कश्मीर में सबसे बड़ा आतंकी हमला, CRPF के 40 जवान शहीद

इस बीच, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने घटना को लेकर इमरजेंसी बैठक बुलाई है। उन्होंने कहा कि स्थिति की समीक्षा की जा रही है और सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी उन्हें स्थिति पर जानकारी दे रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकियों द्वारा किए गए हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए हैं। शहीद जवानों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। श्रीनगर-जम्मू हाइवे पर स्थित अवंतीपोरा इलाके में आतंकियों ने जवानों की गाड़ी को निशाना बनाते हुए आतंकी घटना को अंजाम दिया।

हमले के बाद दक्षिण कश्मीर के कई इलाकों में सुरक्षा एजेंसियों द्वारा अलर्ट जारी किया गया है। बताया जा रहा है कि सुरक्षाबलों के काफ़िले पर जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन ने आत्मघाती हमला किया जिसमें करीब 40 जवान शहीद हो गए हैं, जबकि 40 से अधिक जवानों के गंभीर रूप से घायल होने की सूचना है।

घायल जवानों को नज़दीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि जिस वक्त सीआरपीएफ के काफ़िले पर हमला किया गया उस वक्त करीब 70 गाड़ियों में सवार होकर करी 2500 जवानों का काफिला निकल रहा था। बता दें कि उरी हमले के बाद यह बड़ा आतंकी हमला है। उरी हमले में 19 जवान शहीद हुए थे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है। बताया जा रहा है कि इस आतंकी घटना को अंजाम देने के पीछे आदिल अहमद डार नाम के आतंकी का हाथ है। आदिल पुलवामा के काकापोरा इलाके का रहने वाला है। सुरक्षाबलों का कहना है कि आदिल को पहले एक ऑपरेशन के दौरान घेर भी लिया गया था। लेकिन वह किसी तरह बच कर निकल गया था।

आदिल अहमद डार
डार ने यह वीडियो पुलवामा में आतंकी घटना को अंजाम देने से पहले बनाया था

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने घटना के बाद डार के एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में डार ने सरकार के प्रति अपनी नफरत को दिखाया है। इसमें उसने बाबरी मस्‍ज‍िद के मुद्दे को भी उठाया है। इस वीडियो से साफ है कि इस हमले से पहले उसका ब्रेनवॉश किस हद तक किया गया था। बता दें कि, हमले से पहले आतंकियों ने पहले हाइवे खड़ी एक कार में आईईडी से ब्लास्ट किया और फिर सीआरपीएफ जवानों के वाहनों पर हथियारों से जमकर फ़ायरिंग की।

गौरतलब है कि इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने लेते हुए आदिल का फोटो जारी करते हुए कहा कि वह इस हमले का मास्टरमाइंड है। हालाँकि, उसकी संलिप्तता के बारे में सुरक्षा एजेंसियों की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया गया है।

इस घटना के बाद सीआरपीएफ, सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस इस हमले से जुड़े हर पहलू की पड़ताल में जुट गयी हैं। इस बीच, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने घटना को लेकर इमरजेंसी बैठक बुलाई है। उन्होंने कहा कि स्थिति की समीक्षा की जा रही है और सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारी उन्हें स्थिति पर जानकारी दे रहे हैं।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने प्रेस वार्ता करके कहा कि इस कायरतापूर्ण घटना को जैश-ए-मोहम्मद ने अंजाम दिया है। इसके साथ ही राजनाथ सिंह ने देशवासियों को आश्वस्त किया कि जल्द ही आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को मुँहतोड़ जवाब दिया जाएगा।

इसके अलावा केंद्रीय मंत्री और पूर्व सेनाध्यक्ष वीके सिंह ने इस घटना पर कहा है कि शहीदों के खून की एक-एक बूंद का बदला लेंगे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कश्मीरी पंडित, सुनंदा वशिष्ठ
"उस रात इस्लामी आतंकियों ने 3 विकल्प दिए थे - कश्मीर छोड़ दो, धर्मांतरण कर लो, मारे जाओ। इसके बाद गिरिजा टिक्कू का सामूहिक बलात्कार कर टुकड़ों में काट दिया। बीके गंजू को गोली मारी और उनकी पत्नी को खून से सने चावल (वो भी पति के ही खून से सने) खाने को मजबूर किया।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

113,599फैंसलाइक करें
22,628फॉलोवर्सफॉलो करें
119,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: