Wednesday, September 22, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअफगान दूतावास ने अशरफ गनी की गिरफ्तारी के लिए इंटरपोल से माँगी मदद, तालिबानी...

अफगान दूतावास ने अशरफ गनी की गिरफ्तारी के लिए इंटरपोल से माँगी मदद, तालिबानी कमांडर ने की हामिद करजई से मुलाकात

ताजिकिस्तान में अफगान दूतावास ने सार्वजनिक संपत्ति की चोरी के आरोप में पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी, हमदल्लाह मोहिब और फजल महमूद फाजली को हिरासत में लेने के लिए इंटरपोल पुलिस से मदद माँगी है ताकि उन्हें पकड़ कर उनके द्वारा ले जाए गए कैश को वापस लिया जा सके।

तालिबानी हमले के कारण देश छोड़कर भागे अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दरअसल, ताजिकिस्तान में अफगान दूतावास ने सार्वजनिक संपत्ति की चोरी के आरोप में पूर्व राष्ट्रपति अशरफ गनी, हमदल्लाह मोहिब और फजल महमूद फाजली को हिरासत में लेने के लिए इंटरपोल पुलिस से मदद माँगी है ताकि उन्हें पकड़ कर उनके द्वारा ले जाए गए कैश को वापस लिया जा सके।

दूतावास ने कहा है कि गनी को गिरफ्तार किया जाना चाहिए, ताकि उनके द्वारा चुराए गए धन को अफगानिस्तान को वापस किया जा सके। टोलो न्यूज के मुताबिक, ताजिकिस्तान में राजदूत मोहम्मद ज़हीर अघबर ने आज कहा है कि संविधान के अनुसार, राष्ट्रपति की अनुपस्थिति, पलायन या मृत्यु में, उपराष्ट्रपति कार्यवाहक राष्ट्रपति बनता है। अमरुल्ला सालेह वर्तमान में आधिकारिक कार्यवाहक राष्ट्रपति हैं।

हामिद करजई से मिला तालिबान

इस बीच अफगानिस्तान में कब्जा करने के बाद वहाँ सरकार बनाने की कोशिशों के तहत तालिबानी कमांडर अनस हक्कानी ने बुधवार (18 अगस्त 2021) को बातचीत के लिए देश के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई से मुलाकात की। तालिबानी अधिकारी ने कहा कि बैठक में करजई के साथ पुरानी सरकार के मुख्य शांति दूत अब्दुल्ला अब्दुल्ला भी थे। अफगानिस्तान के कार्यवाहक राष्ट्रपति बने अमरुल्ला सालेह का कोई जिक्र नहीं था, जिन्होंने राष्ट्रपति अशरफ गनी के जाने के बाद देश के ‘वैध’ कार्यवाहक राष्ट्रपति होने का दावा किया था।

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद वहाँ के राष्ट्रपति अशऱफ गनी देश छोड़कर चले गए थे। वो अपने साथ एक हेलीकॉप्टर और चार कारों में पैसे भी भरकर ले गए थे। उनके पास इतना कैश था कि जब वो पैसा अपने साथ नहीं ले जा सके तो उन्हें यू ही रनवे पर छोड़ दिया था। इस बात की जानकारी रूस के दूतावास ने दी थी।

वहीं अशरफ गनी के जाने के बाद उपराष्ट्रपति रहे अमरुल्लाह सालेह ने खुद को देश का कार्यवाहक राष्ट्रपति घोषित कर दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत की जाँच के लिए SIT गठित: CM योगी ने कहा – ‘जिस पर संदेह, उस पर सख्ती’

महंत नरेंद्र गिरी की मौत के मामले में गठित SIT में डेप्यूटी एसपी अजीत सिंह चौहान के साथ इंस्पेक्टर महेश को भी रखा गया है।

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,642FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe