Wednesday, July 28, 2021
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयहलाल के नाम पर दुनिया भर के मुस्लिमों को खिलाया घोड़े-कंगारू का मीट, 40...

हलाल के नाम पर दुनिया भर के मुस्लिमों को खिलाया घोड़े-कंगारू का मीट, 40 साल से कर रहा था धंधा

चीन, यूक्रेन, दक्षिण अमेरिका के गैर-हलाल बूचड़खानों से घोड़ों और कंगारूओं का मीट खरीद कर उन्हें बीफ में मिला दिया जाता था। इसके बाद पूरी दुनिया के मुस्लिम देशों में सप्लाई किया जाता था।

मलेशिया को दुनिया का सबसे बड़ा हलाल एक्सपोर्टर बनना था। अब शायद दिक्कत आएगी! हलाल के नाम पर वहाँ के एक गैंग (कई कंपनियाँ भी हो सकती हैं शामिल) ने बहुत बड़ा घोटाला किया है। इससे दुनिया के न सिर्फ तमाम मुस्लिम देश बल्कि खुद मलेशिया की 60% मुस्लिम आबादी भी गुस्से में है।

न्यू स्ट्रेट टाइम्स के अनुसार मलेशिया यह गैंग पिछले 40 सालों से हलाल के नाम पर घोटाला करते आ रही थी। चीन, यूक्रेन और दक्षिण अमेरिका के गैर-हलाल बूचड़खानों से यह गैंग घोड़ों और कंगारूओं तक का मीट खरीदती थी। इसके बाद अधिकारियों को रिश्वत खिला कर उन्हें बीफ में मिला कर पूरी दुनिया के मुस्लिम देशों में सप्लाई करती थी।

मलेशिया की पुलिस ने इस मामले में अभी तक एक गिरफ्तारी की है। लेकिन कंपनी या किसी के नाम का खुलासा नहीं किया गया है। वहाँ की सरकार ने रॉयल कमिशन ऑफ इंक्वॉयरी का गठन करने पर भी विचार किया है, जिसे लेकर धार्मिक मामलों के मंत्री ने कहा कि यह इस तरह के अपराध की जड़ तक पहुँचने का सबसे जरूरी कदम होगा।

हलाल के नाम पर इस घोटाले के उजागर होने का मीट व्यापार पर इतना बड़ा असर पड़ा है कि कुआला लम्पुर के 6000 हॉकरों को बीफ संबंधी सामग्रियों को बेचने की मनाही की गई है। मलेशिया का यह गैंग इतना शातिर था कि जो कंपनियाँ सारे प्रोटोकॉल फॉलो करते हुए हलाल मीट प्रोसेस करती थी, उनमें भी यह मिलावट करते थे।

मिलावट का यह तरीका ही इनका यूनिक बिजनेस मॉडल था, जो 40 सालों तक चला। घोड़े-कंगारूओं के गैर-हलाल मीट को यह गैंग अकेले नहीं बेचता था। इससे पकड़े जाने का खतरा था। इसलिए ये गैर-हलाल मीट बंदरगाहों से अधिकारियों को रिश्वत देकर डायरेक्ट वेयरहाउस में लाया जाता था। यहाँ हलाल सर्टिफायड मीट और बीफ के साथ इन्हें मिक्स कर दिया जाता था। इसके बाद फेक हलाल लोगो वाले पैकेट में फिर से इन्हें पैक कर दुनिया भर के मुस्लिम देशों में भेजा जाता था।

हलाल का बिजनेस 2.3 ट्रिलियन डॉलर का है। मलेशिया फिलहाल अकेले 9 बिलियन डॉलर का एक्सपोर्ट करता है।

हलाल मांस = जिहाद

किसी भी भोज्य पदार्थ, चाहे वे आलू के चिप्स क्यों न हों, को ‘हलाल’ तभी माना जा सकता है, जब उसकी कमाई में से एक हिस्सा ‘ज़कात’ में जाए- जिसे वे जिहादी आतंकवाद को पैसा देने के ही बराबर मानते हैं, क्योंकि हमारे पास यह जानने का कोई ज़रिया नहीं है कि ज़कात के नाम पर गया पैसा ज़कात में ही जा रहा है या जिहाद में। और जिहाद काफ़िर के खिलाफ ही होता है- जब तक यह इस्लाम स्वीकार न कर ले!

यानी जब कोई गैर-मुस्लिम हलाल वाला भोजन खरीदता है, तो वह उसका एक हिस्सा अपने ही खिलाफ होने जा रहे जिहाद को आर्थिक सहायता देने में खर्च करता है। इसे ‘हलालो-नॉमिक्स’ यानी हलाल का अर्थशास्त्र कहते हैं। “हलालो-नॉमिक्स का अर्थ है आप अपनी सुपारी खुद दे रहे हैं।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साँवरें के रंग में रंगी हरियाणा की तेजतर्रार महिला IPS भारती अरोड़ा, श्रीकृष्‍ण भक्ति के लिए माँगी 10 साल पहले स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने इस खबर की पुष्टि की है। उन्होंने बताया है कि अंबाला रेंज की आइजी भारती अरोड़ा ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है।

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe