Monday, November 29, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयउइगर मुस्लिमों पर चीन की नजर दूसरे देशों तक, मुस्लिम देश मिस्र में 90...

उइगर मुस्लिमों पर चीन की नजर दूसरे देशों तक, मुस्लिम देश मिस्र में 90 से अधिक गिरफ्तार

अब्दुल अजीज ने ख़ुलासा कर बताया कि 90 से अधिक उइगरों की गिरफ़्तारी चीन के इशारे पर मिस्र में की गई थी।

चीन द्वारा उइगर मुस्लिमों के शोषण की ख़बर नई नहीं है। चीन अपने क़ैदखानों में उइगर मुस्लिमों को उनकी परंपराओं को भूलने, इस्लामी प्रथाओं की निंदा करने और कम्युनिस्ट पार्टी के प्रति वफ़ादार बनने को मजबूर करता है। इसी कड़ी में एक और ख़बर सामने आई है। खबर है कि एक उइगर छात्र मिस्र पढ़ाई करने गया। एक दिन उस छात्र अब्दुल मलिक अब्दुल अजीज को मिस्र की पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया, आँखों पर पट्टी बाँध दी। लेकिन जब उसकी आँखों पर से पट्टी हटाई गई तो वह चीनी अधिकारियों की हिरासत में था।

उइगर छात्र यह देख कर अचंभित था कि उसे गिरफ़्तार करके पुलिस उससे इस तरह पूछताछ कर रही है। ख़बर के अनुसार, छात्र को तब गिरफ़्तार किया गया जब वो अपने दोस्तों के साथ था और फिर उसे व उसके दोस्तों को काहिरा पुलिस स्टेशन में ले जाया गया, जहाँ चीनी अधिकारियों ने उससे पूछताछ की कि वो मिस्र में क्या कर रहा है?

चीनी अधिकारियों ने छात्र और उसके दोस्तों से चीनी भाषा में बात की और छात्र को चीनी नाम से संबोधित किया। बाद में अब्दुल अजीज ने ख़ुलासा कर बताया कि 2017 में 90 से अधिक उइगरों की गिरफ़्तारी चीन के इशारे पर मिस्र में की गई थी।

जुलाई 2017 के पहले हफ़्ते में 3 दिन तक हुई कार्रवाई के बारे में अब्दुल अजीज ने नए ख़ुलासे किए। उस वक़्त वो सुन्नी मुस्लिम शैक्षणिक संस्थान अल-अज़हर में इस्लामिक धर्मशास्त्र का छात्र था। आपको बता दें कि यह संस्थान दुनिया का सबसे प्रतिष्ठित संस्थान है।

चीन की इस हरक़त से इस बात का अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि वो उइगर मुस्लमानों को सताने की अपनी आदत से इतना मजबूर है कि उन्हें सताने के लिए वो दूसरे देश में भी षड्यंत्र रचने से बाज नहीं आ रहा है। दूसरे देशों में भी छात्रों तक की अचानक गिरफ़्तारी उइगरों के प्रति चीन की नीयत को साफ़तौर पर उजागर करती है।

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र ने चीन को उइगर मुस्लिमों के मानवाधिकारों का सम्मान करने की नसीहत दी थी। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने कहा कि चीन को उइगर मुस्लिमों के मानवीय अधिकारों की रक्षा करनी चाहिए। गुटेरस ने चीनी वार्ताकारों के साथ बातचीत में ये बातें कहीं। बीजिंग में बेल्ट एन्ड रोड फोरम में शामिल होने के बाद महासचिव ने इन मुद्दों को उठाया और चीन को नसीहत दी। इस सम्बन्ध में वे चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से भी मुलाकात कर चुके हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,346FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe