Tuesday, October 19, 2021
Homeबड़ी ख़बरहम मज़बूत सरकार चाहते हैं, विपक्ष मज़बूर सरकार चाहता है ताकि देश को लूट...

हम मज़बूत सरकार चाहते हैं, विपक्ष मज़बूर सरकार चाहता है ताकि देश को लूट सके: PM मोदी

इसके अलावा उन्होंने अपने संबोधन में आंध्र प्रदेश, वेस्ट बंगाल और छत्तीसगढ़ सरकार में सीबीआई से बिना अनुमति रेड मारने के अधिकार को छीन लेने का भी ज़िक्र किया।

राजनीति में वाकई पहली बार ऐसा हुआ है कि हर राजनैतिक गुट एक-दूसरे से हाथ सिर्फ़ इसलिए मिलाते नज़र आ रहे हैं ताकि मोदी सरकार को सत्ता से हटाया जा सके। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार (जनवरी 12, 2019) को विरोधियों को जवाब देते हुए कहा कि विपक्ष चाहता है कि सरकार कमज़ोर और मज़बूर हो जाए, जिससे देश को लूटा जा सके।

रामलीला मैदान पर भाजपा राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए, पीएम मोदी ने सपा-बसपा के गठबंधन पर भी निशाना साधा और कहा कि आजकल ‘महागठबंधन’ का नाम का अभियान चल रहा है, जोकि भारतीय राजनीति के इतिहास में सबसे असफल प्रयोग है। ये लोग देश में सरकार को मज़बूर बनाना चाहते हैं। इन्हें देश में मज़बूत सरकार नहीं चाहिए क्योंकि उससे इनके घोटालों की दुकाने बंद हो जाएँगी।

पीएम मोदी ने कहा- “हम एक मज़बूत सरकार चाहते हैं जिससे कि देश के किसानों को उनके फसलों का सही दाम मिल सके, विपक्ष चाहता है कि देश में मज़बूर सरकार बने ताकि वो यूरिया घोटालों को अंजाम दे सकें।”

महागठबंधन पर पीएम ने सम्मेलन में कहा कि राजनीति तर्कों के धरातल पर होती है, जबकि गठबंधन का कोई उद्देश्य होता है। ये पहली बार है जब राजनैतिक पार्टियाँ एक दूसरे के साथ गठबंधन करने के लिए तैयार हैं, वो भी सिर्फ एक व्यक्ति को हराने के लिए।

इस सम्मेलन में अयोध्या विवाद पर पीएम मोदी ने कहा कि कॉन्ग्रेस चाहती ही नहीं है, कि ये विवाद कभी सुलझे। वो हर बार अपने वकीलों के ज़रिए इस इस मामले पर अटकलें लगाती रही है। इतना ही नहीं कॉन्ग्रेस झूठे आरोपों का उपयोग कर CJI पर महाभियोग चलाने तक के लिए भी तैयार है। प्रधानमंत्री मोदी ने कॉन्ग्रेस की इन हरकतों पर पर भी सवाल उठाए, कि आखिर उनकी कैसी मानसिकता है जो उन्हें देशहित के हर मामले पर बीजेपी के ख़िलाफ़ खड़ा कर देती है।

इसके बाद आरक्षण बिल पर लगातार हो रही आलोचनाओं पर भी पीएम ने इस सम्मेलन पर बात की और कहा कि सरकार द्वारा उठाया गया ये कदम भले ही हर समस्या का समाधान नहीं है, लेकिन देश को एक नई दिशा पर ले जाने के लिए ये एक अच्छा कदम है। शिक्षा और रोज़गार के क्षेत्र में आर्थिक रूप से कमज़ोर युवाओं को 10 प्रतिशत आरक्षण देकर उन्होंने ‘नए भारत’ के आत्मविश्वास को बढ़ाया है।

किसानों की परेशानियों पर बात करते हुए पीएम ने कहा कि पहले की सरकार ‘अन्नदाताओं’ को सिर्फ ‘मतदाताओं’ के रूप में ही देखती थी जबकि बीजेपी की सरकार लगातार उनके सामने आने वाली परेशानियों पर काम कर रही है। पीएम के अनुसार उनकी पार्टी लगातार किसानों की आय को 2022 तक दुगना करने के लिए प्रयासरत हैं।

इसके अलावा उन्होंने अपने संबोधन में आंध्र प्रदेश, वेस्ट बंगाल और छत्तीसगढ़ सरकार में सीबीआई से बिना अनुमति रेड मारने के अधिकार को छीन लेने का भी ज़िक्र किया। जबकि 12 साल तक लगातार यूपीए सरकार द्वारा प्रताड़ित किए जाने पर भी उन्होंने गुजरात में कभी भी सीबीआई पर बैन नहीं लगाया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe