Wednesday, May 25, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयविंटर ओपलंपिक में लाइव रिपोर्टिंग कर रहे डच पत्रकार को चीनी गार्ड खींच ले...

विंटर ओपलंपिक में लाइव रिपोर्टिंग कर रहे डच पत्रकार को चीनी गार्ड खींच ले गए: अमेरिका ने अपने खिलाड़ियों से कहा- वहाँ मानवाधिकार की बात ना करें

चीनी सुरक्षाबलों की इस हरकत को डेली मेल ने गुंडागर्दी करार दिया है। डेली मेल ने इस रिपोर्ट में हेडलाइन दी 'बीजिंग विंटर ओलंपिक के बाहर से लाइव प्रसारण करते समय कम्युनिस्ट गुंडे एक डच रिपोर्टर को खींच कर ले गए'।

विंटर ओलंपिक 2022 (Winter Olympic 2022) चीन (China) में हो रहा है, जिसे दुनिया भर के पत्रकार कवर करते हैं। लेकिन कम्युनिस्ट विचारधारा का पालन करने वाले चीन को लोकतंत्र और मीडिया की स्वतंत्रता कहाँ से भाएगा। यही हुआ बीजिंग में विंटर ओलंपिक कवर कर रहे एक डच रिपोर्टर के साथ। ओलंपिक की ओपनिंग सेरेमनी की लाइव कवरिंग के दौरान चीन की पुलिस द्वारा उसे जबरदस्ती पकड़ लिया गया।

रिपोर्ट के मुताबिक, घटना शुक्रवार (4 फरवरी 2022) की है, जब ओलंपिक की ओपनिंग सेरेमनी के दौरान डच पब्लिक ब्रॉडकास्टिंग करेस्पॉन्डेंट सोजर्ड डेन दास ने अपनी रिपोर्टिंग कर रहे थे। रिपोर्टिंग के दौरान एक चीनी गार्ड उन्हें जबरदस्ती पीछे धकेलते हुए वहाँ से पकड़ ले गया। इसका वीडियो भी तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में दिख रहा है कि वह अपनी बाँह पर लाल पट्टी बाँध रखी है और मैंडरिन भाषा में कुछ कह रहा था।

नॉस न्यूज जर्नल ने सोजर्ड दास को चाइनीच अधिकारियों द्वारा प्रताड़ित किए जाने पर कहा, “हमारे संवाददाता @sjoerddendaas को NOS जर्नल में दोपहर 12.00 बजे सिक्योरिटी गार्डों ने कैमरे से बाहर खींच लिया था। दुर्भाग्य से चीन में पत्रकारों के लिए यह एक डेली रियलिटी बनता जा रहा है। अच्छी बात यह थी कि वो अपनी स्टोरी खत्म कर पाए।”

हालाँकि, आखिर चाइनीज गार्ड ने एक विदेशी पत्रकार के साथ इस तरह का दुर्व्यवहार क्यों किया यह स्पष्ट नहीं हो पाया है। डेन दास के साथ यह घटना बर्ड्स नेस्ट स्टेडियम के बाहर हुई थी। इतना ही नहीं तानाशाही व्यवस्था में विश्वास रखने वाले चीन के डर का इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि उसने विंटर ओलंपिक के दौरान अंतरराष्ट्रीय एथिलीटों को चीन के आक्रामक, उकसावे, उत्पीड़न और नरसंहार के बारे में बात नहीं करने का आदेश दिया था। चीन की सरकार को क्रूर बताते हुए अमेरिका ने भी अपने खिलाड़ियों को वहाँ के मानवाधिकारों के उल्लंघन के बारे में बात नहीं करने की चेतावनी दी है।

अंतर्राष्ट्रीय मीडिया ने कहा वामपंथी गुंडा (Communist Goons)

चीनी सुरक्षाबलों की इस हरकत को डेली मेल ने गुंडागर्दी करार दिया है। डेली मेल ने इस रिपोर्ट में हेडलाइन दी ‘बीजिंग विंटर ओलंपिक के बाहर से लाइव प्रसारण करते समय कम्युनिस्ट गुंडे एक डच रिपोर्टर को खींच कर ले गए’। इसके अलावा रिपोर्ट में इस बात की आशंका जताई गई है कि पीड़ित रिपोर्टर बर्ड्स नेस्ट स्टेडियम के बजाय सड़क पर एक अंधेरे स्थान पर लाइव कर रहे थे। पहले ही कई देश चीन के शिनजियांग में उइघुर मुस्लिमों के नरसंहार के विरोध में चीन का कई देश बहिष्कार कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिम छात्रों के झूठे आरोपों पर अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी ने किया निलंबित’: हिन्दू छात्र का आरोप – मिली धर्म ने समझौता न करने की...

तिवारी और उनके दोस्तों को कॉलेज में सार्वजनिक रूप से संघी, भाजपा के प्रवक्ता और भाजपा आईटी सेल का सदस्य कहा जाता था।

आतंकी यासीन मलिक को उम्रकैद: टेरर फंडिग में सजा के बाद बजे ढोल, श्रीनगर में कट्टरपंथियों ने की पत्थरबाजी

कश्मीर में कश्मीरी हिंदुओं के नरसंहार के आरोपित यासीन मलिक को टेरर फंडिंग केस में 25 मई को सजा मुकर्रर हुई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,790FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe