Thursday, August 5, 2021
Homeराजनीति'कान खोल कर सुने कॉन्ग्रेस, Pak से आए एक-एक शरणार्थी को नागरिकता मिलेगी, जितना...

‘कान खोल कर सुने कॉन्ग्रेस, Pak से आए एक-एक शरणार्थी को नागरिकता मिलेगी, जितना विरोध करना है करो’

"भारत पर जितना अधिकार मेरा और आपका है, उतना ही अधिकार पाकिस्तान से आए हुए शरणार्थियों का है। वो भारत के बेटे-बेटी हैं, वो हमारे भाई हैं।"

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन क़ानून का विरोध कर रही विपक्षी पार्टियों को स्पष्ट सन्देश दे दिया है कि सरकार इस पर पीछे नहीं हटेगी। शाह ने कहा कि चाहे कॉन्ग्रेस व अन्य सीएए विरोधी पार्टियाँ कितना भी विरोध प्रदर्शन कर लें, पाकिस्तान से आए एक-एक शरणार्थी को नागरिकता दिए बिना भाजपा सरकार चुप नहीं बैठेगी। उन्होंने कहा कि भारत पर यहाँ के लोगों का उतना ही हक़ है, जितना पाकिस्तान से प्रताड़ना झेल कर आए शरणार्थियों का। भाजपा अध्यक्ष ने मध्य प्रदेश के जबलपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए उक्त बातें कहीं।

इस दौरान उन्होंने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ को भी आड़े हाथों लिया, जिन्होंने दावा किया था कि वो राज्य में सीएए को लागू नहीं करेंगे। शाह ने कहा कि कमलनाथ की जोर से बोलने वाली उम्र नहीं है क्योंकि इससे उनका स्वास्थ्य बिगड़ जाएगा। उन्होंने मुख्यमंत्री को चुनौती देने के अंदाज़ में कहा कि अगर उनके अंदर इतना ही जोर बाकी है तो पहले मध्य प्रदेश को ठीक करें। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य की कॉन्ग्रेस सरकार ने एक तो वादाखिलाफी करते हुए किसानों का क़र्ज़ माफ़ नहीं किया और ऊपर से प्रदेश को खनन माफियाओं के हवाले कर डाला।

भाजपा अध्यक्ष ने कॉन्ग्रेस पार्टी, अरविन्द केजरीवाल, ममता बनर्जी और कम्युनिष्ट पार्टी को लपेटे में लेते हुए कहा कि ये सभी मिल कर जनता को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि सीएए नागरिकता देने वाला क़ानून है, लेने वाला नहीं। उन्होंने कहा कि कॉन्ग्रेस वाले कान खुल कर सुन लें, वो सीएए का जितना विरोध करना है करें लेकिन केंद्र सरकार शरणार्थियों को नागरिकता देकर ही दम लेगी। भाजपा अध्यक्ष ने आगे कहा:

भारत पर जितना अधिकार मेरा और आपका है, उतना ही अधिकार पाकिस्तान से आए हुए शरणार्थियों का है। वो भारत के बेटे-बेटी हैं, वो हमारे भाई हैं। आज सारे कॉन्ग्रेसी पूरे देश में सीएए का विरोध कर रहे हैं। केंद्र ने जो किया, गाँधी जी भी ऐसा ही चाहते थे। राहुल बाबा, आप गाँधी जी की भी नहीं सुनोगे। महत्मा गाँधी जी को तो कब का आपने छोड़ दिया है। 2 जुलाई 1947 को महात्मा गाँधी जी ने कहा था- जिन लोगों को पाकिस्तान से भगाया गया, जो पाकिस्तान में रह गए हैं उनको पता होना चाहिए कि वो भारत के नागरिक थे। वो जब भी भारत में आना चाहते हैं, भारत उनको नागरिकता देगा।

शाह ने कॉन्ग्रेस पार्टी पर मजहब के आधार पर देश का बँटवारा करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि भाजपा जनता को समझाने के लिए सीएए को लेकर एक जन-जागरण अभियान चला रही है, क्योंकि विपक्षी दल बहकाने में लगे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,028FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe