Saturday, May 15, 2021
Home रिपोर्ट अंतरराष्ट्रीय HIV की तरह शायद कभी खत्म न हो कोरोना वायरस, इसके साथ जीना सीखना...

HIV की तरह शायद कभी खत्म न हो कोरोना वायरस, इसके साथ जीना सीखना होगा: WHO

WHO के इमरजेंसी एक्सपर्ट डॉ. रयान के मुताबिक एचआईवी की तरह ही कोरोना वायरस का अस्तित्व हमेशा बना रह सकता है। ऐसे में इसके खत्म होने को लेकर अटकलें लगाने की बजाए इससे मुकाबले पर फोकस किया जाना चाहिए।

कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने आगाह किया है। कहा है कि यह वायरस शायद ही कभी खत्म हो इसलिए इसके साथ जीना सीखना होगा।

WHO के अनुसार एचआईवी की तरह इसका अस्तित्व हमेशा बना रह सकता है। ऐसे में इसके खत्म होने को लेकर अटकलें लगाने की बजाए इससे मुकाबले पर फोकस किया जाना चाहिए।

WHO के इमरजेंसी विशेषज्ञ (आपातकालीन बीमारियॉं) डॉ. माइक रयान (Mike Ryan) ने बुधवार (13 मई 2020) को एक ऑनलाइन ब्रीफिंग में ये बातें कही। उन्होंने कहा, “शायद यह वायरस कभी न जाए।”

डॉ. रयान ने बताया कि पहले भी कुछ बीमारियॉं आई और कभी खत्म नहीं हुई। मसलन, एचआईवी। उन्होंने कहा कि इन बीमारियों का इलाज खोजा गया ताकि लोग उसके साथ जी सकें।

डॉ. रयान ने कहा कि इस संक्रमण का एक प्रभावी टीका आने की उम्मीद है। लेकिन इसे बड़े पैमाने पर बनाने और दुनियाभर में इसे उपलब्ध कराने के लिए काफी काम करने की जरूरत होगी। उन्होंने कहा कि यह बता पाना मुश्किल है कि कब तक दुनिया इस संकट पर विजय प्राप्त कर लेगी।

उन्होंने कहा, “यह सार्वजनिक स्वास्थ्य आपदाओं का एक दुष्चक्र है, जिसके बाद आर्थिक आपदाएँ आती हैं। यह वायरस कभी दूर नहीं किया जा सकता है। जैसे हम एचआईवी को दूर नहीं कर पाएँ है। मगर हमने एचआईवी से निजात पा लिया है। हमने तमाम तरह के थेरेपी, टीके इसके रोकथाम के तरीके विकसित किए। अब लोगों को एचआईवी से उतना डर ​​नहीं लगता जितना पहले हुआ करता था। हमारी तमाम कोशिशों की वजह से हम एचआईवी लोगों को लंबा और स्वस्थ जीवन प्रदान कर रहे हैं।

रयान ने कहा किवे दो बीमारियों की तुलना नहीं कर रहें है। लेकिन यथार्थवादी होना ज़रूरी है। वर्तमान में 100 से अधिक टीके तैयार किए जा रहें है। खसरा जैसी अन्य बीमारियाँ हैं, जिनके टीके होने के बावजूद वो समाप्त नहीं हुए हैं।

उन्होंने कहा, “हमारे पास एक अत्यधिक प्रभावी वैक्सीन विकसित करने का तरीका है। लेकिन हमें उस वैक्सीन को सभी के लिए उपलब्ध कराना होगा, तभी इस बीमारी को खत्म करने की कोशिश की जा सकेगी।”

इस बीच, डब्लूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेबियस (Tedros Adhanom Ghebreyesus), जिन पर लोग चीनी महामारी को लेकर दुनिया को गुमराह करने का आरोप लग रहे हैं, ने कहा है कि अभी भी प्रयास के साथ वायरस को नियंत्रित करना संभव है।

डॉ. टेड्रोस ने बताया कि प्रतिबंधों में ढील से संक्रमण फैलेगा या नहीं, इसकी कोई गारंटी नहीं है। उनके अनुसार प्रतिबंधों में ढील से संक्रमण का फैलाव अपने दूसरे चरण में पहुँच सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

20 साल से जर्जर था अंग्रेजों के जमाने का अस्पताल: RSS स्वयंसेवकों ने 200 बेड वाले COVID सेंटर में बदला

कभी एशिया के सबसे बड़े अस्पतालों में था BGML। लेकिन बीते दो दशक से बदहाली में था। आरएसएस की मदद से इसे नया जीवन दिया गया है।

₹995 में Sputnik V, पहली डोज रेड्डीज लैब वाले दीपक सपरा को: जानिए, भारत में कोरोना के कौन से 8 टीके

जानिए, भारत को किन 8 कोरोना वैक्सीन से उम्मीद है। वे अभी किस स्टेज में हैं और कहाँ बन रही हैं।

3500 गाँव-40000 हिंदू पीड़ित, तालाबों में डाले जहर, अब हो रही जबरन वसूली: बंगाल हिंसा पर VHP का चौंकाने वाला दावा

वीएचपी ने कहा है कि ज्यादातार पीड़ित SC/ST हैं। कई जगहों पर हिंदुओं से आधार, वोटर और राशन कार्ड समेत कई दस्तावेज छीन लिए गए हैं।

दिल्ली: केजरीवाल सरकार ने फ्री वैक्सीनेशन के लिए दिए ₹50 करोड़, पर महज तीन महीने में विज्ञापनों पर खर्च कर डाले ₹150 करोड़

दिल्ली में कोरोना के फ्री वैक्सीनेशन के लिए केजरीवाल सरकार ने दिए 50 करोड़ रुपए, पर प्रचार पर खर्च किए 150 करोड़ रुपए

महाराष्ट्र: 1814 अस्पतालों का ऑडिट, हर जगह ऑक्सीजन सेफ्टी भगवान भरोसे, ट्रांसफॉर्मर के पास स्टोर किए जा रहे सिलेंडर

नासिक के अस्पताल में हादसे के बाद महाराष्ट्र के अस्पतालों में ऑडिट के निर्देश तो दे दिए गए, लेकिन लगता नहीं कि इससे अस्पतालों ने कुछ सीखा है।

प्रचलित ख़बरें

हिरोइन है, फलस्तीन के समर्थन में नारे लगा रही थीं… इजरायली पुलिस ने टाँग में मारी गोली

इजरायल और फलस्तीन के बीच चल रहे संघर्ष में एक हिरोइन जख्मी हो गईं। उनका नाम है मैसा अब्द इलाहदी।

दिल्ली में ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले पड़ोसी ने रखी सेक्स की डिमांड, केरल पुलिस से सेक्स के लिए ई-पास की डिमांड

दिल्ली में पड़ोसी ने ऑक्सीजन सिलेंडर के बदले एक लड़की से साथ सोने को कहा। केरल में सेक्स के लिए ई-पास की माँग की।

1971 में भारतीय नौसेना, 2021 में इजरायली सेना: ट्रिक वही-नतीजे भी वैसे, हमास ने ‘Metro’ में खुद भेज दिए शिकार

इजरायल ने एक ऐसी रणनीतिक युद्धकला का प्रदर्शन किया है, जिसने 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच हुए युद्ध की ताजा कर दी है।

गाजा पर गिराए 1000 बम, 160 विमानों ने 150 टारगेट पर दागे 450 मिसाइल: बोले नेतन्याहू- हमास को बहुत भारी कीमत चुकानी पड़ेगी

फलस्तीन के साथ हवाई संघर्ष के बीच इजरायल जमीनी लड़ाई की भी तैयारी कर रहा है। हथियारबंद टुकड़ियों के साथ 9000 रिजर्व सैनिकों की तैनाती।

जेल के अंदर मुख्तार अंसारी के 2 गुर्गों मेराज और मुकीम की हत्या, UP पुलिस ने एनकाउंटर में मारा गैंगस्टर अंशू को भी

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जेल में कैदियों के बीच गैंगवार की खबर। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस फायरिंग में जेल के अंदर दो बदमाशों की...

‘क्या प्रजातंत्र में वोट की सजा मौत है’: असम में बंगाल के गवर्नर को देख फूट-फूट रोए पीड़ित, पाँव से लिपट महिलाओं ने सुनाई...

बंगाल के गवर्नर हिंसा पीड़ितों का हाल जानने में जुटे हैं। इसी क्रम में उन्होंने असम के राहत शिविरों का दौरा किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,349FansLike
94,031FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe