Friday, July 30, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'इस देश को काफिरों से मुक्त कराना होगा...': दिल्ली पर जिस मौलाना को चाहिए...

‘इस देश को काफिरों से मुक्त कराना होगा…’: दिल्ली पर जिस मौलाना को चाहिए कब्जा, उसके मोबाइल में मिले एडल्ट कंटेंट

“अल्लाह के मुल्क में प्रशासनिक आदेश नहीं हो सकते। यही कारण है कि मैं किसी भी आदेश का पालन नहीं करता हूँ। मेरी डिक्शनरी या संविधान किसी भी प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति या सांसद को मान्यता नहीं देती अगर वे इस्लाम के खिलाफ जाते हैं तो… आप क्या करेंगे?”

बांग्लादेश के कट्टरपंथी इस्लामी उपदेशक रफीकुल इस्लाम मदनी को रैपिड एक्शन बटालियन (RAB) ने हाल ही में गिरफ्तार किया है। इस्लाम के नाम पर दूसरों को उकसाने वाले मदनी के मोबाइल से एडल्ट कंटेंट मिले हैं। RAB ने इसकी जानकारी देते हुए उसे ‘फ्रॉड’ उपदेशक बताया है।

उसकी गिरफ्तारी 12 मार्च को जन्नत टीवी 24 पर अपलोड किए गए एक वीडियो को लेकर हुई है। इसमें वह अपने अनुयायियों को अल्लाह के नियमों का पालन करने के नाम पर संविधान तथा कानून की अवहेलना करने के लिए उकसाता दिखा था।

वीडियो में उसने कहा था, “अल्लाह के मुल्क में प्रशासनिक आदेश नहीं हो सकते। यही कारण है कि मैं किसी भी आदेश का पालन नहीं करता हूँ। मेरी डिक्शनरी या संविधान किसी भी प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति या सांसद को मान्यता नहीं देती अगर वे इस्लाम के खिलाफ जाते हैं तो… आप क्या करेंगे?”

(Video Courtesy: Youtube/ Jannat Tv 24)

वह आगे कहता है, “आप इसके लिए मुझे मार सकते हैं, कैद कर सकते हैं या मुझे फाँसी भी दे सकते हैं। आप (प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति का जिक्र करते हुए) वही करें जो आपका कानून या संविधान कहता है और मैं वही करूँगा जो मेरे अल्लाह कहते हैं। मैं राष्ट्रपति का सम्मान तभी करूँगा जब वह अल्लाह और इस्लाम का सम्मान करेंगे।”

कथित इस्लामी उपदेशक ने शेख हसीना की अवामी लीग पार्टी को धमकी देते हुए कहा, “यह जान लें कि अगर आप (हम पर) पत्थर फेंकते हैं, तो आप पर ईंटें फेंकी जाएँगी। यदि आप इससे नहीं सीखते हैं, तो आप खुद को एक खतरनाक स्थिति में पाएँगे। हम आपके खिलाफ नहीं हैं। हमारी फोल्ड में लौट आओ।”

7 अप्रैल को जन्नत टीवी 24 पर अपलोड एक अन्य वीडियो में रफीकुल इस्लाम मदनी को मुसलमानों को इस्लाम के लिए मरने के लिए उकसाते हुए देखा गया था। उसने कहा था, “हमें इस देश और इस्लाम को, माफिया सरकार और काफिरों के हाथों से मुक्त कराना होगा… सभी इस्लामी संस्थानों के लिए एक मजहबी प्रमुख होना चाहिए। उनके निर्देशों के तहत, हम सरकारी तंत्र को पंगु बना देंगे और इस देश को माफियाओं के हाथों से मुक्त करेंगे। यदि आवश्यक हो, तो हम सेना को शक्ति प्रदान करेंगे।”

इसके अलावा, उसने अपने अनुयायियों को यह आरोप लगाकर भड़काया कि अवामी लीग का छात्रसंघ उन्हें और ऐसे अन्य प्रचारकों को मार देगा। रफीकुल इस्लाम मदनी ने कहा कि सभी विद्रोही मौलवी बांग्लादेश की खुफिया एजेंसियों की निगरानी में हैं। उसने कहा, “आज, मैं जिहाद नहीं कर सकता। वे मुझे प्रताड़ित कर सकते हैं, सड़क पर हमला कर सकते हैं या मुझे मार सकते हैं। मैं व्यर्थ में मरना नहीं चाहता।”

(Video Courtesy: Youtube/ Jannat Tv 24)

उसने सवालिया लहजे में अपनी बात बताते हुए पूछा, “मैं अल्लाह के आह्वान पर सही कारण के लिए शहीद होना चाहता हूँ। मैं बेवजह मरना नहीं चाहता। इसलिए मैं सुरक्षित रहने की कोशिश करता हूँ। हालाँकि हम मरना चाहते हैं, लेकिन ऐसा करने के लिए कोई प्लेटफॉर्म नहीं है। हम मरना चाहते हैं। हम अपन जीवन शहीद करना चाहते हैं। इस देश में (इस्लाम के लिए) लाखों लोग मरने को तैयार हैं। तुम किससे डरते हो?”

बांग्लादेशी मुसलमान दिल्ली पर कब्जा करें

पीएम मोदी की हालिया बांग्लादेश यात्रा का विरोध करते हुए रफीकुल इस्लाम मदनी ने एक वीडियो संदेश जारी किया था। उसने चेतावनी देते हुए कहा था, “हम बांग्लादेश की धरती पर मोदी को कदम नहीं रखने देंगे। हमारे सभी उलेमा कल इसे साबित कर देंगे।” शेख मुजीबुर रहमान का हवाला देते हुए, उसने धमकी दी कि 18 करोड़ बांग्लादेशी मुसलमान शक्तिशाली हैं या मोदी… यह उनकी यात्रा के दौरान साबित हो जाएगा।

उसने मुसलमानों को उकसाते हुए कहा, “अगर भारत में अल्लामा मदनी की संतान हमें दिल्ली पर कब्जा करने के लिए बुलाती है, तो, हम जाएँगे और करेंगे। दुनिया की कोई भी ताकत हमें रोक नहीं सकती। कोई भी शक्ति या बाड़ हमें रोक नहीं सकती। मुसलमानों के लिए हमारा प्यार इतना मजबूत है कि हम दिल्ली तक एक लंबा मार्च करेंगे। मुसलमानों को अल्लाह और साथी मुसलमानों से प्यार है। अपने इमान को मजबूत रखें। युद्ध के मैदान में जाओ। यदि आप मर जाते हैं, तो शहीद हो जाएँगे।”

उसने कहा था, “आप विश्वास नहीं कर सकते कि बांग्लादेश सरकार अब अपनी शर्तों पर काम नहीं कर रही है। यह हिंदुत्व और मोदी के इशारे पर चल रहा है। मोदी जो भी चाहते हैं, इस देश में होता है। अवामी लीग, चतरा लीग और शेख हसीना के मामले में ऐसा ही है। आज, सभी मंदिरों को उन्नत किया जा रहा है और यहाँ की मस्जिदें मर रही हैं। इसका मतलब है कि जो भी मोदी के खिलाफ बोलेगा उसे यातनाएँ दी जाएँगी और जेल में बंद किया जाएगा। लॉकडाउन के नाम पर वे मस्जिदों और मदरसों को बंद करवाएँगे। हम कुछ भी नहीं मानेंगे… हम चाहते हैं कि यह देश एक सच्चा इस्लामी गणराज्य हो।”

कौन है रफीकुल इस्लाम मदनी

बता दें कि मदनी की उम्र 26 साल है। पर वह ‘शिशु वक्ता (shishu bokta)’ के नाम से जाना जाता है। वजह उसकी हाइट है। भले ही वह 3 फीट 4 इंच का ही हो, लेकिन जहर जमकर उगलता है। सरकार, प्रधानमंत्री, मंत्रियों और नामचीन लोगों के खिलाफ देशभर में घूम-घूमकर जहर उगल उसने पहचान बनाई है। बांग्लादेश में इस्लामी शासन की वह पैरोकारी करता है। वह कट्टरपंथी संगठन हिफाजत-ए-इस्लाम (Hefazat-e-Islam) से जुड़ा है। मोदी की यात्रा के विरोध में बांग्लादेश में हुई हिंसा के लिए यही संगठन जिम्मेदार था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तालिबान की मददगार पाकिस्तानी फौज, ढेर कर अफगान सेना ने दुनिया को दिखाए सबूत: भारत के बनाए बाँध को भी बचाया

अफगानिस्तान की सेना ने तालिबान को कई मोर्चों पर पीछे धकेल दिया है। उनकी मदद करने वाले पाकिस्तानी फौज से जुड़े कई लड़ाकों को भी मार गिराया है।

स्वतंत्र है भारतीय मीडिया, सूत्रों से बनी खबरें मानहानि नहीं: शिल्पा शेट्टी की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा कि उनका निर्देश मीडिया रिपोर्ट्स को ढकोसला नहीं बताता। भारतीय मीडिया स्वतंत्र है और सूत्रों पर बनी खबरें मानहानि नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,014FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe