Wednesday, May 25, 2022
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयविकिपीडिया ने बलात्कारी, हत्यारे के अपराधों को एडिट कर छुपाया, सिर्फ उसके पक्ष की...

विकिपीडिया ने बलात्कारी, हत्यारे के अपराधों को एडिट कर छुपाया, सिर्फ उसके पक्ष की बातें बताईं

इसी तरह अगस्त 2020 में बेंगलुरु में हुए दंगों पर दी गई जानकारी के शुरुआती हिस्से में विकिपीडिया में “clash” शब्द का इस्तेमाल किया गया था। विकिपीडिया के अनुसार, यह टकराव था। जबकि वीडियो में साफ़ देखा जा सकता था कि दंगों के दौरान अल्लाह-हु-अकबर के नारे लग रहे थे।

अमेरिका के एक्टिविस्ट जैक पोसोबिक ने विकिपीडिया को लेकर बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने उस पर एक नृशंस वारदात के अपराधी की करतूतों को छिपाने का आरोप लगाया है। उनका आरोप है कि विकिपीडिया एक बलात्कारी व हत्यारे के अपराधों को छिपा रहा है। उन्होंने विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि स्टेसी सिटिस नामक महिला अपनी कम्पनी में अतिरिक्त घंटे काम कर रही थीं, ताकि वो अपनी शादी के लिए एक ड्रेस ले सके। एक बार जॉब से लौटते समय उन्होंने सुबह के साढ़े 3 बजे एक व्यक्ति की मदद के लिए उसे लिफ्ट दिया।

उस व्यक्ति का नाम रोडनी रिड था। अमेरिकी एक्टिविस्ट ने बताया कि स्टेसी ये नहीं जानती थीं कि रोडनी इससे पहले भी कई महिलाओं को इसी तरह से अपना शिकार बना चुका है, जिनमें एक विकलांग और एक 12 साल की बच्ची भी शामिल थी। बाद में स्टेसी की लाश भी एक पेड़ के पास मिली। जैक ने बताया कि रोडनी का सीमेन और थूक स्टेसी के मृत शरीर के हर हिस्से पर पड़ा हुआ था। रिड पर पुलिस का भी शक गया।

उसने शुरू में इस मामले को घुमाने की कोशिश की और दावा किया कि स्टेसी के साथ उसका अफेयर था। उससे पहले वो ट्रायल के दौरान कह रहा था कि वो स्टेसी को जानता ही नहीं है। जबकि स्टेसी की बहन का कहना है कि वो अपने मंगेतर के साथ खुश थी और अतिरिक्त घंटे काम कर रही थी, ऐसे में उसके पास किसी और के साथ अफेयर के लिए समय तक नहीं था। स्टेसी को शादी के ड्रेस में ही दफनाया गया। उसके मंगेतर ने उसे रिंग भी पहनाया।

उन्होंने आरोप लगाया कि अब डॉक्टर फिल और किम करदाशियाँ जैसी हस्तियाँ आरोपित के पक्ष में आवाज़ उठा रही हैं। अब खुलासा हुआ है कि विकिपेडिया ने भी रोडनी रिड की सारी आपराधिक करतूतों को छिपा दिया और उसके इतिहास को लेकर सिर्फ वही चीजें बताईं, जो उसके वकीलों ने बताया था। आरोप है कि पीड़िता के पास मिले सीमेन के उसके DNA से मैच होने के बावजूद विकिपीडिया ऐसा कर रहा है।

उसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में जो याचिका दायर की गई है, उस सम्बन्ध में भी विकिपीडिया पर सब कुछ छिपा लिया गया है। इसमें बताया गया है कि लगभग एक साल तक चली जाँच के दौरान स्टेसी के बलात्कार एवं हत्या के मामले में सैकड़ों लोगों का इंटरव्यू लिया और 28 पुरुषों के DNA के साथ सीमेन के सैम्पल को मैच कराया, लेकिन सिर्फ एक व्यक्ति से ही ये मैच हुआ। इसे ‘फॉरेन DNA’ को मैच कराना कहते हैं।

इसमें बताया गया है कि इससे पहले भी उसे 19 वर्ष की एक युवती की पिटाई करने और उसके साथ बलात्कार और उसकी हत्या की कोशिश के आरोप में गिरफ्तार किया था। स्टेसी के अलावा एक अन्य महिला भी ठीक इसी समय पर गायब हुई थी और उसकी लाश भी इसी रूट में मिली थी। रिड ने अपनी विकलांग गर्लफ्रेंड के साथ भी बलात्कार किया था। DNA एक्सपर्ट्स के इस क्लेम के बावजूद विकिपीडिया की हरकत शर्मनाक है। अब सवाल उठ रहे हैं कि विकिपीडिया को एक बलात्कारी व हत्यारे के अपराधों को छिपाने की क्या ज़रूरत है?

इसी तरह अगस्त 2020 में बेंगलुरु में हुए दंगों पर दी गई जानकारी के शुरुआती हिस्से में विकिपीडिया में “clash” शब्द का इस्तेमाल किया गया था। विकिपीडिया के अनुसार, यह टकराव था। टकराव के असल मायने यह होते हैं, जब दो अलग धर्म या समुदाय के लोगों के बीच किसी विवाद को लेकर टकराव की स्थिति बनती है। जबकि दंगों के वीडियो में साफ़ देखा जा सकता था कि हिंसा के दौरान अल्लाह-हु-अकबर के नारे लग रहे थे।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकियों ने कश्मीरी अभिनेत्री की गोली मार कर हत्या की, 10 साल का भतीजा भी घायल: यासीन मलिक को सज़ा मिलने के बाद वारदात

जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने कश्मीरी अभिनेत्री अमरीना भट्ट की गोली मार कर हत्या कर दी है। ये वारदात केंद्र शासित प्रदेश के चाडूरा इलाके में हुई, बडगाम जिले में स्थित है।

यासीन मलिक के घर के बाहर जमा हुई मुस्लिम भीड़, ‘अल्लाहु अकबर’ नारे के साथ सुरक्षा बलों पर हमला, पत्थरबाजी: श्रीनगर में बढ़ाई गई...

यासीन मलिक को सजा सुनाए जाने के बाद श्रीनगर स्थित उसके घर के बाहर उसके समर्थकों ने अल्लाहु अकबर की नारेबाजी की। पत्थर भी बरसाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,823FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe