Friday, July 19, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीयलड़कियाँ नहीं पहन सकेंगी शॉर्ट्स-स्लीवलेस, सार्वजानिक स्थानों पर 'प्रेम दिखाने' की मनाही: क़तर में...

लड़कियाँ नहीं पहन सकेंगी शॉर्ट्स-स्लीवलेस, सार्वजानिक स्थानों पर ‘प्रेम दिखाने’ की मनाही: क़तर में FIFA वर्ल्ड कप दर्शकों के लिए कड़े नियम, सेक्स पर भी पहरा

वेबसाइट के मुताबिक, सड़कों या सार्वजनिक स्थानों पर प्रेम प्रदर्शित करने की मनाही है। हाथ पकड़ना इसमें शामिल नहीं है। निर्देश के मुताबिक, मेहमानों को सार्वजनिक रुप से अंतरंगता दिखाने से बचना चाहिए।

20 नवंबर से फीफा वर्ल्ड कप 2022 (FIFA World Cup 2022) की शुरुआत हो रही है। इस साल कतर में फुटबॉल वर्ल्ड कप का आयोजन हो रहा है। यह पहला मौका है, जब किसी एशियाई देश को फुटबॉल वर्ल्ड कप के मेजबानी का मौका मिल रहा है। अनुमान है कि फीफा वर्ल्ड कप के लिए 10 लाख से ज्यादा खेल प्रेमी कतर पहुँचेंगे। फुटबॉल विश्व कप के दौरान जहाँ एक तरफ टीमें मैच खेल रही होती हैं, वहीं दूसरी तरफ तो प्रशंसक मैदान के दर्शक दीर्घा से लेकर बाहर तक जमकर पार्टी और हुड़दंग करते हैं।

इसलिए, मेजबान देश फुटबॉल टीमों के साथ-साथ प्रशंसकों के लिए भी व्यापक इंतजाम करते हैं। इस बार फुटबॉल फैंस को दूसरे फीफा वर्ल्ड कप की तरह एन्जॉय करने का मौका नहीं मिलने वाला। इसकी वजह है मेजबान देश कतर, जो एक इस्लामी मुल्क है। कतर एक छोटा, कट्टर और रूढ़िवादी मुस्लिम देश है, इसलिए वहाँ प्रशंसकों को दूसरे देशों की तरह छूट नहीं मिलेगी।

फीफा 2022 की क़तर की आधिकारिक वेबसाइट के ‘कल्चरल अवेयरनेस सेक्शन’ में विजिटर्स के लिए कपड़े, शराब और फोटोग्राफी के लिए दिशानिर्देश जारी किए गए हैं।

कंधों और घुटनों को ढँकना जरूरी

कपड़ों से जुड़े दिशानिर्देशों के अनुसार, कतर आने वाले मेहमान आमतौर पर अपनी पसंद के कपड़े पहन सकते हैं, परंतु म्यूजियम, अन्य सरकारी भवनों और सार्वजनिक स्थानों पर अपने कंधों और घुटनों को ढँकने की सलाह दी गई है। कतर की सरकारी पर्यटन वेबसाइट ने पुरुषों और महिलाओं को वहाँ की संस्कृति का सम्मान करने के लिए कहा है। कतर में सार्वजनिक स्थानों पर पारदर्शी कपड़े, शॉट्स और स्लीवलेस पहन कर घूमने की मनाही है।

दावा किया गया है कि शराब स्थानीय संस्कृति का हिस्सा नहीं है, इसलिए कतर में हर जगह शराब नहीं मिलता। शराब केवल ऐसे होटल, रेस्ट्रॉं और बार में परोसी जाएगी, जिनके पास लाइसेंस है। अन्य स्थानों पर शराब पीना गैर-कानूनी है। गैर-मुस्लिम घर पर शराब पी सकते हैं, लेकिन उनके पास लाइसेंस होना आवश्यक है। वर्ल्ड कप में फैंस स्टेडियम के भीतर ‘बडवाइजर’ बियर खरीद सकेंगे। फुटबॉल प्रशंसक शाम के समय ‘फैन जोन’ में शराब पी सकते हैं।

आम तौर पर, कतर में सार्वजनिक जगह पर शराब पीने पर भारी जुर्माना और जेल की सजा दी जाती है।

फोटोग्राफी से जुड़े निर्देश

तस्वीर लेते समय भी शिष्टाचार पालन करने की बात कही गई है। निर्देश के अनुसार, फुटबॉल विश्व कप के दौरान कतर आने वाले लोगों को सलाह दी गई है कि वे किसी की भी तस्वीरें लेने/वीडियो शूट करने से पहले उनसे अनुमति माँगें। इसके अलावा सरकारी भवनों की तस्वीरें लेने की अनुमति नहीं है।

कतर में अविवाहित महिलाओं और पुरुषों के बीच सेक्सुअल रिलेशनशिप अपराध की श्रेणी में आती है। हालाँकि, सरकारी पर्यटन वेबसाइट पर कहा गया है कि वर्ल्ड कप के दौरान अविवाहित कपल होटल रूम शेयर कर सकते हैं। वेबसाइट के मुताबिक, सड़कों या सार्वजनिक स्थानों पर प्रेम प्रदर्शित करने की मनाही है। हाथ पकड़ना इसमें शामिल नहीं है। निर्देश के मुताबिक, मेहमानों को सार्वजनिक रुप से अंतरंगता दिखाने से बचना चाहिए।

कतर के कानून के अनुसार, ‘क्रॉस ड्रेसिंग’ (किसी पुरुष द्वारा महिला या महिला द्वारा पुरुष के कपड़े पहनना) और लेस्बियन सेक्स अपराध है।

18 दिसंबर को होगा फाइनल मुकाबला

बता दें कि कतर में 20 नवंबर से शुरू होने जा रहे फुटबॉल विश्व कप टूर्नामेंट में 32 टीमें भाग ले रही हैं। लगभग एक महीने तक चलने वाले इस टूर्नामेंट में कुल 64 मैच खेले जाएँगे। 20 नवंबर को मेजबान कतर और इक्वाडोर के बीच मैच से फीफा वर्ल्ड कप 2022 की शुरुआत होगी। फाइनल मुकाबले की बात करें तो यह यह 18 दिसंबर को खेला जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -