Friday, July 1, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयरूस के पर्म यूनिवर्सिटी में गोलीबारी, 8 की मौत: छात्र तिमूर ने ही दिया...

रूस के पर्म यूनिवर्सिटी में गोलीबारी, 8 की मौत: छात्र तिमूर ने ही दिया घटना को अंजाम, वीडियो में दूसरी मंजिल से कूदते दिखे लोग

बताया जा रहा है कि हत्यारा का नाम तिमूर बेकमनसुरोव है। उसका कहना है कि ये आतंकी हमला नहीं है और वो किसी कट्टरपंथी संगठन से नहीं जुड़ा हुआ है।

रूस के वेस्टर्न सर्बिया में स्थित पर्म युनिवर्सिटी में एक छात्र ने ही गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद 8 लोगों की मौत हो गई है। सोशल मीडिया पर कई दर्दनाक वीडियो भी वायरल हुए हैं, जिनमें छात्रों को दूसरी मंजिल से कूदते हुए देखा जा सकता है। कई छात्रों ने खिड़की से कूद कर अपनी जा बचाई। ये यूनिवर्सिटी रूस की राजधानी मॉस्को से 1300 किलोमीटर पूर्व की दिशा में स्थित है। गोली लगने और खिड़की से गिरने के कारण 10 लोग घायल भी हुए हैं।

रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि यूनिवर्सिटी ने कुल 9 एम्बुलेंस लगा रखे हैं, ताकि घायलों को अस्पताल ले जाया जा सके। रूस के गृह मंत्रालय ने बताया कि शूटर भी घायल हुआ है और उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। घटना के बाद आपराधिक हत्या का मामला चलाया जा रहा है। बताया जा रहा है कि हत्यारा का नाम तिमूर बेकमनसुरोव है। आरोपित का कहना है कि ये आतंकी हमला नहीं है और वो किसी कट्टरपंथी संगठन से नहीं जुड़ा हुआ है।

हत्यारा भी उसी यूनिवर्सिटी का छात्र है। छात्रों ने कक्षाओं में कुर्सियों का इस्तेमाल कर के बैरिकेड्स बनाए, ताकि हत्यारा उन्हें नुकसान नहीं पहुँचा सके। उस समय क्लास में 60 छात्र मौजूद थे। जाँच एजेंसियों ने कहा है कि जो कैंपस छोड़ सकते हैं, वो बाहर निकल जाएँ। कई कर्मचारियों ने खुद को कमरों में बंद कर लिया था। रूस में हर कोई बंदूक नहीं रख सकता, लेकिन शिकार, आत्मरक्षा और खेल के लिए इसकी अनुमति है।

रूस में इस तरह की घटनाएँ आम नहीं हैं। इसी साल 11 मई को कज़ान इलाके में एक किशोर ने 7 बच्चों और दो शिक्षकों को एक स्कूल में मार डाला था। इसके बाद राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने कहा था कि बंदूक रखने के नियमों को और कड़ा किया जाएगा। इसके बाद बंदूक खरीदने की उम्र को 18 से बढ़ा कर 21 कर दिया गया। इससे पहले 2018 की एक घटना में एक व्यक्ति ने 20 लोगों को मार डाला था और अंत में खुद को गोली मार दी।

कुछ रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि हत्यारे ने एक सोशल मीडिया पोस्ट लिख कर पहले ही बता दिया था कि वो अकेले इस घटना को आजम देने जा रहा है और इसके पीछे उसका कोई उद्देश्य नहीं है। छात्र दूसरी मंजिल से कूद रहे थे और डर से चिल्ला रहे थे। पर्म यूनिवर्सिटी के कैंपस में कुल 10 इमारतें हैं। हाल के दिनों में यूरोप के कई देशों में कट्टरपंथी आतंकी हमले बढ़ने की खबर आई है और फ़्रांस में एक छात्र ने शिक्षक का गला रेत दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,261FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe