Monday, July 26, 2021
Homeरिपोर्ट6 घंटे तक ठप रहा एअर इंडिया का SITA सर्वर, हजारों यात्री एयरपोर्ट पर...

6 घंटे तक ठप रहा एअर इंडिया का SITA सर्वर, हजारों यात्री एयरपोर्ट पर फँसे रहे

एयरलाइंस के SITA सर्वर में खराबी की बात खुद कंपनी ने स्वीकार की। सर्वर डाउन होने के बाद एयर इंडिया ने आधिकारिक बयान जारी किया था।

एयर इंडिया का सर्वर शनिवार (अप्रैल 27, 2019) को लगभग 6 घंटे तक ठप रहा। इसकी जानकारी खुद एयर इंडिया के सीएमडी अश्विनी लोहानी ने दी है। उन्होंने बताया कि सर्वर 6 घंटे खराब रहने के बाद ठीक हुआ और जल्द ही उड़ानों को शुरु कर दिया जाएगा।

एयर इंडिया फ्लाइट्स का सर्वर सुबह 3:30 से डाउन था। सर्वर डाउन होने की वजह से एयर इंडिया की सभी उड़ानों में देरी के चलते हजारों यात्री इंदिरा गाँधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर फँसे हुए थे और इसी तरह मुंबई एयरपोर्ट पर भी हजारों यात्री फँसे हुए थे। यात्रियों के बोर्डिंग पास भी नहीं निकल पा रहे थे। जिसकी वजह से दिल्ली एयरपोर्ट पर अफरा-तफरी का माहौल था। सर्वर में दिक्कत की वजह से इसकी घरेलू के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट्स पर भी असर पड़ा।

एयरलाइंस के SITA सर्वर में खराबी की बात खुद कंपनी ने स्वीकार की। सर्वर डाउन होने के बाद एयर इंडिया ने आधिकारिक बयान जारी किया था। जिसमें एयर इंडिया के प्रवक्ता ने कहा था कि SITA सर्वर के ब्रेकडाउन होने की वजह से सभी उड़ानें प्रभावित हुई हैं। हमारी तकनीकी टीम इसे ठीक करने की कोशिश कर रही है। जल्द ही सिस्टम सही हो जाएगा। इसके साथ ही एअर इंडिया ने यात्रियों को हो रही असुविधा के लिए खेद भी जताया था।

गौरतलब है कि इसी तरह की एक घटना पिछले साल 23 जून को हुई थी, जब एयरलाइन के चेक-इन सॉफ्टवेयर में एक तकनीकी खराबी की वजह से  पूरे भारत में 25 उड़ानों में देर हो गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe