Tuesday, December 6, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयखालिस्तान समर्थक 'खालसा एड' को हैरी पॉटर की लेखिका जेके रोलिंग ने दिया मोटा...

खालिस्तान समर्थक ‘खालसा एड’ को हैरी पॉटर की लेखिका जेके रोलिंग ने दिया मोटा दान

खालसा एड पर आरोप है कि वह BKI से जुड़े कुछ संगठनों में से एक है और BKI के भारतीय सदस्यों को आतंकी गतिविधियों के लिए फंडिंग करता है।

हैरी पॉटर की रचना करने वाली ब्रिटिश लेखिका जेके रोलिंग के चैरिटेबल संगठन ‘द वॉलन्ट चैरिटेबल ट्रस्ट’ ने खालिस्तानी समर्थक खालसा एड को भारत में Covid-19 राहत कार्यों के नाम पर अच्छा-खासा दान दिया है। खालसा एड ने ट्विटर पर इसकी सूचना देते हुए लिखा कि जेके रोलिंग के चैरिटेबल ट्रस्ट से मिले ‘सिक्स फिगर डोनेशन’ के लिए संगठन आभारी है। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए रोलिंग ने उन लोगों को धन्यवाद दिया जिन्होंने उनकी बच्चों की किताब The Ickabog खरीदा है।

पिछले कई दिनों से खालसा एड भारत में कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ने में सहायता का दावा कर रहा है और इसके लिए लोगों से डोनेशन की अपील भी कर रहा है।

हमने विस्तार में रिपोर्ट दी थी कि खालसा एड पर खालिस्तानी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल (BKI) से जुड़े होने का आरोप है। दिसंबर 2012 में NIA ने इस संबंध में मामला भी दर्ज किया था। खालसा एड पर आरोप है कि वह BKI से जुड़े कुछ संगठनों में से एक है और BKI के भारतीय सदस्यों को आतंकी गतिविधियों के लिए फंडिंग करता है। बब्बर खालसा हिंसा के द्वारा भारत में एक स्वतंत्र सिख राज्य स्थापित करने का उद्देश्य रखता है और भारत में कई आतंकी हमलों के लिए भी जिम्मेदार है। ट्रम्प प्रशासन ने भी BKI को अमेरिका के हितों के लिए खतरा बताया था।   

इसके अलावा खालसा एड ने स्वयं यह स्वीकार किया था कि संगठन संघर्ष प्रभावित सीरिया में राहत कार्यों के नाम पर दान लेने के बाद भी सीरिया गया ही नहीं था। संगठन केरल और बांग्लादेश में भी राहत कार्यों का दावा करता है, किन्तु संगठन की आर्थिक जानकारियों में कहीं भी इन स्थानों में संगठन के द्वारा किए गए किसी भी राहत कार्य का कोई उल्लेख नहीं है।

एक व्यक्ति ने खालसा एड के प्रमुख रवि सिंह पर राहत कार्यों के नाम पर लोगों से दान लेने का आरोप लगाया है। उस व्यक्ति के अनुसार गरीबों की सहायता और कई स्थानों पर पीड़ितों के नाम पर खालसा एड और उसके सीईओ लोगों से सहायता लेते हैं और उसका थोड़ा सा हिस्सा ही राहत कार्यों में खर्च करते हैं। दान में प्राप्त राशि का एक बड़ा हिस्सा निजी और दूसरे अन्य उद्देश्यों के लिए खर्च किया जाता है। आरोप लगाने वाले व्यक्ति का कहना है कि खालसा एड के प्रोजेक्ट्स में कई धांधलियाँ हैं और उनकी कार्यप्रणाली में कोई भी पारदर्शिता नहीं है।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मोदी-योगी को माँ-बहन की गालियाँ, हिन्दू समाज पर अभद्र टिप्पणी: ग्राम प्रधान सत्तार गिरफ्तार, डर से हिन्दुओं ने बंद कर लिए थे घरों-दुकानों के...

उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में PM नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को माँ-बहन की गालियाँ देने वाला ग्राम प्रधान सत्तार गिरफ्तार।

क्या Google को खा जाएँगे एलन मस्क: आम आदमी की जुबान भी पकड़ लेता है ChatGPT, जानिए इसके बारे में सबकुछ

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस रिसर्च ग्रुप OpenAI ने चैटजीपीटी (ChatGPT) लॉन्च किया है। यह चैटबॉट मानवीय भाषा और व्यवहार को समझकर जवाब देने में सक्षम है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
237,010FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe