Tuesday, August 16, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयनिकाह से इनकार करने पर मोहम्मद आदिल ने छात्रा को मार डाला था, अब...

निकाह से इनकार करने पर मोहम्मद आदिल ने छात्रा को मार डाला था, अब उसकी फाँसी का होगा LIVE प्रसारण: 19 बार घोंपा था चाकू, फिर काट डाला सिर

मोहम्मद आदिल को जून 2022 में मंसौरा विश्वविद्यालय की छात्रा नायरा अशरफ (Naira Ashraf) की सुनियोजित हत्या का दोषी पाया गया था।

मिस्र की एक अदालत ने रविवार (24 जुलाई 2022) को छात्रा नायरा अशरफ के हत्यारे की फाँसी की सजा लाइव (LIVE) दिखाने के आदेश दिए, ताकि बेरहमी से होने हत्याओं को रोका जा सके है। मंसौरा क्रिमिनल कोर्ट (Mansoura Criminal Court) ने संसद से कहा है कि वह हत्यारे की फाँसी के लाइव प्रसारण की अनुमति देने के लिए कानूनी संशोधन करें।

मोहम्मद आदिल (Mohamed Adel) को पिछले महीने (20 जून, 2022) मंसौरा विश्वविद्यालय की छात्रा नायरा अशरफ (Naira Ashraf) की सुनियोजित हत्या का दोषी पाया गया था। आदिल ने 26 जून को अपना गुनाह कुबूल किया था। उसने बताया था कि नायरा अशरफ के निकाह से इनकार करने पर वह आहत था। 20 जून को जब नायरा फाइनल एग्जाम देने के लिए मंसौरा विश्वविद्यालय में प्रवेश करने वाली थी। उसी वक्त आदिल ने दिनदहाड़े उसे 19 बार ताबड़तोड़ चाकू घोंपा और फिर उसका सिर काटकर उसकी हत्या कर दी।

हत्यारे ने अदालत में दावा किया कि वह अपने बचाव में घटना वाले दिन अपने साथ चाकू लेकर लाया था, लेकिन जब छात्रा ने उसे अपमानित किया तो उसने बिना कुछ सोचे-समझे उस पर हमला कर दिया।

अदालत ने 28 जून को मोहम्मद आदिल को फाँसी की सजा सुनाई थी। अदालत ने अपने आदेश में कहा कि लाइव सजा से उन लोगों में खौफ बढ़ेगा, जो इस तरह के अपराधों को अंजाम देते हैं। अदालत ने कहा कि उन्होंने हत्या करने से पहले और उसके बाद दोषी की मानसिक, मनोवैज्ञानिक स्थिति, पसंद और नापसंद का पता लगाया है। इसके साथ ही अदालत ने हत्यारे के अपराध की योजना, हत्या करने के लिए इस्तेमाल किए गए हथियार और उसके द्वारा तय की गई तारीख और स्थान के माध्यम से यह पता लगाया कि वह किस प्रवृति का है। सीसीटीवी कैमरों में कैद हुई हत्या ने पूरे मिस्र और मिडल ईस्ट को झकझोर कर रख दिया है।

बता दें कि जून में हत्यारे का एक वीडियो खूब वायरल हुआ था, जिसमें आदिल को मंसौरा में उसके विश्वविद्यालय के बाहर छात्रा को छुरा घोंपते हुए दिखाया गया था। एमनेस्टी इंटरनेशनल के अनुसार, मिस्र में हत्या के लिए अधिकतम सजा मौत है। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पता नहीं 9 सितंबर को क्या होगा’: ‘लाल सिंह चड्ढा’ का हाल देख कर सहमे करण जौहर, ‘ब्रह्मास्त्र’ के डायरेक्टर को अभी से दे...

क्या करण जौहर को रिलीज से पहले ही 'ब्रह्मास्त्र' के फ्लॉप होने का डर सता रहा है? निर्देशक अयान मुखर्जी के नाम उनके सन्देश से तो यही झलकता है।

‘उत्तराखंड में एक भी भ्रष्टाचारी नहीं बचेगा, 1064 नंबर पर करें शिकायत’: CM धामी ने पर्चा लीक का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को...

उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने UKSSSC पेपर लीक मामले का खुलासा करने वाली उत्तराखंड STF की टीम को स्वतंत्रता दिवस पर सम्मानित किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
214,085FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe