Thursday, August 5, 2021
Homeबड़ी ख़बरपुलवामा: जैश आतंकियों के साथ मुठभेड़, मेजर समेत 4 जवान शहीद

पुलवामा: जैश आतंकियों के साथ मुठभेड़, मेजर समेत 4 जवान शहीद

रविवार की देर रात से ही यह मुठभेड़ जारी है। इस मुठभेड़ में वीरगति को प्राप्त सभी जवान 55 राष्ट्रीय राइफल्स के थे। खब़र लिखे जाने तक मुठभेड़ जारी है।

पुलवामा से एक और दुखद ख़बर है। सोमवार की सुबह जम्मू-कश्मीर के इस क्षेत्र में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में सेना के एक मेजर सहित 4 जवान वीरगति को प्राप्त हुए जबकि एक जवान घायल भी हुआ है। गोली-बारी में एक स्थानीय नागरिक की भी मौत हुई है।

रविवार की देर रात से ही यह मुठभेड़ जारी है। इस मुठभेड़ में वीरगति को प्राप्त सभी जवान 55 राष्ट्रीय राइफल्स के थे। खब़र लिखे जाने तक मुठभेड़ जारी है। बताया जा रहा है कि पुलवामा के पिंगलिना क्षेत्र में दो से तीन आतंकी छिपे हुए हैं। सुरक्षाबलों ने इस पूरे क्षेत्र को घेर लिया है।

खबरों की मानें तो जिन आतंकियों को घेर कर सेना ने कार्रवाई शुरू की, वो जैश-ए-मोहम्मद के ही हैं। और ये सभी आदिल अहमद डार के साथी ही हैं। सूत्रों के हवाले से सेना को मिली सूचना के बाद पूरे इलाके की घेराबंदी की गई। सूचना यह भी है कि पुलवामा आतंकी हमले का मास्टरमांइड गाजी राशिद भी इसी इलाके में छिपा हुआ है।

आपको बता दें कि यह वही पुलवामा है जहाँ 14 फरवरी को CRPF के काफ़िले पर आत्मघाती हमला किया गया था और 40 जवान वीरगति को प्राप्त हुए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योनि, मूत्रमार्ग, गुदा, मुँह में लिंग प्रवेश से ही रेप नहीं… जाँघों के बीच रगड़ भी बलात्कार ही: केरल हाई कोर्ट

केरल हाई कोर्ट ने कहा कि महिला के शरीर का कोई भी हिस्सा, चाहे वह जाँघों के बीच की गई यौन क्रिया हो, बलात्कार की तरह है।

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसे बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,048FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe