Friday, July 1, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयHIV की तरह शायद कभी खत्म न हो कोरोना वायरस, इसके साथ जीना सीखना...

HIV की तरह शायद कभी खत्म न हो कोरोना वायरस, इसके साथ जीना सीखना होगा: WHO

WHO के इमरजेंसी एक्सपर्ट डॉ. रयान के मुताबिक एचआईवी की तरह ही कोरोना वायरस का अस्तित्व हमेशा बना रह सकता है। ऐसे में इसके खत्म होने को लेकर अटकलें लगाने की बजाए इससे मुकाबले पर फोकस किया जाना चाहिए।

कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने आगाह किया है। कहा है कि यह वायरस शायद ही कभी खत्म हो इसलिए इसके साथ जीना सीखना होगा।

WHO के अनुसार एचआईवी की तरह इसका अस्तित्व हमेशा बना रह सकता है। ऐसे में इसके खत्म होने को लेकर अटकलें लगाने की बजाए इससे मुकाबले पर फोकस किया जाना चाहिए।

WHO के इमरजेंसी विशेषज्ञ (आपातकालीन बीमारियॉं) डॉ. माइक रयान (Mike Ryan) ने बुधवार (13 मई 2020) को एक ऑनलाइन ब्रीफिंग में ये बातें कही। उन्होंने कहा, “शायद यह वायरस कभी न जाए।”

डॉ. रयान ने बताया कि पहले भी कुछ बीमारियॉं आई और कभी खत्म नहीं हुई। मसलन, एचआईवी। उन्होंने कहा कि इन बीमारियों का इलाज खोजा गया ताकि लोग उसके साथ जी सकें।

डॉ. रयान ने कहा कि इस संक्रमण का एक प्रभावी टीका आने की उम्मीद है। लेकिन इसे बड़े पैमाने पर बनाने और दुनियाभर में इसे उपलब्ध कराने के लिए काफी काम करने की जरूरत होगी। उन्होंने कहा कि यह बता पाना मुश्किल है कि कब तक दुनिया इस संकट पर विजय प्राप्त कर लेगी।

उन्होंने कहा, “यह सार्वजनिक स्वास्थ्य आपदाओं का एक दुष्चक्र है, जिसके बाद आर्थिक आपदाएँ आती हैं। यह वायरस कभी दूर नहीं किया जा सकता है। जैसे हम एचआईवी को दूर नहीं कर पाएँ है। मगर हमने एचआईवी से निजात पा लिया है। हमने तमाम तरह के थेरेपी, टीके इसके रोकथाम के तरीके विकसित किए। अब लोगों को एचआईवी से उतना डर ​​नहीं लगता जितना पहले हुआ करता था। हमारी तमाम कोशिशों की वजह से हम एचआईवी लोगों को लंबा और स्वस्थ जीवन प्रदान कर रहे हैं।

रयान ने कहा किवे दो बीमारियों की तुलना नहीं कर रहें है। लेकिन यथार्थवादी होना ज़रूरी है। वर्तमान में 100 से अधिक टीके तैयार किए जा रहें है। खसरा जैसी अन्य बीमारियाँ हैं, जिनके टीके होने के बावजूद वो समाप्त नहीं हुए हैं।

उन्होंने कहा, “हमारे पास एक अत्यधिक प्रभावी वैक्सीन विकसित करने का तरीका है। लेकिन हमें उस वैक्सीन को सभी के लिए उपलब्ध कराना होगा, तभी इस बीमारी को खत्म करने की कोशिश की जा सकेगी।”

इस बीच, डब्लूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेबियस (Tedros Adhanom Ghebreyesus), जिन पर लोग चीनी महामारी को लेकर दुनिया को गुमराह करने का आरोप लग रहे हैं, ने कहा है कि अभी भी प्रयास के साथ वायरस को नियंत्रित करना संभव है।

डॉ. टेड्रोस ने बताया कि प्रतिबंधों में ढील से संक्रमण फैलेगा या नहीं, इसकी कोई गारंटी नहीं है। उनके अनुसार प्रतिबंधों में ढील से संक्रमण का फैलाव अपने दूसरे चरण में पहुँच सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कन्हैया, उमेश, किशन… हत्या का एक जैसा पैटर्न, लिंक की पड़ताल कर रही NIA: रिपोर्ट में बताया- PFI कनेक्शन की भी हो रही जाँच

उदयपुर में कन्हैया लाल को काटा गया। अमरावती में उमेश कोल्हे तो अहमदाबाद में किशन भरवाड की हत्या की गई। बताया जा रहा है कि एनआईए इनके बीच लिंक की पड़ताल कर रही है।

नूपुर शर्मा हीरो, कन्हैया लाल की हत्या के लिए ‘जिहादी मुस्लिम’ जिम्मेदार: डच MP ने कहा- मुझे लगता था भारत में शरिया कोर्ट नहीं...

वाइल्डर्स का ट्वीट SC के कुछ जजों की टिप्पणी के जवाब में है, जिसमें उन्होंने शर्मा को कहा था कि उनके बयान की वजह से पूरे देश में आग लग गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,558FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe