Monday, July 26, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'इमरान खान नहीं पूरा कर पाएँगे अपना कार्यकाल, तंग आ गए हैं पाकिस्तानी इस...

‘इमरान खान नहीं पूरा कर पाएँगे अपना कार्यकाल, तंग आ गए हैं पाकिस्तानी इस कठपुतली सरकार से’

"पाकिस्तान में यहाँ-वहाँ सभी जगह प्रदर्शन ही प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रत्येक व्यक्ति सरकार से किसी न किसी रूप में परेशान है, प्रताड़ित किया जा रहा है और पूर्णतः सरकार से नाराज़ है। हम कठपुतली सरकार से परेशान आ चुके हैं।"

पाकिस्तान में छपे डॉन अखबर के मुताबिक विपक्ष के नेता बिलावल भुट्टो ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान के कार्यकाल के सम्बन्ध में बड़ा बयान दिया है। उन्होंने तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी की सरकार पर निशाना साधते हुए घटक दलों के सरकार चला रही पार्टी से भी नाखुश होने के भी संकेत दिए।

बता दें कि रविवार को पाकिस्तान के विपक्षी नेता और पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो ने जिन्ना स्नातकोत्तर चिकित्सा केंद्र का दौरा किया था उस दौरान मीडिया को संबोधित करते हुए भुट्टो ने कहा था कि संघीय सरकार देश को सही दिशा में ले जाने के लिए सक्षम होती है।

डॉन अख़बार की खबर के मुताबिक बिलावल ने कहा कि देश को चलाने के लिए संघीय सरकार को सर्वोत्तम व्यवस्था बताया है। उन्होंने विस्तार से बात करते हुए बताया कि कैसे इमरान की तहरीक ए इंसाफ की सरकार पर खतरा मंडरा रहा है। राजनीतिक दलों और जनता के नाखुश रवैये पर प्रकाश डालते हुए भुट्टो ने कहा कि पाकिस्तान में यहाँ-वहाँ सभी जगह प्रदर्शन ही प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रत्येक व्यक्ति सरकार से किसी न किसी रूप में परेशान है, प्रताड़ित किया जा रहा है और पूर्णतः सरकार से नाराज़ है। बिलावल ने कहा कि हम कठपुतली सरकार से परेशान आ चुके हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स में बिलावल के हवाले से कहा गया है, “प्रत्येक राजनीतिक दल और व्यापारी, शिक्षक, डॉक्टर तथा मजदूर सहित सभी तबकों के लोग, सरकार की नीतियों से नाखुश हैं। इससे मुझे लगता है कि इमरान खान अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएँगे।”

बता दें कि इमरान खान ने 17 अगस्त 2018 को पाकिस्तान के 22वें प्रधानमन्त्री के रूप में शपथ ली थी। 176 वोटों के साथ उन्होंने इस पद पर अपनी दावेदारी को जीत में तब्दील किया था मगर अब विपक्ष के बयान, जनता की हाय-हाय और सरकार में साथ दे रहे दलों से बढ़ते अविश्वास के बीच इमरान खान को अपनी सत्ता की कुर्सी हिलती दिख रही है। यही वजह हो कि पीओके से लेकर भारत के सम्बन्ध में इमरान आजकल खूब ऊट-पटांग बोल रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हम आपको नहीं सुनेंगे…’: बॉम्बे हाईकोर्ट से जावेद अख्तर को झटका, कंगना रनौत से जुड़े मामले में आवेदन पर हस्तक्षेप से इनकार

जस्टिस शिंदे ने कहा, "अगर हम इस तरह के आवेदनों को अनुमति देते हैं तो अदालतों में ऐसे मामलों की बाढ़ आ जाएगी।"

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस रहे मदन लोकुर से पेगासस ‘इंक्वायरी’ करवाएँगी ममता बनर्जी, जिस NGO से हैं जुड़े उसे विदेशी फंडिंग

पेगासस मामले की जाँच के लिए गठित आयोग का नेतृत्व सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मदन लोकुर करेंगे। उनकी नियुक्ति सीएम ममता बनर्जी ने की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,294FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe