Thursday, June 13, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयमहिला पत्रकार ने नौकरी नहीं छोड़ी तो शौहर दिलावर ने की हत्या, 7 महीने...

महिला पत्रकार ने नौकरी नहीं छोड़ी तो शौहर दिलावर ने की हत्या, 7 महीने पहले ही हुआ था निकाह

उरूज इकबाल एक क्राइम रिपोर्टर थीं। नौकरी छोड़ने के लिए दिलावर उन पर लगातार दबाव बना रहा था। उससे तंग आकर वह दफ्तर के पास ही कमरा लेकर रहने लगी। दिलावर ने दफ्तर के बाहर ही उनके सिर में गोली मार दी।

पाकिस्तान में 27 वर्षीय एक महिला पत्रकार की उसके शौहर ने गोली मारकर हत्या कर दी। जानकारी के अनुसार शौहर नहीं चाहता था कि उसकी बीवी नौकरी करे। कई बार वह नौकरी छोड़ने का दबाव भी बना चुका था। हैरान करने वाली बात ये है कि मृतका का पति खुद भी एक पत्रकार है और दोनों ने 7 महीने पहले ही अपनी मर्जी से (लव मैरेज) से निकाह किया था।

उरूज इकबाल नामक महिला एक उर्दू अखबार में पत्रकार थी। सोमवार (नवंबर 25, 2019) को लाहौर में किला गुज्जर सिंह के पास स्थित अपने दफ्तर में वह प्रवेश कर रही थी, तभी शौहर दिलावर अली ने उसके सिर पर गोली चला दी। उरूज को फौरन अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उसकी जिंदगी नहीं बचाई जा सकी।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मृतका के भाई यासिर इकबाल ने शिकायत दर्ज कराई है। मामले की जाँच जारी है। महिला का पति भी एक उर्दू अखबार में पत्रकार का काम करता है। इकबाल ने अपनी शिकायत में बताया कि उसकी बहन ने अली से 7 महीने पहले निकाह किया था, लेकिन कुछ समय बाद दोनों के रिश्तों में घरेलू कारणों से खटास आ गई। अली लगातार उसे नौकरी छोड़ने के लिए कहता था। इकबाल के मुताबिक अली लगातार उसकी बहन को परेशान कर रहा था और हाल ही में उन्होंने इस संबंध में उसके ख़िलाफ़ शिकायत भी दर्ज करवाई थी, लेकिन उस समय पुलिस ने अली के ख़िलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।

उल्लेखनीय है कि उरूज इकबाल एक क्राइम रिपोर्टर थीं। जो अपने शौहर से घरेलू नोक-झोंक के बाद अपने ऑफिस के पास ही एक बिल्डिंग में कमरा लेकर रहती थीं। लेकिन अली से ये बर्दाशत नहीं हुआ और दफ्तर के बाहर पहुँचकर उसने अपनी बीवी की हत्या कर दी। उरूज की हत्या के बाद पुलिस सीसीटीवी फुटेज खँगालने में जुटी है और प्राप्त सभी सबूतों को फॉरेंसिक जाँच के लिए भेजा जा रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -