Monday, August 2, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसत्य-हिन्दी का असत्य: AAP के पूर्व नेता व पत्रकार आशुतोष की वेबसाइट पर राफ़ेल...

सत्य-हिन्दी का असत्य: AAP के पूर्व नेता व पत्रकार आशुतोष की वेबसाइट पर राफ़ेल की झूठी ख़बर

आशुतोष की वेबसाइट सत्य-हिंदी ने इस फ़र्जी खबर को आधार बनाते हुए एक रिपोर्ट प्रकाशित की है। इसमें कहा गया है कि फ्रांस भारत से आधी कीमत पर उन्नत राफ़ेल विमान खरीदने जा रहा है। जबकि यह सरासर झूठी ख़बर है

सबसे पहले ट्विटर पर रवि नायर ने राफ़ेल की आधी कीमत वाले झूठ को फैलाया, जिसके बाद इसे ‘द वायर’ जैसे मीडिया पोर्टल्स ने आगे बढ़ाया। अब आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता आशुतोष की वेबसाइट सत्य-हिंदी ने इस फ़र्जी खबर को आधार बनाते हुए एक रिपोर्ट प्रकाशित की है। इसमें कहा गया है कि फ्रांस भारत से आधी कीमत पर उन्नत राफ़ेल विमान खरीदने जा रहा है। जबकि यह सरासर झूठी ख़बर है।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में 16 जनवरी की सुबह 7:57 पर भी एक ख़बर छपी है, जिसमें फ्रांस की सरकार द्वारा इस ख़बर का खंडन किया गया है। लेकिन आपका काम ही जब प्रोपेगंडा फैलाना बन जाए तो सुबह उठकर अख़बार या न्यूज़ वेबसाइट पढ़ने में दिलचस्पी कोई दिखाए क्यों? और यही काम आशुतोष और उसकी सत्य-हिन्दी टीम ने किया।

आपको बता दें कि राफ़ेल लड़ाकू विमान के लिए F4 कॉन्फ़िगरेशन अभी भी ड्राइंग बोर्ड में है। यह वर्तमान में विकास के प्रारंभिक चरण में है। और 2023 तक F4 राफ़ेल को वितरित करना संभव नहीं है। क्योंकि F4 स्टैण्डर्ड कल 14 जनवरी 2019 को ही शुरू किया गया है। राफ़ेल को फ़्रांस सरकार से मिला €2 बिलियन का अनुबंध F4 मानक के विकास के लिए है। फ्रांसीसी सरकार ने दसाँ (Dassault) एविएशन की आरएंडडी गतिविधियों की फ़ंडिंग की है। राफ़ेल के F4 मानक के विकास के लिए यह अनुबंध तब कंपनी को प्रदान किया गया जब सशस्त्र बल के फ्रांसीसी मंत्री फ्लोरेंस पार्ली ने 14 जनवरी, 2019  को फ़्रांस के मेरिग्नैक में कंपनी के संयंत्र का दौरा किया। यह अनुबंध केवल उन्नत F4 कॉन्फ़िगरेशन के विकास के लिए है। इसमें विमान उत्पादन शामिल नहीं है


मंगलवार को (जनवरी 15, 2019) ऑपइंडिया हिंदी ने इस मामले पर एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी, जिसमें यह बताया गया था कि राफ़ेल सौदे को लेकर कैसे एक ताजा झूठ फैलाया जा रहा है और इसमें कई मीडिया पोर्टल भी शामिल हैं। ऑपइंडिया ने अपने इस रिपोर्ट में बताया था कि कुछ लोगों ने एक ख़बर प्रसारित की है कि फ़्रांस ने 28 राफ़ेल विमानों को दसाँ (Dassault) एविएशन से €2 बिलियन का ऑर्डर दिया है। उनके अनुसार, ये विमान अगली पीढ़ी के F4 स्टैंडर्ड के होंगे और इस सौदे की प्रति यूनिट कीमत भारत F3R मानक के 36 राफ़ेल जेट विमानों के लिए चुकाए जा रहे क़ीमत की लगभग आधी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe