Tuesday, April 23, 2024
Homeरिपोर्टअंतरराष्ट्रीय'...पागल कुत्ते के बगल में सो नहीं सकते': बौद्ध भिक्षु आशिन विराथु को म्यांमार...

‘…पागल कुत्ते के बगल में सो नहीं सकते’: बौद्ध भिक्षु आशिन विराथु को म्यांमार ने किया रिहा, मुस्लिमों के प्रति कट्टर सोच के लिए फेमस

"मुसलमान अफ्रीकी कार्प की तरह हैं। वे जल्दी जनसंख्या बढ़ाते हैं और बहुत हिंसक होते हैं और वे अपनी तरह से खाते हैं। भले ही वे यहाँ अल्पसंख्यक हैं, लेकिन वे हमारे ऊपर जो बोझ डालते हैं, हम उसे भुगत रहे हैं। आप दया और प्रेम से भरे हो सकते हैं लेकिन आप पागल कुत्ते के बगल में नहीं सो सकते।"

फायरब्रांड बौद्ध भिक्षु आशिन विराथु को, पूर्व नेता आंग सान सू की के खिलाफ कथित अपमानजनक टिप्पणी के लिए उन पर देशद्रोह के आरोप लगाए जाने के दो साल बाद, सोमवार को बर्मी सेना द्वारा जेल से रिहा कर दिया गया।

महीनों तक भगोड़े के रूप में फरार रहने के बाद आखिरकार पिछले साल नवंबर में उन्होंने सरेंडर कर दिया था। आशिन विराथु पर नागरिक सरकार के खिलाफ ‘घृणा या अवमानना’ और ‘असंतोष भड़काने’ का आरोप लगाया गया था। म्यांमार सेना के प्रवक्ता, मेजर जनरल ज़ॉ मिन टुन ने कहा, “मामला बंद कर दिया गया था और उन्हें आज शाम रिहा कर दिया गया था लेकिन बाहर आने से पहले वह अभी भी तातमाडॉ अस्पताल में चिकित्सा लाभ ले रहे हैं।”

यह स्पष्ट नहीं है कि भिक्षु सैन्य अस्पताल में इलाज क्यों करवा रहे थे या वह किसका इलाज करवा रहे थे। म्यांमार में बौद्ध भिक्षु की रिहाई नागरिक सरकार के अपदस्थ होने के महीनों बाद हुई है।

कौन हैं आशिन विराथु

2013 में टाइम मैगज़ीन द्वारा आशिन विराथु को ‘बौद्ध आतंक का चेहरा’ करार दिया गया था। कुछ लोगों द्वारा उन्हें ‘बौद्ध बिन लादेन’ भी कहा गया है। टाइम मैगज़ीन में भिक्षु के हवाले से कहा गया था, “(मुसलमान) इतनी तेजी से जनसंख्या बढ़ा रहे हैं, और वे हमारी महिलाओं को अपनी जाल में फँसा कर गायब कर रहे हैं, उनका बलात्कार कर रहे हैं। वे हमारे देश पर कब्जा करना चाहेंगे, लेकिन मैंने उन्हें ऐसा नहीं करने दिया। हमें म्यांमार को बौद्ध रखना चाहिए।”

अपने हिस्से के लिए, विराथु ने टाइम मैगज़ीन पर ‘गंभीर मानवाधिकारों का उल्लंघन’ करने का आरोप लगाया, उन्हें अपने लेख में शब्दशः उद्धृत नहीं किया। “इससे पहले मैंने अरब दुनिया को वैश्विक मीडिया पर हावी होने के बारे में सुना था। लेकिन इस बार, मैंने इसे अपने लिए देखा है।”

2013 में एक अन्य साक्षात्कार में, उन्होंने घोषणा की, “मुसलमान अफ्रीकी कार्प की तरह हैं। वे जल्दी प्रजनन करते हैं और वे बहुत हिंसक होते हैं और वे अपनी तरह से खाते हैं। भले ही वे यहाँ अल्पसंख्यक हैं, लेकिन वे हमारे ऊपर जो बोझ डालते हैं, हम उसे भुगत रहे हैं।” एक अन्य अवसर पर, उन्होंने कहा, “आप दया और प्रेम से भरे हो सकते हैं लेकिन आप पागल कुत्ते के बगल में नहीं सो सकते।”

भिक्षु ने ‘969 आंदोलन’ का नेतृत्व किया, एक बौद्ध पुनरुत्थानवादी आंदोलन जिसने मुसलमानों के सामाजिक और आर्थिक बहिष्कार की वकालत की और बौद्ध महिलाओं और मुस्लिम पुरुषों के बीच विवाह पर प्रतिबंध लगाने की माँग की। इस आंदोलन के ऐसे नाम की प्रेरणा उन्हें बौद्ध धर्मग्रंथों से आती है, पहले 9 बुद्ध के नौ विशेष गुणों को दर्शाते हैं, 6 उनके धर्म की छह विशेष विशेषताओं का प्रतिनिधित्व करते हैं और 9 बौद्ध मठवासी आदेश, या बौद्ध संघ के नौ गुणों का प्रतिनिधित्व करते हैं।

कुछ भिक्षुओं का मानना ​​है कि उन्होंने समुदायों के बीच नफरत फैलाई है। बहरहाल, जब टाइम मैगज़ीन ने उन्हें बौद्ध आतंक का चेहरा घोषित किया, तो देश के तत्कालीन राष्ट्रपति थेन सीन ने पत्रिका की आलोचना की और उस पर बौद्ध धर्म को बदनाम करने का आरोप लगाया। उन्होंने विराथु को ‘बुद्ध के पुत्र’ के रूप में वर्णित किया और शांति के लिए प्रतिबद्ध ‘महान व्यक्ति’ के रूप में उनका बचाव किया।

अपने हिस्से के लिए, विराथु ने दावा किया, “मैं अपने प्रियजनों की रक्षा कर रहा हूँ, जैसे आप अपने प्रियजन की रक्षा करेंगे। मैं केवल लोगों को मुसलमानों के बारे में चेतावनी दे रहा हूँ। इसे ऐसे समझें कि आपके पास एक कुत्ता है, जो आपके घर आने वाले अजनबियों पर भौंकता है- यह आपको चेतावनी देने के लिए है। मैं उस कुत्ते की तरह हूँ। मैं भौंकता हूँ।”

आशिन विराथु को उनके उपदेशों के लिए 2003 में भी गिरफ्तार किया गया था और उन्हें 9 साल जेल में बिताने पड़े थे। इसके बावजूद, उन्होंने देश में अपना सम्मानजनक स्थान बनाएं रखा। वह बौद्ध धर्म के थेरवाद स्कूल से संबंधित हैं। कुछ का मानना ​​है कि वह बर्मी सेना के साथ बने लीग का हिस्सा हैं।

बांग्लादेशी मामलों के विशेषज्ञ मुंशी फैज़ अहमद ने अरब न्यूज़ को बताया, “म्यांमार की सेना को देश के बौद्धों तक पहुँचने के लिए एक बड़े माध्यम की ज़रूरत थी। म्यांमार में बौद्धों पर राजनेताओं की तुलना में भिक्षुओं का अधिक प्रभाव है, इसलिए शक्तिशाली सेना ने विराथु को अपने उद्देश्य की पूर्ति के लिए भर्ती किया क्योंकि चरमपंथी भिक्षु के कुछ कट्टर अनुयायी हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “एक तरफ, महत्वाकांक्षी विराथु अपने अनुयायियों की संख्या बढ़ाना चाहते थे और दूसरी तरफ सेना अपनी शक्ति को मजबूत करना चाहती थी। इसलिए सेना के जनरलों ने रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ नफरत फैलाने में चरमपंथी बौद्ध भिक्षु का समर्थन करना शुरू कर दिया।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तेजस्वी यादव ने NDA के लिए माँगा वोट! जहाँ से निर्दलीय खड़े हैं पप्पू यादव, वहाँ की रैली का वीडियो वायरल

तेजस्वी यादव ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा है कि या तो जनता INDI गठबंधन को वोट दे दे, वरना NDA को देदे... इसके अलावा वो किसी और को वोट न दें।

नेहा जैसा न हो MBBS डॉक्टर हर्षा का हश्र: जिसके पिता IAS अधिकारी, उसे दवा बेचने वाले अब्दुर्रहमान ने फँसा लिया… इकलौती बेटी को...

आनन-फानन में वो नोएडा पहुँचे तो हर्षा एक अस्पताल में जली हालत में भर्ती मिलीं। यहाँ पर अब्दुर्रहमान भी मौजूद मिला जिसने हर्षा के जलने के सवाल पर गोलमोल जवाब दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe