Tuesday, May 21, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयअफगानिस्तान के काबुल में अलग-अलग बम धमाकों में कम-से-कम 30 लोगों की मौत: मस्जिद...

अफगानिस्तान के काबुल में अलग-अलग बम धमाकों में कम-से-कम 30 लोगों की मौत: मस्जिद में जुमे की नमाज पढ़ने के दौरान हुआ विस्फोट

गुरुवार (28 अप्रैल 2022) को अफगानिस्तान के मजार-ए-शरीफ इलाके में दो अलग-अलग विस्फोटों में 11 लोगों की मौत हो गई थी। इस हमले में 13 लोग घायल हो गए थे। यह धमाका एक बस में हुआ था, जिसमें महिलाएँ एवं बच्चे सवार थे। इस हमले की जिम्मेदारी ISIS ने ली थी।

अफगानिस्तान (Afghanistan) की राजधानी काबुल (Kabul) में शुक्रवार (29 अप्रैल 2022) की दो बम विस्फोट हुए। इन दोनों विस्फोटों में कम-से-कम 30 लोगों के मारे जाने की खबर है। वहीं, बड़ी संख्या में लोग घायल हुए हैं। खबर यह भी आ रही है कि मृतकों की संख्या बताई गई संख्या से कई गुना अधिक है। वहीं, तालिबान अधिकारियों ने एक विस्फोट में 20 और दूसरे में 10 लोगों के मौत की पुष्टि की है।

अफगानिस्तान के आंतरिक मंत्रालय (MoI) के एक प्रवक्ता ने कहा कि काबुल के छठे पुलिस जिले में एक मस्जिद में विस्फोट हुआ। इसमें कम-से-कम 20 लोग मारे गए हैं। हमलावर भी मारा गया है। घटना काबुल के सराय अलाउद्दीन की है। इस हमले में घायलों की जानकारी अभी सामने नहीं आई है।

वहीं, दूसरा ब्लास्ट काबुल के दारुल अमन इलाके के एक घर में हुआ है। अफगानिस्तान की न्यूज एजेंसी टोलो न्यूज के अनुसार, इसमें 10 लोगों के मारे जाने की खबर है। वहीं, इस हमले में 20 लोगों के घायल होने की बात सामने आ रही है।

बताया जा रहा है कि सराय उलाउद्दीन की सुन्नी मस्जिद में बड़ी संख्या में लोग नमाज पढ़ने के लिए इकट्ठा हुए थे। इसी दौरान धमाका हुआ। अभी तक इन हमलों की जिम्मेदारी किसी ने नहीं ली है।

बता दें कि गुरुवार (28 अप्रैल 2022) को अफगानिस्तान के मजार-ए-शरीफ इलाके में दो अलग-अलग विस्फोटों में 11 लोगों की मौत हो गई थी। इस हमले में 13 लोग घायल हो गए थे। यह धमाका एक बस में हुआ था, जिसमें महिलाएँ एवं बच्चे सवार थे। इस हमले की जिम्मेदारी ISIS ने ली थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -