Wednesday, July 28, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकर्ज लेने के मामले में इमरान सरकार ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, PAK मीडिया ने...

कर्ज लेने के मामले में इमरान सरकार ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, PAK मीडिया ने खुद खोली पोल

रिपोर्ट में बताया गया कि अगस्त 2018 से अगस्त 2019 के बीच इमरान सरकार ने विदेश से 2804 अरब, जबकि घेरलू स्रोतों से 4705 अरब पाकिस्तानी रुपए का कर्ज लिया।

अपने कार्यकाल के पहले वर्ष में ही इमरान सरकार ने पूर्व के सभी रिकॉर्डों को तोड़ते हुए बेतहाशा कर्ज ले लिया है। आधिकारिक आँकड़ों के मुताबिक इमरान सरकार के सत्ता संभालने के बाद देश के कुल कर्ज में 7509 अरब पाकिस्तानी रुपए की वृद्धि हुई है।

सूत्रों का हवाला देते हुए पाकिस्तान की ही एक मीडिया रिपोर्ट में खुलासा करते हुए बताया गया है कि कर्ज के यह आँकड़े स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री कार्यालय भिजवा दिए हैं।

रिपोर्ट में बताया गया कि अगस्त 2018 से अगस्त 2019 के बीच इमरान सरकार ने विदेश से 2804 अरब, जबकि घेरलू स्रोतों से 4705 अरब पाकिस्तानी रुपए का कर्ज लिया।

स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के अनुसार चालू वित्तीय वर्ष के पहले दो महीनों में ही पाकिस्तान के सार्वजनिक कर्ज में 1.43 फीसदी का इजाफा देखने को मिला। जबकि संघीय सरकार का यह कर्जा बढ़कर 32,240 अरब पाकिस्तानी रुपए हो गया है, जो कि पिछले वर्ष तक 24,732 अरब था।

इसके अलावा रिपोर्ट में ये बताया गया कि मौजूदा वित्तीय वर्ष के पहले तीन महीने में सरकार का कर संग्रह 960 अरब पाकिस्तानी रुपए का रहा, जोकि एक ट्रिलियन रुपए के निर्धारित लक्ष्य से कम है।

उल्लेखनीय है कि ‘नया पाकिस्तान’ का सपना दिखाकर सत्ता हासिल करने वाले इमराम खान के पहले कार्यकाल में उनके मुल्क की इतनी दुर्गति हो चुकी, जिसके बारे में सोचा भी नहीं जा सकता। पड़ोसी मुल्कों से फजीहत और बेबुनियादी बातों का सिलसिला पाकिस्तान को इमरान सरकार के शासनकाल में ही देखने को मिला है। विदेशों से लेकर अपने मुल्क की संसद में मुँह की खा चुके इमरान खान अब देश पर बढ़ रहे कर्जे पर भी घिरने शुरू हो गए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एक शक्तिपीठ जहाँ गर्भगृह में नहीं है प्रतिमा, जहाँ हुआ श्रीकृष्ण का मुंडन संस्कार: गुजरात का अंबाजी मंदिर

गुजरात के बनासकांठा जिले में राजस्थान की सीमा पर अरासुर पर्वत पर स्थित है शक्तिपीठों में से एक श्री अरासुरी अंबाजी मंदिर।

5 या अधिक हुए बच्चे तो हर महीने पैसा, शिक्षा-इलाज फ्री: जनसंख्या बढ़ाने के लिए केरल के चर्च का फैसला

केरल के चर्च के फैसले के अनुसार, 2000 के बाद शादी करने वाले जिन भी जोड़ों के 5 या उससे अधिक बच्चे हैं, उन्हें प्रत्येक माह 1500 रुपए की मदद दी जाएगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,580FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe