पुलवामा: जैश आतंकियों के साथ मुठभेड़, मेजर समेत 4 जवान शहीद

रविवार की देर रात से ही यह मुठभेड़ जारी है। इस मुठभेड़ में वीरगति को प्राप्त सभी जवान 55 राष्ट्रीय राइफल्स के थे। खब़र लिखे जाने तक मुठभेड़ जारी है।

पुलवामा से एक और दुखद ख़बर है। सोमवार की सुबह जम्मू-कश्मीर के इस क्षेत्र में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में सेना के एक मेजर सहित 4 जवान वीरगति को प्राप्त हुए जबकि एक जवान घायल भी हुआ है। गोली-बारी में एक स्थानीय नागरिक की भी मौत हुई है।

रविवार की देर रात से ही यह मुठभेड़ जारी है। इस मुठभेड़ में वीरगति को प्राप्त सभी जवान 55 राष्ट्रीय राइफल्स के थे। खब़र लिखे जाने तक मुठभेड़ जारी है। बताया जा रहा है कि पुलवामा के पिंगलिना क्षेत्र में दो से तीन आतंकी छिपे हुए हैं। सुरक्षाबलों ने इस पूरे क्षेत्र को घेर लिया है।

खबरों की मानें तो जिन आतंकियों को घेर कर सेना ने कार्रवाई शुरू की, वो जैश-ए-मोहम्मद के ही हैं। और ये सभी आदिल अहमद डार के साथी ही हैं। सूत्रों के हवाले से सेना को मिली सूचना के बाद पूरे इलाके की घेराबंदी की गई। सूचना यह भी है कि पुलवामा आतंकी हमले का मास्टरमांइड गाजी राशिद भी इसी इलाके में छिपा हुआ है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

आपको बता दें कि यह वही पुलवामा है जहाँ 14 फरवरी को CRPF के काफ़िले पर आत्मघाती हमला किया गया था और 40 जवान वीरगति को प्राप्त हुए थे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी
कमलेश तिवारी की हत्या के बाद एक आम हिन्दू की तरह, आपकी तरह- मैं भी गुस्से में हूँ और व्यथित हूँ। समाधान तलाश रहा हूँ। मेरे 2 सुझाव हैं। अगर आप चाहते हैं कि इस गुस्से का हिन्दुओं के लिए कोई सकारात्मक नतीजा निकले, मेरे इन सुझावों को समझें।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

105,514फैंसलाइक करें
19,261फॉलोवर्सफॉलो करें
109,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: