Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयकैपिटल हिल में बवाल के साथ 45% रिपिब्लकन, 69% ट्रंप को नहीं मानते दोषीः...

कैपिटल हिल में बवाल के साथ 45% रिपिब्लकन, 69% ट्रंप को नहीं मानते दोषीः सर्वे ने बताया अमेरिका में राजनीतिक खाई कितनी गहरी

पाँच मतदाताओं में से एक कैपिटल हिल में हुए हिंसक हंगामे का समर्थन करते हैं। वहीं 52% मतदाता प्रदर्शनकरियों को चरमपंथी मानते हैं और 49% मानते हैं कि वे लोकतंत्र के लिए खतरा हैं। हालाँकि यह घटना राजनीतिक असमानता को मद्देनजर काफी हैरान करने वाली है।

वाशिंगटन स्थित कैपिटल हिल में बुधवार (6 दिसंबर, 2021) को डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों ने जबरदस्त हंगामा किया। ये सब उस वक्‍त हुआ जब कैपिटल हिल में इलेक्टोरल कॉलेज की प्रक्रिया चल रही थी। इसके तहत नवंबर 2020, में हुई जो बाइडन की जीत पर मुहर लगनी थी। हालाँकि इस हंगामे को लेकर लोगों के मत काफी चौंकाने वाले सामने आए हैं। YouGov Polls के अनुसार, 45% रिपब्लिकन्स कैपिटल हिल में हुए बवाल का समर्थन करते हैं।

Yougov poll

पाँच मतदाताओं में से एक कैपिटल हिल में हुए हिंसक हंगामे का समर्थन करते हैं। वहीं 52% मतदाता प्रदर्शनकरियों को चरमपंथी मानते हैं और 49% मानते हैं कि वे लोकतंत्र के लिए खतरा हैं। हालाँकि यह घटना राजनीतिक असमानता को मद्देनजर काफी हैरान करने वाली है।

डेमोक्रेट्स के 65% लोगों का मानना ​​है कि विरोध-प्रदर्शन लोकतांत्रिक था, वहीं केवल 12% रिपब्लिकन को ही ऐसा लगता है। वास्तव में रिपब्लिकन को विश्वास है कि प्रदर्शनकारी चरमपंथी, घरेलू आतंकवादी, अपराधी या लोकतांत्रिक विरोधी से अधिक देशभक्त हैं।

बता दें यह असमानता राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को दोषी ठहराए जाने को लेकर भी देखी गई है। 69% रिपब्लिकन का मानना ​​है कि इस मामले में ट्रम्प को दोष देने का कोई मतलब नहीं है। इसके विपरीत ऐसा मानने वाले डेमोक्रेट का आँकड़ा 96% है।

इसी तरह कैपिटल हिल के हंगामे को 93% डेमोक्रेट लोकतंत्र के लिए खतरा मानते हैं, जबकि 62% रिपब्लिकन इसे इस तरह नहीं देखते हैं। वहीं लगभग हर मामले में इंडिपेंडेंट का डेमोक्रेट्स के रुख के प्रति झुकाव देखा गया है। हालाँकि, बहुत कट्टरता से यह झुकाव नहीं है।

यह पोल्स साबित करते हैं कि वाशिंगटन में जो हुआ वह विश्वास करने योग्य तो नहीं है, लेकिन यह हंगामा अचानक से भी नहीं हुआ है। देश के भीतर चल रहे राजनीतिक मनमुटाव के चलते ऐसा हुआ। वहीं दोनों तरफ के लोग इस बात पर भी सहमत नहीं हो सकते हैं कि कैपिटल हिल हमला करने वाले लोग डेमोक्रेसी के लिए खतरा हैं या नहीं।

गौरतलब है कि वाशिंगटन डीसी में रिपब्लिकन नेशनल कमेटी मुख्यालय से पाइप बम बरामद किए गए और मीडिया पर भी हमला किया गया। हिंसक हंगामे के दौरान चार लोगों के मरने की भी खबर है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -