्थल से चला गया।

घटना के बारे मे बात करते हुए खान ने कहा, “पुलिस मुझे यहाँ बचा रही है। लेकिन वे मुझे सीएसएफ की उपस्थिति में ही मार रही थीं। वह मुझे नहीं बचा पाए। इन पुलिसकर्मियों ने मेरी जान बचाई।”

बता दें कि बंगाल में तीसरे चरण के मतदान में हिंसा पहले से अधिक बढ़ गई है। तृणमूल कॉन्ग्रेस ने कहीं पर अपने ऊपर हुई बमबारी का आरोप लगाया तो कहीं टीएमसी पर मतदाताओं को वोट देने से रोकने के आरोप लगे।

गौरतलब है कि इस घटना से कुछ दिन पहले बंगाल के लोगों के मन में बीजेपी के ख़िलाफ़ डर भरते हुए ममता बनर्जी ने एक रैली में कहा था, “अपने घर से समूहों में निकलो, अगर वे किसी को छुएँ, खासकर महिलाओं को तो, लाखों की संख्या में माँएँ अपने रसोई के औजार लेकर निकलें।” ममता ने आगे कहा, “अगर वह किसी आदमी पर हमला बोले, तो बुजुर्गों का समूह एकजुट हो।” वह बोलीं, “मैं देखना चाहती हूँ ये खेल (हिंसा का) कौन जीतेगा, कौन हारेगा।”

शुक्रवार (2 अप्रैल) को अलीपुरद्वार जिले के फलकता में एक चुनावी रैली के दौरान, ममता बनर्जी ने दावा किया था कि तृणमूल कॉन्ग्रेस को हराने के लिए केंद्रीय सुरक्षाकर्मी भाजपा के साथ काम कर रहे हैं। यहाँ जनता को हिंसा का आइडिया देते हुए सीएम ने कहा, “उनकी बात मत सुनो। यदि वे आपको डराने की कोशिश करते हैं, तो, आपको एकजुट होना होगा और उन्हें बर्तन, लाठी और झाड़ू से भगाना होगा।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

विनोद दुआ को कैसे याद करूँ… पाखंड हुआ नहीं जाता और गोधरा में जलाए गए रामभक्त भी याद आए जा रहे

इसे पाखंड कहूँ या विडंबना विनोद दुआ को उसी इस तरह की श्रद्धांजलि खूब पड़ रही है जो वे नहीं चाहते थे। दुखद यह है कि ऐसा उनके लिबरल-सेकुलर मित्र भी कर रहे।

‘आतंक का कोई मजहब नहीं होता’ – एक आदमी जिंदा जला कर मार डाला गया और मीडिया खेलने लगी ‘खेल’

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फैलाया जा रहा प्रोपगेंडा जिन स्थानीय खबरों पर चल रहा है उनमें बताया जा रहा है कि ये सब अराजक तत्वों ने किया था, इस्लामी भीड़ ने नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,521FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe