Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय3.5 किलो मांस, थोड़े बाल और खून: जहाँ हुई बांग्लादेशी सांसद की हत्या उस...

3.5 किलो मांस, थोड़े बाल और खून: जहाँ हुई बांग्लादेशी सांसद की हत्या उस फ्लैट के सीवेज से मिले कई सुराग, अब होगी DNA जाँच

बांग्लादेश जासूसी विभाग के प्रमुख हारुन-या-रशीद ने बताया, "हमने पश्चिम बंगाल CID की मदद से उस डुप्लेक्स फ्लैट (हत्या की जगह) की सीवेज लाइन और सेप्टिक टैंक खुलवाया है, वहाँ हमें मांस मिला है।"

बांग्लादेशी सांसद अनवारुल अजीम अनाक की हत्या के मामले में अब बांग्लादेश से आए खुफिया विभाग के अधिकारी जाँच कर रहे हैं। उन्होंने इसी क्रम में कोलकाता फ्लैट का सीवर और सेप्टिंक टैंक खुलवाया है जहाँ उन्हें माँस के टुकड़े बरामद हुए हैं। इन मांस के टुकड़ों का DNA टेस्ट होने के बाद पता चलेगा कि ये अनवारुल अजीम का ही है या किसी और कहा

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, बांग्लादेश जासूसी विभाग के प्रमुख हारुन-या-रशीद ने बताया, “हमने पश्चिम बंगाल CID की मदद से उस डुप्लेक्स फ्लैट (हत्या की जगह) की सीवेज लाइन और सेप्टिक टैंक खुलवाया है, वहाँ हमें मांस मिला है। इसे फोरेंसिक और डीएनए टेस्ट के लिए भेजा जाएगा, उसके बाद ही कुछ कहा जा सकता है। फोरेंसिक और डीएनए टेस्ट के बाद ही हम बता सकते हैं कि यह किसके शरीर के माँस हैं।”

इस मामले में एक अन्य रिपोर्ट खुलासा करती है कि सेप्टिक बैंक से करीब 3.5 किलो मांस मिला है। साथ ही कुछ बाल भी बरामद किए गए हैं। एक सीआईडी के एक अधिकारी ने बताया कि बांग्लादेशी सांसद की जिस फ्लैट में हत्या की गई, उसे लेकर पुलिस को संदेह था कि खून को शौचालय के जरिए ही बहाया गया होगा। यही वजह रही कि एक टीम को नाली के पाइप और सेप्टिक टैंक की जाँच में लगाया गया। जाँच हुई तो उसके बाद वहाँ से मांस के टुकड़े और बाल मिले।

बता दें कि भारत अपने इलाज के लिए आए बांग्लादेशी सांसद अजीम की हत्या कोलकाता के फ्लैट में की गई थी। इसके बाद कसाई से उनके शरीर से खाल उतरवाकर मांस छीला गया था और फिर उसके 80 टुकड़े करके उसे हल्दी लगातार पैकेटों में बहाया गया ताकि वो बदबू न करें। इनमें कुछ पैकेट आसपास नहर में फेंके गए थे वहीं कुछ अन्य जगह। पुलिस सांसद के सारे टुकड़े बरामद करने का प्रयास कर रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अच्छा! तो आपने मुझे हराया है’: विधानसभा में नवीन पटनायक को देखते ही हाथ जोड़ कर खड़े हो गए उन्हें हराने वाले BJP के...

विधानसभा में लक्ष्मण बाग ने हाथ जोड़ कर वयोवृद्ध नेता का अभिवादन भी किया। पूर्व CM नवीन पटनायक ने कहा, "अच्छा! तो आपने मुझे हराया है?"

‘माँ गंगा ने मुझे गोद ले लिया है, मैं काशी का हो गया हूँ’: 9 करोड़ किसानों के खाते में पहुँचे ₹20000 करोड़, 3...

"गरीब परिवारों के लिए 3 करोड़ नए घर बनाने हों या फिर पीएम किसान सम्मान निधि को आगे बढ़ाना हो - ये फैसले करोड़ों-करोड़ों लोगों की मदद करेंगे।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -