Saturday, October 23, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'योग करने से हिंदुत्व के बढ़ने का खतरा': कट्टरपंथियों के दबाव में अमेरिका के...

‘योग करने से हिंदुत्व के बढ़ने का खतरा’: कट्टरपंथियों के दबाव में अमेरिका के अलबामा में ‘योग पर बैन’ जारी

कट्टरपंथी ईसाइयों का आरोप है कि स्कूलों में सम्मोहन विद्या के लिए योग का इस्तेमाल किया जाता है। इन ईसाइयों को इस बात का डर सता रहा है कि योग करने से लोग धर्मांतरण कर हिंदू बन सकते हैं।

अमेरिका के अलबामा राज्य में बीते 28 साल से योग पर लगा प्रतिबंध आगे भी जारी रहेगा। इस पर लगे बैन को हटाने के लिए लाया गया विधेयक कट्टरपंथियों के दवाब के कारण पारित ही नहीं हो सका।

अलबामा प्रतिनिधि सभा ने योग विधेयक को 17 के मुकाबले 84 मतों से पारित करा लिया। मंजूरी के लिए इसे राज्य की सीनेट में लाया गया था। ताकि इस पर से प्रतिबंध को हटाया जा सके। लेकिन, कट्टरपंथी ईसाइयों के चलते ऐसा नहीं हो सका।

अलबामा हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव जेरेमी ग्रे ने कट्टरपंथियो को जवाब देते हुए कहा कि वो खुद बीते 10 साल से योग कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “मैंने खुद 5 साल तक कक्षाओं में योग सिखाया है और हर रविवार बैप्टिस चर्च जाता हूँ।”

आपको बता दें कि जेरेमी ग्रे 2019 से योगा पर बैन हटाने के लिए प्रयासरत हैं। वह कहते हैं कि इस विधेयक का उद्देश्य केवल अलबामा के सरकारी स्कूलों में योग को ऐच्छिक विषय के तौर पर चुनने का विकल्प देना था।

हिंदूफोबिया के शिकार हैं कट्टरपंथी ईसाई

कट्टरपंथी ईसाइयों के कारण ही अलबामा की स्कूलों में 1993 से योग पर बैन लगा हुआ है। कट्टरपंथी समूहों का आरोप था कि सरकारी स्कूलों में सम्मोहन विद्या के लिए योग का इस्तेमाल किया जाता है। इस कारण चरमपंथियों के दवाब में आकर अलबामा शिक्षा बोर्ड ने सम्मोहन और ध्यान को प्रतिबंधित करने के पक्ष में वोट किया था। तभी से यहाँ योग बैन है। इन ईसाइयों को इस बात का डर सता रहा है कि योग करने से लोग धर्मांतरण कर हिंदू बन सकते हैं।

योग सनातन संस्कृति का है अहम हिस्सा

योग सदियों से हिंदू संस्कृति का एक अहम हिस्सा रहा है। इसके कई चिकित्सकीय फायदे हैं। आध्यात्मिक तौर पर आत्मा को परमात्मा से मिलाने की क्रिया योग है और वैज्ञानिक दृष्टि से यह स्वस्थ जीवन का आधार है। यही कारण था कि 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित कर दिया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मृत जवान के परिजनों से मिले गृह मंत्री, पत्नी को दी सरकारी नौकरी: सुरक्षा पर बड़ी बैठक, जानिए अमित शाह के J&K दौरे में...

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह शनिवार (23 अक्टूबर, 2021) को केंद्रशासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के दौरे पर पहुँचे। मृत पुलिस जवान के परिजनों से मुलाकात की।

परमवीर सूबेदार जोगिंदर सिंह: जो बिना हथियार 200 चीनी सैनिकों से लड़े… पापा से प्यार इतना कि बलिदान पर बेटी का भी निधन

15 साल की उम्र में ब्रिटिश इंडियन आर्मी को ज्वॉइन कर लिया था सूबेदार जोगिंदर सिंह ने और सिख रेजीमेंट की पहली बटालियन का हिस्सा बन गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,988FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe