Wednesday, December 1, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाबोफोर्स से पाकिस्तान को जवाब दे रही है सेना, लगातार घुसपैठ की फिराक में...

बोफोर्स से पाकिस्तान को जवाब दे रही है सेना, लगातार घुसपैठ की फिराक में BAT

गुलाम कश्मीर में मौजूद पाकिस्तानी सैन्य ठिकानों और आतंकी शिविरों पर बोफोर्स से गोले दागे गए हैं। सूत्रों के अनुसार सेना सीमा पार बैठे आतंकियों और पाकिस्तानी सेना के ठिकानों को ही निशाना बना रही है।

घाटी में आतंकी हमलों को अंजाम देने के पाकिस्तानी मंसूबों को नाकाम करने के लिए सेना ने बोफोर्स होवित्जर तोपों का इस्तेमाल शुरू किया है। नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर घुसपैठ की कोशिशों और पाकिस्तानी सेना की गोलीबारी का जवाब अब सेना बोफोर्स से दे रही है।

सैन्य सूत्रों ने बताया कि गुलाम कश्मीर में मौजूद पाकिस्तानी सैन्य ठिकानों और आतंकी शिविरों पर बोफोर्स से गोले दागे गए हैं। सूत्रों के अनुसार सेना सीमा पार बैठे आतंकियों और उनके सरपस्त पाकिस्तानी सेना के ठिकानों को ही निशाना बना रही है।

यह भी खबर है कि पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) घुसपैठ की लगातार कोशिश कर रही है। 31 जुलाई और 1 अगस्त की रात को BAT ने भारतीय सेना पर गोलीबारी की थी। केरन सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास BAT के एक हमले को भी सेना ने नाकाम कर दिया है।

इस दौरान कम से कम 5-7 घुसपैठिए मारे गए। सेना के मुताबिक 5-7 पाकिस्तानी सेना के जवान/आतंकवादी के शव एलओसी पर पड़े हैं। भारी गोलीबारी के चलते शवों को हटाया नहीं जा सका है और ना ही उनकी पहचान हो पाई है। सेना ने सबूत के तौर पर 4 शवों की सैटेलाइट तस्वीरें भी जारी की है।

गौरतलब है कि पाकिस्तानी सेना ने अमरनाथ यात्रा और घाटी में अन्य जगहों पर ‘लोन वुल्फ अटैक’ की साजिश रची थी। इसमें पाकिस्तान सरकार के शामिल होने की बात भी सामने आई है। सेना ने शुक्रवार को खुफिया जानकारियों का हवाला देते हुए कहा था कि पाकिस्तान में बैठे आतंकवादी अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की साजिश रच रहे हैं। इसके तुरंत बाद, जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने यात्रियों और पर्यटकों से घाटी की अपनी यात्रा में ‘‘कटौती करने’’ और जल्द से जल्द लौटने को कहा था। शनिवार को किश्तवाड़ के माछिल में दुर्गा यात्रा भी स्थगित कर दी गई थी।

अमरनाथ यात्रा मार्ग से हथियार और विस्फोटक बरामद होने की सूचना देते हुए सेना ने कहा था कि सुरक्षा बल तीर्थयात्रियों पर हमले के किसी भी प्रयास को विफल करने के लिए पूरी तरह से मुस्तैद हैं। बरामद लैंडमाइंस पर पाकिस्तानी आयुध डिपो का मुहर लगा था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe