Friday, March 1, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयचीनियों ने पहले उइगर महिलाओं संग बिस्तर बाँटा, अब मुस्लिमों के घर ही बदल...

चीनियों ने पहले उइगर महिलाओं संग बिस्तर बाँटा, अब मुस्लिमों के घर ही बदल डाले

उइगर मुस्लिमों ने नए फरमान पर अमल भी शुरू कर दिया है। करीब 80 से 90 प्रतिशत लोग अपने घरों की साज-सज्जा बदल चुके हैं। एक उइगर महिला के मुताबिक अब उसके घर को कोई पहचान ही नहीं सकता। उसने फरमान के अनुसार हर चीज को बारीकी से बदल दिया है।

चीन में उइगर मुस्लिमों की प्रताड़ना का कोई अंत नहीं दिख रहा। शिनजियांग प्रान्त में ‘चीनीकरण’ के नाम पर उन्हें डिटेंशन सेंटर में रखा गया है। इस्लामिक रीति-रिवाजों और इस्लामी टोपी लगा कर घूमने पर पाबंदी है। नमाज भी पुलिस की निगरानी में अनुमति लेकर ही पढ़ी जा सकती है। इतना ही नहीं ‘पेअर अप एंड बिकम फैमिली’ योजना के तहत चीनी जबरन उइगरों के घर में घुसे। अब मामला उनके घरों की साज-सज्जा बदलने तक पहुॅंच चुका है।

रेडियो फ्री एशिया की खबर के अनुसार, उइगर मुस्लिमों पर अपना घर चीनी परंपरा के अनुरूप डेकोरेट करने का दबाव बनाया जा रहा है। उन्हें धमकी दी जा रही है कि अगर वे ऐसा नहीं करेंगे तो उन्हें डिटेंशन कैंप में डाल दिया जाएगा। जानकारी के अनुसार, चीन ने 575 मिलियन डॉलर का फंड केवल उइगर मुस्लिमों के आधुनिकीकरण के लिए जारी किया है। इसके तहत उनके पारंपरिक डिजाइन के घरों को नष्ट करना भी शामिल है। चीन के जारी फरमान के मुताबिक उइगर समुदाय के लोगों से अपनी संस्कृति छोड़ चीनी परंपरा के हिसाब से घर सजाने बनाना होगा। इसमें उन्हें अपने कालीनों से लेकर तकियों और बिस्तर से लेकर फर्नीचर तक को बदलना होगा।

रिपोर्ट के अनुसार उइगर लोगों ने इस फरमान पर अमल भी शुरू कर दिया है। करीब 80 से 90 प्रतिशत लोग अपने घरों की साज-सज्जा बदल चुके हैं। एक उइगर महिला के मुताबिक अब उसके घर को कोई पहचान ही नहीं सकता। उसने फरमान के अनुसार हर चीज को बारीकी से बदल दिया है।

गौरतलब है कि यूएस स्टेट डिपार्टमेंट द्वारा लगाए गए अनुमानों के अनुसार इस समय चीन में करीब 30 लाख उइगर मुस्लिम ऐसे हैं जिन्हें शिनजयांग स्थित कैंप में और जेलों में कैदी बनाकर रखा गया है। हालाँकि चीन इन्हें रीएड्यूकेशन का नाम देकर अपने कृत्यों पर पर्दा डालता रहता है। लेकिन, कई ऐसे प्रमाण मौजूद हैं, जो चीन की बर्बरता की पुष्टि करते हैं।

चीन पर आरोप है कि वो उइगर मुस्लिमों से उनकी सभ्यता- संस्कृति को छीनना चाहता है। साथ ही एक “Pair Up and Become Family” नाम से एक प्रोग्राम भी चलाता है। इसके तहत चीनी आदमियों को ऐसी उइगर मुस्लिम औरतों के साथ रहने भेजा जाता है, जिनके पतियों को वे कैंप में डाल चुके हैं।

बता दें रेडियो फ्री एशिया इससे पहले अपनी रिपोर्ट में बता चुका है कि चीन के आदमी इन महिलाओं के साथ एक ही बिस्तर पर सोते हैं और उनके साथ रहते हुए चीन की कम्युनिस्ट पार्टियों के बारे में बात करते हैं। इसके अलावा ये भी बताया जाता है कि चीन में हान समुदाय के लोगों को उइगर मुस्लिम महिलाओं से शादी करने के लिए वहाँ की सरकार पैसा, घर, नौकरी तक देती है।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले चाइना उइगर मुस्लिमों के ख़िलाफ़ कड़ा रुख़ अख़्तियार करने की कड़ी में अपने ‘समाजवादी मूल्यों’ (Socialist Values) को प्रतिबिंबित करने के लिए बाइबल और क़ुरान को फिर से लिखने का फैसला भी ले चुका है।

चीन में लिखा जाएगा फिर से बाइबल और क़ुरान! उइगर मुस्लिमों के शोषण के बाद नया फरमान
बाप की मौत, माँ डिटेंशन कैंप में… बेटी को जबरन भेजा हॉस्टल: चीन में 5 लाख मुस्लिम बच्चों की कहानी
182 कन्सेंट्रेशन कैंप, 209 जेल, 74 लेबर कैंप, 10 लाख+ हिरासत में: चीन में उइगर मुस्लिमों की हालत

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कॉन्ग्रेस की जीत के बाद कर्नाटक विधानसभा में लगे थे ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, फॉरेंसिक जाँच से खुलासा: मीडिया में सूत्रों के हवाले से...

एक्सक्लूसिव मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि जो फॉरेंसिक रिपोर्ट राज्य सरकार को दी गई है उसमें कन्फर्म है कि पाकिस्तान जिंदाबाद कहा गया।

सिद्धार्थ के पेट में अन्न का नहीं था दाना, शरीर पर थे घाव ही घाव: केरल में छात्र की मौत के बाद SFI के...

सिद्धार्थ आत्महत्या केस में 6 आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद कॉलेज यूनियन अध्यक्ष के. अरुण और एसएफआई के कॉलेज ईकाई सचिव अमल इहसन ने आत्मसमर्पण कर दिया, जबकि एसएफआई से जुड़े आसिफ खान समेत 9 अन्य आरोपितों की तलाश पुलिस कर रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
418,000SubscribersSubscribe