Tuesday, August 3, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'भारतीय सेना ने घेर लिया था': पहले इनकार-अब 'शहीद' बता महिमामंडन, चीन ने जारी...

‘भारतीय सेना ने घेर लिया था’: पहले इनकार-अब ‘शहीद’ बता महिमामंडन, चीन ने जारी किए गलवान में मारे गए सैनिकों के डिटेल्स

'Xinhua' समाचार एजेंसी के अनुसार, चेन होंगजुन इसके बाद अपने दो सैनिकों के साथ उस तरफ बढ़े, लेकिन इस दौरान भारतीय सेना उन पर लगातार पत्थरबाजी कर रही थी और लाठी-डंडों से पीट रही थी।

चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी (CPC) के मुखपत्र ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने माना है कि 2020 में गलवान घाटी में भारतीय सेना के साथ संघर्ष के दौरान चीनी फ़ौज (PLA) के जवान मारे गए थे। इनमें से एक का नाम चेन होंगजुन है। चीनी मीडिया ने पहली बार इस तरह से गलवान में भारत के साथ युद्ध में अपने मृत सैनिकों के डिटेल्स जारी किए हैं। चीनी मीडिया का कहना है कि उसके क्वी फाबाओ नामक सैन्य अधिकारी को भारतीय सेना ने घेर लिया था।

‘Xinhua’ समाचार एजेंसी के अनुसार, चेन होंगजुन इसके बाद अपने दो सैनिकों के साथ उस तरफ बढ़े, लेकिन इस दौरान भारतीय सेना उन पर लगातार पत्थरबाजी कर रही थी और लाठी-डंडों से पीट रही थी। चीनी मीडिया का कहना है कि चेन होंगजुन ने अपने शरीर पर ये सब झेला। चीनी मीडिया का दावा है कि उनके कई जवानों को भारतीय सेना द्वारा ‘घेर लिए जाने’ किए जाने के बाद चीनी सेना ने उन्हें छुड़ाने के लिए हमला बोला।

चीनी मीडिया का ये भी कहना है कि होंगजुन के साथ ही चेन जीएनग्रोंग नामक एक सेना का जवान भी मारा गया, जो अपने वरिष्ठ की रक्षा कर रहा था। ‘Xinhua’ की मानें तो उस वक़्त चीनी सेना के जवान सिर्फ साथ जीने-मरने की ही सोच रहे थे और इसीलिए कम लोगों के साथ ही उनकी गलवान में ‘जीत’ हुई। बता दें कि चीन का ये दावा झूठा है क्योंकि भारतीय सेना ने जून 2020 में उन्हें अपने क्षेत्रों पर कब्ज़ा करने से सफलतापूर्वक रोका था।

‘Xinhua’ के अनुसार, “चीनी सेना के जवानों ने इस उद्धरण का पालन किया कि ‘आप निश्चित रहें मेरी मातृभूमि, मैं सीमा पर आपकी सुरक्षा के लिए हूँ’। चेन होंगजुन और उनके 4 साथियों ने जिम्मेदारीपूर्वक बहादुरी दिखाते हुए अपनी जान दे दी। ये लोग काराकोरम की पहाड़ी पर तैनात थे। CPC ने 1 जुलाई, 2021 को वीं वर्षगाँठ से पहले उन्हें अपना सर्वोच्च सम्मान दिया। इस युद्ध में मारे गए अन्य सैनिकों के योगदानों को भी सम्मान दिया गया।”

अर्थात, चीनी मीडिया मान रहा है कि भारत के साथ संघर्ष में उसके सैनिक मारे गए। इस दावे को भारत के कई विपक्षी नेता व वामपंथी पत्रकार भी नकारते रहे हैं। साथ ही चीनी मीडिया ने इन सैनिकों के परिवार की कहानियाँ भी छापी हैं और इनके बारे में देश को बताया है। चेन किस तरह अपनी बीवी को गिफ्ट भेजते थे, उसकी माँ ने क्या कहा से लेकर अन्य अधिकारियों तक के बयान छापे गए हैं। साथ ही इन मृत सैनिकों को ‘नायक’ करार दिया।

चीन ने अपने रेजिमेंटल कमांडर, Qi Fabao को सीमा की रक्षा के लिए वीर रेजिमेंटल कमांडर का टाइटल, चेन होंगज़ुन को बॉर्डर की रक्षा करने के लिए हीरो और चेन जियानग्रोंग, जिओ सियुआन और वांग ज़ुओरन को प्रथम श्रेणी की योग्यता से सम्मानित किया था। चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, वीबो पर अगस्त 2020 में, झड़प में मारे गए चेन सियानग्रोंग (Chen Xiangrong) के एक चीनी सैनिक की एक मकबरे की तस्वीर वायरल हुई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘चुप! वर्दी उतरवा दूँगी.. तेरी औकात नहीं है’: नैनीताल में महिला पर्यटक की पुलिस से दबंगई, ₹6 करोड़ की कार जब्त

महिला के साथ उसके कुछ साथी भी थे, जो लगातार पुलिसकर्मियों के साथ बदसलूकी कर रहे थे। नैनीताल पुलिस ने 6 करोड़ रुपए की कार सीज कर ली है।

‘माँस फेंक करते हैं परेशान’: 81 हिन्दू परिवारों ने लगाए ‘मकान बिकाऊ है’ के पोस्टर, एक्शन में मुरादाबाद पुलिस

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद स्थित कटघर थाना क्षेत्र में स्थित इस कॉलोनी में 81 हिन्दू परिवारों ने 'मकान बिकाऊ है' के पोस्टर लगा दिए हैं। वहाँ बसे मुस्लिमों पर परेशान करने के आरोप।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,740FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe