Wednesday, August 4, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय14 साल की लड़की का अपहरण: जबरन धर्म परिवर्तन... फिर किडनैपर अब्दुल से ही...

14 साल की लड़की का अपहरण: जबरन धर्म परिवर्तन… फिर किडनैपर अब्दुल से ही निकाह

“क्या इस मुल्क में हमारा कुछ भी नहीं हो सकता? या फिर हम अपनी बच्चियों को पैदा होते ही उनका गला घोंट कर मार दें? नहीं तो वो आएँगे और हमारी बच्चियाँ ले जाएँगे और हम कुछ नहीं कर पाएँगे।”

पाकिस्तान में जबरन धर्म परिवर्तन की घटनाएँ रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। एक ओर जहाँ पाकिस्तानी लड़कियाँ चीन भेजी जा रही हैं तो वहीं उस मुल्क में रहने वाली दूसरे धर्म की लड़कियाँ भी सुरक्षित नहीं हैं। ताजा मामला कराची का है, जहाँ 14 साल ही ईसाई नाबालिग लड़की हुमा यूनुस का पहले अपहरण किया गया फिर जबरन धर्म परिवर्तन किया गया। और तो और, अपहरण के आरोपित अब्दुल जब्बार से ही उसका निकाह भी करा दिया गया।

हुमा 8वीं कक्षा में पढ़ती है। पहले हुमा को किडनैप किया गया फिर उन्हें डेरा गाजी खान ले जाया गया है और जबरन धर्म परिवर्तन कराने के बाद अपहरण करने वाले अब्दुल जब्बार से उसका निकाह करा दिया गया। इसके बाद बड़े ‘शान’ से और ‘हिम्मत’ के साथ निकाह के कागज हुमा के माता-पिता के पास भेज दिया गया – यह इसलिए क्योंकि समझ जाओ कि बेटी अब दूसरे की हो गई, लापता-मिसिंग-कोर्ट-कचहरी जाने का कोई फायदा नहीं! लेकिन हुमा की माँ ने इस मामले में डर कर बैठने के बजाय अदालत जाना उचित समझा। पाकिस्तान की पत्रकार नायला इनायत ने इस संबंध में ट्वीट भी किया है।

अदालत में सुनवाई के बाद हुमा की माँ नगीना यूनुस ने सवाल किया कि क्या पाकिस्तान में अपहरण और धर्म परिवर्तन ही उनका भविष्य है? अगर ऐसा ही है तो क्या ईसाई माताओं को अपनी बेटियों को मार देना चाहिए? अदालत में कहा गया कि लड़की 18 साल की है, जबकि उनकी माँ का कहना है कि वो 14 साल की है। उनका जन्म 2005 में हुआ है। नगीना ने कहा कि उनकी शादी 2004 में हुई थी और 2005 में हुमा का जन्म हुआ है।

इसके साथ ही नगीना ने बताया कि जब्बार उसे फोन और मैसेज के जरिए धमकियाँ दे रहा है कि वो चाहे तो ईसाई समुदाय की पूरी बिरादरी ही क्यों न इकट्ठी कर ले… वो उनका कुछ नहीं बिगाड़ सकते। वो सवाल करती हैं, “क्या ये इस्लामिक मुल्क है तो यहाँ हमारा कुछ भी नहीं हो सकता? या फिर हम अपनी बच्चियों को पैदा होते ही उनका गला घोंट कर मार दें? नहीं तो वो आएँगे और हमारी बच्चियाँ ले जाएँगे और हम कुछ नहीं कर पाएँगे।” उनका कहना है कि उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान, बिलावल भुट्टो और सेना प्रमुख बाजवा से मदद की गुहार भी लगाई है।

हालाँकि पाकिस्तान में जबरन धर्म परिवर्तन का यह पहला मामला नहीं है। पड़ोसी मुल्क से ऐसी खबरें लगातार ही सामने आती रहती हैं। 4 सितंबर को भी लाहौर के पंजाब प्रांत 15 साल की एक ईसाई लड़की जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया था। बता दें कि पीड़ित ईसाई लड़की जिस स्कूल में पढ़ती थी, वहाँ की प्रिंसिपल सलीमा बीबी ने ही उसका धर्म परिवर्तन करवाया था। सलीमा बीबी ने शेखपुरा जिले के एक मदरसे में लेकर जाकर उसका धर्मांतरण किया गया।

उल्लेखनीय है कि 3 सितंबर को पाकिस्तान के सिंध प्रांत में दो हिंदू लड़की को अगवा कर उनका धर्म परिवर्तन करवाया गया था। इससे पहले एक सिख युवती को भी अगवा कर उसका धर्म परिवर्तन करवाने के बाद उसकी मोहम्मद हसन से शादी करवा दी गई, जो कि हाफ़िज़ सईद के आतंकवादी संगठन जमात-उद-दावा का सदस्य है।

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय यानी हिंदुओं, सिखों, ईसाईयों, अहमदियों और शियाओं पर अत्याचार की घटनाएँ आम है। हिंदू, सिख और ईसाई लड़कियों का जबरन धर्म परिवर्तन करवाकर निकाह करवाने को मजबूर किया जाता है। खुद पाकिस्तान के विपक्षी दल पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के चेयरमैन बिलावल भुट्टो जरदारी ने बीते दिनों कहा था कि पाकिस्तान सबसे बुरी किस्म की असहिष्णुता का सामना कर रहा है। अल्पसंख्यकों के उत्पीड़न को लेकर पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई बार आलोचना हो चुकी है। भारत भी कई मंचों से वहॉं अल्पसंख्यकों की दुर्दशा का मसला उठा चुका है। हालॉंकि पाकिस्तान इन आरोपों को नकारता रहता है। लेकिन, हुमा के साथ घटे वाकये ने एक बार उसकी धार्मिक असहिष्णुता उजागर कर दी है।

2 साल में 629 पाकिस्तानी लड़कियों को खरीद कर ले गए चीनी, देह के धंधे पर पाक चुप

‘पाकिस्तान में न तो हिंदू लड़कियों को ज्यादा आजादी है और न ही… बेटियों की खातिर भारत आए’

पाकिस्तान के नदीम खान के जाल में फॅंस दुबई भागी मेरठ की युवती, पिता ने लव जिहाद बता लगाई गुहार

पाकिस्तान: हत्या से पहले हिंदू मेडिकल छात्रा के साथ किया गया था रेप, सुसाइड साबित करने पर अमादा था प्रशासन

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारतीय हॉकी का ‘द ग्रेट वॉल’: जिसे घेर कर पीटने पहुँचे थे शिवसेना के 150 गुंडे, टोक्यो ओलंपिक में वही भारत का नायक

शिवसेना वालों ने PR श्रीजेश से पूछा - "क्या तुम पाकिस्तानी हो?" अपने ही देश में ये देख कर उन्हें हैरत हुई। टोक्यो ओलंपिक के बाद सब इनके कायल।

अफगानिस्तान के सबसे सुरक्षित इलाके में तालिबानी हमला, रक्षा मंत्री निशाना: ब्लास्ट-गोलीबारी, सड़कों पर ‘अल्लाहु अकबर’

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के विभिन्न हिस्सों में गोलीबारी और बम ब्लास्ट की आवाज़ें आईं। शहर के उस 'ग्रीन जोन' में भी ये सब हुआ, जो कड़ी सुरक्षा वाला इलाका है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,873FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe