Saturday, May 25, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयWHO की फंडिंग पर अमेरिका ने लगाई रोक, चीन के साथ मिलीभगत पर ट्रंप...

WHO की फंडिंग पर अमेरिका ने लगाई रोक, चीन के साथ मिलीभगत पर ट्रंप ने लगाए गंभीर आरोप

WHO ने ताइवान को भी नजरअंदाज कर दिया था, जिसने बताया था कि उसके पास वायरस के मानव-से-मानव में पहुँचने के सबूत हैं। ताइवान ने इस बारे में 31 दिसंबर 2020 को WHO को लिखा था, लेकिन इसके बाद भी WHO जनवरी के मध्य तक कोरोना संक्रमण के मानव-से-मानव में पहुँचने से इनकार करता रहा।

इन दिनों कोरोना महामारी से बुरी तरह जूझ रहे अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को मिलने वाले फंड पर रोक लगा दी है। इसका ऐलान करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने अपने प्रशासन को WHO की फंडिंग को रोकने के निर्देश दिए हैं। साथ ही ट्रंप ने कहा है कि कोरोना वायरस के चीन में उभरने के बाद इसके प्रसार को छिपाने और गंभीर कुप्रबंधन में संगठन की भूमिका की समीक्षा की जा रही है।

ट्रंप ने मंगलवार मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, “आज मैं अपने प्रशासन को विश्व स्वास्थ्य संगठन के वित्त पोषण को रोकने का निर्देश दे रहा हूँ। हर कोई जानता है कि वहाँ क्या चल रहा है। WHO को अमेरिकी करदाता प्रत्येक वर्ष 400-500 मिलियन डॉलर सहयोग के तौर पर देता है और वहीं इसके विपरीत चीन संगठन को लगभग 40 मिलियन डॉलर से भी कम प्रति वर्ष योगदान के रूप में देता है।

ट्रंप ने तर्क देते हुए कहा कि संगठन के प्रमुख प्रायोजक के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका का कर्तव्य है कि वह WHO की पूर्ण जवाबदेही पर जोर दे। राष्ट्रपति ट्रंप ने आरोप लगाया है कि चीन के वुहान शहर में जब कोरोना वायरस के मामले सामने आए तो WHO उसका आकलन करने में असफल रहा। उन्होंने पत्रकारों से पूछा कि क्या WHO ने मेडिकल एक्सपर्ट के जरिए चीन के जमीनी हालात का आकलन किया। या क्या इसका पता लगाया कि इस प्रकोप को उसके मूल स्थान पर ही सीमित किया जा सकता है या नहीं?

ट्रंप ने कहा कि अगर WHO इस तरह का प्रयास करता तो से हजारों जानें बच जातीं और विश्व की अर्थव्यवस्था को भी नुकसान नहीं पहुँचता। इसके बजाय WHO चीन के ऐक्शन का बचाव ही करता रहा। एक आँकड़े के मुताबिक 15 अप्रैल तक विश्व में लगभग 20 मिलियन लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। इसके लिए चीन और WHO को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए। इससे पहले भी ट्रंप ने डब्लूएचओ पर चीन का पक्ष लेने का आरोप लगाया था।

यहाँ तक कि जनवरी में WHO के एक चीनी अधिकारी ने कहा था कि कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता है। इसलिए वह (WHO) यात्रियों के लिए और वुहान से किसी भी विशिष्ट स्वास्थ्य उपायों की सिफारिश नहीं करता है।

इतना ही नहीं WHO ने ताइवान को भी नजरअंदाज कर दिया था, जिसने बताया था कि उसके पास वायरस के मानव-से-मानव में पहुँचने के सबूत हैं। ताइवान ने इस बारे में 31 दिसंबर 2020 को WHO को लिखा था, लेकिन इसके बाद भी WHO जनवरी के मध्य तक कोरोना संक्रमण के मानव-से-मानव में पहुँचने से इनकार करता रहा। याद रहे कि ताइवान को चीन की आपत्तियों के कारण WHO की सदस्यता से वंचित किया गया है।

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि यह ढिलाई उस तबाही के लिए जिम्मेदार है, जिससे दुनिया आज लड़ रही है। चीनी प्रीमियर शी जिनपिंग की तरह WHO के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेब्रेयिसस को भी इस घातक महामारी के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए।

टेड्रोस पर अपने गृह देश इथियोपिया में महामारी को कवर करने का आरोप लगाया गया था, जबकि वह WHO के निदेशक बनने से पहले सरकार के स्वास्थ्य मंत्री रहे थे। एक प्रमुख वैश्विक स्वास्थ्य विशेषज्ञ, जो WHO के शीर्ष स्थान के लिए टेड्रोस के प्रतिद्वंद्वी के लिए एक अनौपचारिक सलाहकार भी थे, ने उन पर इथियोपिया में तीन महामारी को कवर करने का आरोप लगाया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

‘घेरलू खान मार्केट की बिक्री कम हो गई है, इसीलिए अंतरराष्ट्रीय खान मार्केट मदद करने आया है’: विदेश मंत्री S जयशंकर का भारत विरोधी...

केंद्रीय विदेश मंत्री S जयशंकर ने कहा है कि ये 'खान मार्केट' बहुत बड़ा है, इसका एक वैश्विक वर्जन भी है जिसे अब 'इंटरनेशनल खान मार्केट' कह सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -