Sunday, August 1, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयघोटालेबाज, खालिस्तान समर्थक, चीनी कंपनियों का पैरोकार: नवदीप बैंस के चेहरे कई

घोटालेबाज, खालिस्तान समर्थक, चीनी कंपनियों का पैरोकार: नवदीप बैंस के चेहरे कई

नवदीप बैंस कनाडा सरकार के भीतर खालिस्तानी हमदर्दों में से एक माने जाते हैं। बताया जाता है कि खालिस्तानी कट्टरपंथी संगठन वर्ल्ड सिख ऑर्गनाइजेशन ने उन्हें आगे बढ़ाया है। इस संगठन पर सिखों को कट्टरपंथी बनाने और उन्हें विभाजित करने के प्रयासों का आरोप है।

इस हफ्ते की शुरुआत में भारतीय मूल के हाई-प्रोफाइल कनाडाई सिख मंत्री नवदीप बैंस (Navdeep Bains) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। ‘व्यक्तिगत कारणों’ का हवाला देते हुए उन्होंने राजनीति भी छोड़ दी है।

रिपोर्टों के अनुसार नवदीप बैंस जो कि खालिस्तान आंदोलन के एक प्रबल समर्थक माने जाते हैं ने नवाचार, विज्ञान एवं उद्योग मंत्री के पद से इसलिए इस्तीफा दिया, क्योंकि वह अपने परिवार के साथ अधिक समय बिताना चाहते थे।

हालाँकि नवदीप बैंस ने 2013 के बाद से जस्टिन ट्रूडो के पहले कार्यकाल में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। लेकिन कनाडा में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार उजागर होने के बाद कैबिनेट से इस्तीफा देने के लिए उन्हें मजबूर किया गया था। बैंस के इस्तीफे को सत्तारूढ़ लिबरल पार्टी को भ्रष्टाचार के आरोपों से लगातार हो रही शर्मिंदगी से बचाने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है।

नवंबर 2018 में, कनाडा स्थित एक मीडिया आउटलेट ने नवदीप बैंस से जुड़े भ्रष्टाचार को उजागर किया था। रिपोर्ट के अनुसार, नवदीप बैंस और एक अन्य लिबरल सांसद राज ग्रेवाल के बीच 20 एकड़ की जमीन के संबंध में अनियमितता हुई थी। घोटाले में सांसदों के शामिल होने के खुलासे से सभी चौंक गए थे। इसके बाद, स्थानीय अधिकारियों ने मामले की तृतीय-पक्ष जाँच का आदेश दिया था और इसकी जानकारी रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस (RCMP) को भेजी थी।

भूमि सौदे में भ्रष्टाचार का मामला अपने आप में दिलचस्प है, जो बताया गया है कि कैसे दो लिबरल सांसद भ्रष्टाचार के कार्य में लिप्त हो गए। खालिस्तान समर्थक नवदीप बैंस और एक अन्य लिबरल सांसद ने ओंटारियो प्रांत से उस भूमि को खरीदा था और फिर ब्रैमटन शहर को काफी अधिक कीमत पर बेच दिया।

जिस शहर को 3.3 मिलियन डॉलर की राशि में खरीदने की योजना थी, बैंस ने उसे सरकारी खजाने के हिसाब से $ 4.4 मिलियन यानी अतिरिक्त $ 1.1 मिलियन में बेच दिया। दिलचस्प बात यह है कि भूमि सौदे में शामिल कंपनी गोरवे हेवेन और उसके एक निदेशक भगवान ग्रेवाल थे, जो 2018 में प्रधानमंत्री ट्रूडो की भारत यात्रा के दौरान उनके साथ थे। इसके अलावा, इसके लगभग आधे निदेशक लिबरल पार्टी को भरपूर दान देने वाले हैं।

खालिस्तान समर्थक और विश्व सिख संगठन के सदस्य नवदीप बैंस

कथित तौर पर, नवदीप बैंस को कनाडा सरकार के भीतर खालिस्तानी हमदर्दों में से एक माना जाता है। खालिस्तानी कट्टरपंथी संगठन वर्ल्ड सिख ऑर्गनाइजेशन (WSO) द्वारा बैंस को आगे बढ़ाया गया है, जिस पर सिख समुदाय को कट्टरपंथी बनाने और उसे विभाजित करने के प्रयासों का आरोप है।

ऑपरेशन ब्लूस्टार के बाद जुलाई 1984 में गठित कनाडा स्थित विश्व सिख संगठन (डब्ल्यूएसओ) खुलकर खालिस्तान की माँग उठाती रही है। वास्तव में, कनाडा के सिख प्रवासी ने खुद को WSO के चरमपंथी संगठन के रूप में चिह्नित किया है।

केवल कनाडा में ही नहीं, बल्कि पूरे उत्तरी अमेरिका और यूरोप में, WSO से संबंधित कट्टरपंथी सिख तत्वों ने अपने-अपने देशों में अपनी विचारधारा के लिए राजनीतिक समर्थन आधार बनाने के लिए राजनीतिक माहौल का इस्तेमाल किया है। खालिस्तान समर्थक एक अन्य आतंकी गुट सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) के साथ-साथ विश्व सिख संगठन और सिख फॉर जस्टिस खालिस्तान आंदोलन को वित्त पोषित करते रहे हैं और खालिस्तान को पुनर्जीवित करने के लिए सोशल मीडिया पर प्रचार भी करते हैं।

नवदीप बैंस के पिता भी डब्ल्यूएसओ के एक प्रमुख नेता हैं और डिक्सी गुरुद्वारा से भी जुड़े हुए हैं- जो भारत विरोधी गतिविधियों का केंद्र है। बैंस का खालिस्तान आतंकवादियों से भी सीधा संबंध है, क्योंकि 1985 के एयर इंडिया बम विस्फोट मामले की जाँच के लिए उनके ससुर दर्शन सिंह सैनी को कनाडा के अधिकारियों ने गवाह के रूप में सूचीबद्ध किया था।

वास्तव में, फरवरी 2007 में हाउस ऑफ कॉमन्स में आतंकवाद विरोधी कानून पर एक बहस के दौरान, तत्कालीन कनाडाई पीएम स्टीफन हार्पर ने एयर इंडिया के बम के साथ बैंस के ससुर के संबंध पर प्रकाश डाला, जिसमें 329 लोग मारे गए थे। इसमें ब्रिटिश, कनाडा और भारत के नागरिक शामिल थे।

तत्कालीन पीएम हार्पर ने कहा था कि बैंस द्वारा आतंकवाद विरोधी कानून का विरोध आरसीएमपी के समक्ष अपने ससुर को पेश करने से रोकने के लिए एक रणनीति थी, क्योंकि कंजरवेटिव्स ने एयर इंडिया मामले की जाँच के लिए कानून का इस्तेमाल करने का समर्थन किया था। इससे पहले, वैंकूवर सन ने बताया था कि बैंस के ससुर बम विस्फोट मामले में संभावित गवाहों की सूची में थे।

बैंस को पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी निशाना बनाया था। कनाडा के रक्षा मंत्री हरजीत सिंह सज्जन और पूर्व सिख सांसद राज ग्रेवाल के अलावा, पंजाब के सीएम ने भी नवदीप बैंस को 2018 में खालिस्तानी हमदर्द के रूप में संदर्भित किया था।

भारत से अवैध इमीग्रेशन में शामिल है बैंस 

खालिस्तानी आतंकी नेटवर्क को प्रायोजित करने के अलावा, बैंस कई अन्य कथित भ्रष्ट सौदों में शामिल है। नवदीप बैंस का नाम पिछले साल कुख्यात फोर्ट एरी गुरुद्वारा घोटाले में भी सामने आया था। गुरुद्वारे ने भारत के तीन धार्मिक प्रचारकों को स्पॉन्सर किया और उन्हें ओटावा प्रशासन से विशेष वीजा दिलवाया।

बाद में यह पता चला कि गुरुद्वारा सक्रिय नहीं था और भारत से कनाडा में अवैध रूप से प्रवासियों में घुसने के लिए बैंस और उनके सहयोगियों द्वारा कवर के रूप में इस्तेमाल किया गया था। तब से, कनाडाई अधिकारियों को नवदीप बैंस द्वारा स्पॉन्सर किए गए तीन भारतीय पुजारियों के बारे में कुछ भी पता नहीं चल पाया है, क्योंकि वे कनाडा में उतरने के बाद गायब हो गए।

स्थानीय लोगों के अनुसार, बैंस ने धार्मिक गतिविधियों की आड़ में अवैध रूप से प्रवासियों को लाने के लिए कागजों पर एक गुरुद्वारे का जाली विवरण दर्ज करवाया था, इसके बदले में उनने भारी मुनाफा कमाया। गुरुद्वारे को बैंस ने अपने पिता बलविंदर बैंस के माध्यम से नियंत्रित किया और अब वह परिवार के लिए एक पैसा बनाने वाली मशीन है। 

लिबरल नेता अपने लाभ के लिए सिख समुदाय के अन्य संस्थागत ढाँचे का भी उपयोग करते रहे हैं। गुरुद्वारे के प्रशासन पर अपनी मजबूत पकड़ रखने वाले बैंस के पिता ने फोर्ट एरी गुरुद्वारे के निदेशकों के रूप में उनके करीबियों को नियुक्त किया था। यह गुरुद्वारा बैंस के प्रतिनिधित्व वाले निर्वाचन क्षेत्र में आता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात, बैंस परिवार कथित रूप से कनाडा में सिख संस्थानों में भ्रष्टाचार के माध्यम से बड़े पैमाने पर पैसे कमा रहा है। आरोप है कि बैंस ने पैसे कमाने के लिए गुरुद्वारे को भी नहीं बख्शा। स्थानीय लोगों का कहना है कि बैंस और उनके पिता भारत में आईईएलटीएस कोचिंग सेंटर और कनाडा में गुरुद्वारों से संबंधित एक इमीग्रेशन नेक्सस चलाते हैं। पिता-पुत्र की जोड़ी इन संस्थानों में छात्रों को सीट की पेशकश करके अवैध इमिग्रेशन की सुविधा प्रदान करती थी, जिनमें से अधिकांश केवल कागज पर मौजूद हैं।

टेलीकॉम लॉबी और चीनी कंपनियों का पक्ष लेने का आरोप

बैंस पर कनाडा के नागरिक समाज समूहों द्वारा मंत्री के रूप में सेवा करते हुए कुछ दूरसंचार समूहों का पक्ष लेने का भी आरोप है। वह इंटरनेट की कीमतों में बढ़ोतरी के लिए दूरसंचार कंपनियों के पक्ष में आरोपों का सामना कर रहे हैं। बैंस पर बड़ी टेलीकॉम कंपनियों के साथ निचली थोक दरों के लिए अपील करने का भी आरोप है।

ट्रूडो की सरकार में मंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, नवदीप बैंस ने उचित राष्ट्रीय सुरक्षा समीक्षा के बिना, CCP को डार्क ट्रैक रिकॉर्ड और कनेक्शन के साथ कई चीनी कंपनियों को हरी झंडी दी थी। माना जाता है कि चीनी दूरसंचार कंपनी Hytera को उचित राष्ट्रीय सुरक्षा समीक्षा के बिना कनाडा में प्रवेश करने की अनुमति देने से पहले से ही बैंस सपोर्ट कर रहे थे।

इसके अलावा, कनाडाई नेता सार्वजनिक सामानों की खरीद में कथित तौर पर भ्रष्टाचार में भी शामिल रहे हैं। बैंस पर 200 मिलियन डॉलर की सार्वजनिक खरीद अनियमितता का आरोप है। बैंस को एक ऐसी कंपनी को टेंडर प्रदान करने के आरोपों का सामना करना पड़ रहा है, जिसमें निर्माण की सुविधा नहीं थी।

खालिस्तानी समर्थक कनाडा के नेता नवदीप बैंस ने भारत में भी प्रदर्शनकारियों के साथ एकजुटता व्यक्त की थी, जिन्होंने अब मोदी सरकार द्वारा शुरू किए गए कृषि सुधारों का विरोध करने के लिए दिल्ली की सड़कों पर डेरा डाल दिया है। बता दें कि तथाकथित ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को खालिस्तानी तत्वों द्वारा हाइजैक कर लिया गया है, जो प्रदर्शनकारियों को भारत सरकार के खिलाफ लड़ने के लिए उकसाने की कोशिश कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तानी मंत्री फवाद चौधरी चीन को भूले, Covid के लिए भारत को ठहराया जिम्मेदार, कहा- विश्व ‘इंडियन कोरोना’ से परेशान

पाकिस्तान के मंत्री फवाद चौधरी ने कहा कि दुनिया कोरोना महामारी पर जीत हासिल करने की कगार पर थी, लेकिन भारत ने दुनिया को संकट में डाल दिया।

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,314FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe