Sunday, March 7, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय चीनी माल जैसा चीन की कोरोना वैक्सीन का असर? मीडिया के सहारे साख बचाने...

चीनी माल जैसा चीन की कोरोना वैक्सीन का असर? मीडिया के सहारे साख बचाने का खतरनाक खेल

ब्राजील ने सिनोवेक वैक्सीन के लास्ट स्टेज ट्रॉयल में पाया कि चीनी वैक्सीन का प्रभाव 50.38% है न कि 78%। यानी उनके हिसाब से वास्तविक प्रभावी क्षमता अब भी स्पष्ट नहीं है।

चीन अपनी कोरोना वैक्सीन को लेकर इतना भी आश्वस्त नहीं है कि उस पर सही जानकारी दे। ऐसे में यदि कोई उसकी आलोचना कर दे तो एक पूरा तंत्र उस व्यक्ति को झुठलाने पर लग जाता है। मगर न चीनी कंपनी और न वहाँ की मीडिया, अपने वैक्सीन की विश्वसनीयता साबित करने का कोई प्रयास करती है और न ही उसके प्रभावकारी डेटा के बारे में कोई जानकारी देती है। बस दूसरों की बुराई करके तथ्यों से बरगलाने की कोशिश चलती रहती है।

सीएनन की रिपोर्ट के अनुसार, हाल में चीन को अपनी वैक्सीन विकासशील देशों को मुहैया करवाने के लिए काफी तारीफ मिली थी। कहा गया था कि चीनी कंपनी सिनोवेक (Sinovac ) और सिनोफर्म (Sinopharm) द्वारा निर्मित वैक्सीन को अन्य पश्चिमी देशों की वैक्सीन की तरह कोल्ड स्टोरेज में रखने की आवश्यकता नहीं है, जबकि अन्य कंपनियों द्वारा निर्मित वैक्सीन सिर्फ़ ठंडे तापमान में ही रह सकती है।

ये सारी बातें ऐसी थीं जो हर हाल में चीनी वैक्सीन को ज्यादा बेहतर दिखा रहीं थी। लेकिन, धीरे धीरे इन दावों की पोल-पट्टी खुलनी शुरू हो गई है। एक समय तक चीन की दोनों कंपनियाँ अपनी वैक्सीन के 78% प्रभावी होने का दावा ठोक रही थीं, जो WHO के तय किए गए मानक (50%)  से काफी अधिक था। 

इसके अलावा यह प्रतिशत ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की एस्ट्राजेनेका (AstraZeneca) वैक्सीन और अमेरिका में विकसित एमआरएनए-आधारित टीकों (mRNA-based vaccines) से भी अधिक प्रभावी था। मगर, अलग-अलग क्षेत्रों से आने वाले ताजा आँकड़े चीन के इस दावे को खारिज करते हैं।

वैक्सीन को लेकर अपर्याप्त डेटा और बेमेल रिपोर्ट्स

रिपोर्ट के अनुसार, ब्राजील ने सिनोवेक वैक्सीन के लास्ट स्टेज ट्रॉयल में पाया कि चीनी वैक्सीन का प्रभाव 50.38% है न कि 78%। यानी उनके हिसाब से वास्तविक प्रभावी क्षमता अब भी स्पष्ट नहीं है। इसी तरह तुर्की ने इसकी प्रभावी क्षमता को 91.25% रखा और इंडोनेशिया ने इसके प्रभावी दर को 65.3% रखा। इसके बाद ब्राजील ने अपने हालिया बयानों में कहा कि कुछ केसों में दूसरों की तुलना में इसकी प्रभावकारिता का स्तर अधिक है।

अब इस तरह भिन्न-भिन्न आँकड़े आने के बाद कुछ देशों ने चीन की इन वैक्सीन को समीक्षा में रखा है और कुछ ने इसे रोल आउट करने का निर्णय लेकर कंपनी से सही जानकारी देने का अनुरोध किया है।

ऐसे में ग्लोबल टाइम्स के संपादक हू-शिजिन (Hu Xijin ) ने अपने देश की साख बचाने के लिए अपने लेख में दावा किया है कि अमेरिका समेत कुछ पश्चिमी देश चीन द्वारा निर्मित वैक्सीन को लेकर नकारात्मक सूचना प्रकाशित कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, “चीन की वैक्सीन की छवि धूमिल करने के लिए प्रेस बाहर आ गया है। उन्हें लग रहा है कि पूरा विश्व फाइजर और अन्य अमेरिकन व पश्चिमी देशों का इंतजार करेगा कि वो अतिरिक्त वैक्सीन तैयार करें और उनका टीकाकरण हो।”

ध्यान देने वाली बात है ग्लोबल टाइम्स यहाँ भी वैक्सीन के प्रभाव पर जानकारी नहीं दे रहा, बल्कि चीनी कंपनी की साख बचाने के लिए दूसरी कंपनियों पर तंज कस रहा है। अपने हालिया संपादकीय में ग्लोबल टाइम्स के संपादक पश्चिमी मीडिया को कोसते हैं। वह कहते हैं, “ऐसे प्रमुख पश्चिमी मीडिया चीनी टीकों के बारे में किसी भी उलटी जानकारी को तुरंत प्रचारित करेंगे और लोगों की मानसिकता को उससे प्रभावित करने का प्रयास करेंगे।”

चीन का प्रभाव और मीडिया का खेल

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स पिछले दिनों कोरोना वैक्सीन से होते दुष्प्रभावों के बारे में प्रकाशित की गई थी। लेकिन नैतिकता के आधार पर यदि देखें तो मीडिया चाहें कहीं की भी हो, महामारी से होती मौतों को हड़बड़ी में वैक्सीन से जोड़ना समझदारी नहीं है। जो रिपोर्ट्स वैक्सीन से हो रही एलर्जी की चर्चा कर रहे हैं उन्हें समझना चाहिए कि वैक्सीन से कुछ रिएक्शन हो सकते हैं, लेकिन बिना प्रमाण उन्हें मौतों से जोड़ना गलत है।

बरगलाने वाले शीर्षकों को देने से भी मीडिया को इस समय बचने की जरूरत है। पाठक कई बार हेडलाइन पढ़कर अंदर पूरी खबर नहीं पढ़ना चाहते और उनके मन में भ्रम उठ जाता है कि कोरोना वैक्सीन सुरक्षित नहीं है। भारतीय मीडिया का उदाहरण लें तो अभी तक ढाई लाख लोगों को टीका लगा है और बहुत कम केस एलर्जी या मृत्यु के आए हैं। लेकिन मीडिया हाउस सीधे वैक्सीन से हुई मृत्यु पर बात करने लगे, जबकि इस बात के कोई सबूत ही नहीं है कि मृत्यु का कारण टीका लेना था।

18 जनवरी को कई एजेंसियों ने दावा किया कि यूपी में वैक्सीन लेने के बाद 48 साल के वार्ड बॉय की मृत्यु हो गई जबकि सच्चाई ये थी कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट में साफ कहा था कि इसका टीके से कोई संबंध नहीं है। उसकी मृत्यु का कारण कोई और बीमारी थी।

कॉन्ग्रेस समर्थक साकेत गोखले ने भी ऐसे फर्जी दावे सनसनीखेज बनाकर पेश किए और कहा कि गर्भवती महिलाओं को ये वैक्सीन लेने से बचना चाहिए, क्योंकि इसके बारे में जानकारी सार्वजनिक नहीं है। सोचिए, ये हाल तब है जब स्वास्थ्य मंत्री कह चुके हैं कि टीके से जुड़ी सारी जानकारी जमीनी स्तर पर उपलब्ध है और 15 जनवरी को शेयर ट्वीट में बता चुके हैं कि किसे वैक्सीन लेने से बचना है।

चीन इस महामारी के समय में भी भारतीय मीडिया को प्रभावित कर रहा है। पिछले सालों में उस पर आरोप रहे हैं कि वो विदेशी पत्रकार को उनके समर्थन में रिपोर्ट लिखने के लिए उकसाता है। वहीं मुख्यधारा का मीडिया इसी प्रोपगेंडे को आगे बढ़ाते हुए चीनी सरकार को अच्छा दिखाने में जुट जाता है और उसी समय भारत के फैसलों को नीचा दिखाता है। हाल में प्रकाशित तमाम वैक्सीन विरोधी लेख यह प्रश्न उठाते हैं कि चीन अपनी साख बचाने के लिए अन्य देश के मीडिया को प्रभावित कर रहा है और अपनी वैक्सीन पर सही तथ्यों को देने से बच रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘कॉन्ग्रेस का काला हाथ वामपंथियों के लिए गोरा कैसे हो गया?’: कोलकाता में PM मोदी ने कहा – घुसपैठ रुकेगा, निवेश बढ़ेगा

कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल में अपनी पहली चुनावी जनसभा को सम्बोधित किया। मिथुन भी मंच पर।

मिथुन चक्रवर्ती के BJP में शामिल होते ही ट्विटर पर Memes की बौछार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले मिथुन चक्रवर्ती ने कोलकाता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में भाजपा का दामन थाम लिया।

‘ग्लोबल इनसाइक्लोपीडिया ऑफ रामायण’ का शुभारंभ: CM योगी ने कहा – ‘जय श्री राम पूरे देश में चलेगा’

“जय श्री राम उत्तर प्रदेश में भी चलेगा, बंगाल में भी चलेगा और पूरे देश में भी चलेगा।” - UP कॉन्क्लेव शो में बोलते हुए सीएम योगी ने कहा कि...

‘राहुल गाँधी का ‘फालतू स्टंट’, झोपड़िया में आग… तमाशे की जिंदगानी हमार’ – शेखर गुप्ता ने की आलोचना, पिल पड़े कॉन्ग्रेसी

शेखर गुप्ता ने एक वीडियो में पूर्व कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी की आलोचना की, जिससे भड़के कॉन्ग्रेस नेताओं ने उन्हें जम कर खरी-खोटी सुनाई।

8-10 घंटे तक पानी में थी मनसुख हिरेन की बॉडी, चेहरे-पीठ पर जख्म के निशान: रिपोर्ट

रिपोर्टों के अनुसार शव मिलने से 12-13 घंटे पहले ही मनसुख हिरेन की मौत हो चुकी थी। लेकिन, इसका कारण फिलहाल नहीं बताया गया है।

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

‘वे पेरिस वाले बँगले की चाभी खोज रहे थे, क्योंकि गर्मी की छुट्टियाँ आने वाली हैं’: IT रेड के बाद तापसी ने कहा- अब...

आयकर छापों पर चुप्पी तोड़ते हुए तापसी पन्नू ने बताया है कि मुख्य रूप से तीन चीजों की खोज की गई।

पिछले 1000-1200 वर्षों से बंगाल में हो रही गोहत्या, कोई नहीं रोक सकता: ममता के मंत्री सिद्दीकुल्लाह का दावा

"उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने यहाँ आकर कहा था कि अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो वह राज्य में गोहत्या को समाप्त कर देगी।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,967FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe