Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय31 का कामिर खान, 11 साल की बच्ची: 3 महीने में 4000 मैसेज भेजे,...

31 का कामिर खान, 11 साल की बच्ची: 3 महीने में 4000 मैसेज भेजे, यौन शोषण किया; निकाह करना चाहता था

31 साल के कामिर खान ने मात्र 3 महीने की अवधि में बच्ची को 4000 से भी अधिक मैसेज भेजे। इन मैसेजों में उसने दावा किया कि वो बच्ची से काफी प्यार करता है और उससे निकाह करना चाहता है। वो न सिर्फ अपनी भद्दी तस्वीरें उसे भेजता था, बल्कि बच्ची से भी कहता था कि वो अपनी नंगी तस्वीरें उसे भेजे।

यूनाइटेड किंगडम में एक व्यक्ति को बच्ची के यौन शोषण के आरोप में साढ़े 4 साल कारावास की सज़ा सुनाई गई है। उत्तरी इंग्लैंड के साउथ यॉर्कशायर की पुलिस ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि रॉदरम के रहने वाले कामिर खान ने एक 11 साल की बच्ची से स्नैपचैट के माध्यम से दोस्ती थी, फिर उसका यौन शोषण किया। उसने नाबालिग को झाँसा देने की कोशिश की। फ़रवरी और मार्च 2019 में उसने बच्ची को गलत तरीके से छुआ था

31 साल के कामिर खान ने मात्र 3 महीने की अवधि में बच्ची को 4000 से भी अधिक मैसेज भेजे। इन मैसेजों में उसने दावा किया कि वो बच्ची से काफी प्यार करता है और उससे निकाह करना चाहता है। वो न सिर्फ अपनी भद्दी तस्वीरें उसे भेजता था, बल्कि बच्ची से भी कहता था कि वो अपनी नंगी तस्वीरें उसे भेजे। वो व्हाट्सप्प पर भी उसका पीछा करता था। हालाँकि, राहत की बात ये है कि बच्ची ने उसकी बात नहीं मानी और तस्वीरें नहीं भेजी।

पुलिस ने बताया कि कामिर खान के विकृत क्रियाकलापों के बारे में तब खुलासा हुआ, जब बच्ची की माँ ने अपनी बेटी का फोन चेक किया। उसमें उन्होंने देखा कि ‘जायन’ नाम से कई मैसेज आए हुए हैं तो उन्हें शक हुआ। पीड़ित बच्ची उस समय तक अवसाद में दिख रही थी, जिसके बाद उसने अपनी माँ को और परिजनों ने पुलिस को इसकी सूचना दी। जाँच अधिकारी रेचल स्कॉट ने बताया कि बच्ची की कमजोरी और कम उम्र का फायदा उठाते हुए आरोपित ने उसे अपना शिकार बनाना चाहा।

कामिर खान बच्ची को ये एहसास दिलाने की कोशिश में लगा हुआ था कि वो उसका बॉयफ्रेंड है और इस तरह के रिश्ते में वे चीजें सामान्य हैं, जो वो करने को कह रहा है। पुलिस ने बताया कि वो बच्ची बहादुर है, इसलिए पूरी जाँच प्रक्रिया और पूछताछ के दौरान वो मजबूत बनी रहीं, जिस पर गर्व होना चाहिए। उसने जाँच में काफी मदद भी की। पुलिस ने बताया कि तमाम सबूतों के बाद कामिर खान ने आरोप कबूल कर लिया।

पुलिस ने आरोपित को लेकर दी जानकारी

पुलिस का कहना है कि आरोपित बच्चों के लिए एक खतरा है और उसका जेल में रहना आवश्यक है। साथ ही पुलिस ने नाबालिग बच्चों को सलाह दी है कि वो अपनी अंतरंग तस्वीरें किसी को भी भेजने से बचें। अपनी व्यक्तिगत डिटेल्स भी किसी के साथ शेयर न करें। अभिभावकों से कहा है कि उनके बच्चे अगर सोशल मीडिया पर हैं, तो वो निगरानी रखें कि वो किस से बात कर रहे हैं और किन-किन से सम्पर्क में हैं।

कामिर खान ने स्वीकार किया है कि उसने दो बार 11 वर्षीय बच्ची का यौन शोषण किया। उसने उसे गलत तरीके से छुआ, यौन सम्बन्ध बनाने के लिए उसे उकसाया और अश्लील मैसेज भेजे। उसे बुधवार (नवंबर 25, 2020) को शेफील्ड क्राउन कोर्ट में प्रस्तुत किया गया। उसका नाम ‘सेक्स ऑफेंडर रजिस्टर’ में भी दर्ज किया जाएगा। लोगों ने आरोपित के लिए लम्बी सज़ा की माँग की है।

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऐसे जो भी मामले सामने आते हैं, उसमें आरोपितों के अपराधों को छिपाने के लिए विकिपीडिया जैसे प्लेटफॉर्म्स भरसक कोशिश करते हैं। हाल ही में अमेरिका से एक मामला सामने आया था, जहाँ रोडनी रीड नामक व्यक्ति ने कई महिलाओं को अपना शिकार बनाया, जिनमें एक विकलांग और एक 12 साल की बच्ची भी शामिल थी। बाद में उसे स्टेसी नामक महिला की रेप कर हत्या कर दी। हालाँकि, विकिपीडिया ने उसके इतिहास को छिपा लिया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -