Friday, December 3, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयISIS के 13 आतंकियों को प्रत्यर्पण संधि के तहत भारत को सौंप सकता है...

ISIS के 13 आतंकियों को प्रत्यर्पण संधि के तहत भारत को सौंप सकता है अफ़ग़ानिस्तान

इससे पहले भी महिलाओं और बच्चों सहित लगभग 300 ISIS सदस्यों ने नंगरहार में अफ़ग़ान विशेष बलों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया था।

अफ़ग़ानिस्तान प्रत्‍यर्पण संधि के तहत 13 आतंकवादी भारत को सौंप सकता है। ये वो आतंकी हैं, जिन्होंने पिछले कुछ हफ्तों में अफ़ग़ानिस्तान की राष्ट्रीय सेना के सामने आत्मसर्पण किया था। इनमें 600 से अधिक इस्लामिक स्टेट के आतंकवादी थे।

इकोनॉमिक टाइम्स की ख़बर के अनुसार, भारत और अफ़ग़ानिस्तान ने पिछले रविवार (25 नवंबर) को अपनी द्विपक्षीय प्रत्यर्पण संधि के संचालन को औपचारिक रूप दिया था। ख़बर में काबुल के सूत्रों के हवाले से लिखा गया, “प्रत्यर्पण संधि की औपचारिकता के बाद काबुल ने 13 आईएस आतंकवादियों के प्रत्यर्पण का फ़ैसला किया है।”

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, “आतंकवादियों को उचित प्रक्रिया के बाद भारत को सौंपा जाएगा। यह क़दम दोनों देशों के बीच आतंकवाद-रोधी साझेदारी में महत्वपूर्ण और मील का पत्थर साबित होगा।”

अफ़ग़ानिस्तान के एक अधिकारी ने बताया, “पिछले कुछ हफ्तों में अफगान सुरक्षा बलों के अलग-अलग अभियानों के बाद सैकड़ों इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने आत्मसमर्पण कर दिया था।”

अफ़ग़ानिस्तान के नंगरहार प्रांतीय गवर्नर शाह महमूद मियांखली ने कहा, “पिछले दो सप्ताह में ISIS के 243 आतंकवादी और उनके परिवार के लगभग 400 सदस्य आत्मसमर्पण कर चुके हैं।” पिछले सप्ताह नंगरहार के अचिन ज़िले में सुरक्षा बलों के सामने 51 महिलाओं और 96 बच्चों के साथ 82 सेनानियों ने अपने हथियार सौंप दिए थे।

इससे पहले भी महिलाओं और बच्चों सहित लगभग 300 ISIS सदस्यों ने नंगरहार में अफ़ग़ान विशेष बलों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया था। वहीं, दूसरी तरफ, अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि जुलाई में अफ़ग़ानिस्तान में ISIS के 2,000 से कम लड़ाके थे। जबकि संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि उस देश में 2,500 और 4,000 लड़ाके थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सियासत होय जब ‘हिंसा’ की, उद्योग-धंधा कहाँ से होय: क्या अडानी-ममता मुलाकात से ही बदल जाएगा बंगाल में निवेश का माहौल

एक उद्योगपति और मुख्यमंत्री की मुलाकात आम बात है। पर जब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हों और उद्योगपति गौतम अडानी तो उसे आम कैसे कहा जा सकता?

पाकिस्तानी मूल की ऑस्ट्रेलियाई सीनेटर मेहरीन फारुकी से मिलिए, सुनिए उनकी हिंदू घृणा- जानिए PM मोदी से उनको कितनी नफरत

मेहरीन फारूकी ने ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के अच्छे दोस्त PM नरेंद्र मोदी को घेरने के बहाने संघीय सीनेट में घृणा के स्तर तक उतर आईं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,299FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe